Monday, November 01, 2010

कैसे दीप जलाऊं मैं


बचपन भीख मांगता है जब चौराहे पर,
यौवन की उम्मीद है बिकती जब कोठे पर.
और बुढ़ापे की सूनी आँखें भी मौत ढूँढती,
 कैसे दीप जलाऊं मैं, बतलाओ  दर पर.

            कहीं रोशनी इतनी आँखें चुंधियाँ जाती,
            कहीं अँधेरा इतना, रजनी ठोकर खाती.
            हैं दोनों इंसान, मगर यह अंतर क्यों है ?
            बेच रहे क्यों झूठ कि यह किस्मत की थाती.

भूखे पेट, नग्न तन बच्चे, ढूंढ  रहे  कूड़े में  खाना,
साड़ी फटी झांकते तन पर,गिद्ध द्रष्टि का लगा निशाना.
बनें योजना कागज़ पर ही,रोटी कपड़ा और मकान की,
भ्रष्ट दानवी  हाथों से लेकिन मुश्किल है कुछ बचपाना.

            जब तक हर भूखे को रोटी, निर्वस्त्रों को वस्त्र न होंगे,
            जब तक नारी की आँखों में लाचारी के अश्रु जो होंगे.
            जब तक किलकारी न होगी हर आँगन में बचपन की,
            याद रखो भगवन मेरे घर, पकवानों के थाल न होंगे.

31 comments:

  1. जब तक नारी की आँखों में लाचारी के अश्रु न होंगे

    आपने लय मिलाने की कोशिश की और जो भाव लिखना चाहते हैं वो भी समझ आता है लेकिन इस लाइन को इस तरह से लिखने से तो भाव बदल रहा है... अगर बुरा ना लगे तो इस लाइन को अगर यूँ लिखा जाये तो कैसा रहेगा...?

    जब तक नारी की आँखों में खुशियों के अश्रु न होंगे

    ReplyDelete
  2. हैं दोनों इंसान, मगर यह अंतर क्यों है ?
    बेच रहे क्यों झूठ कि यह किस्मत की थाती....

    ----------

    आज की सच्चाई को बयान करती उत्कृष्ट रचना। आज अमीरी गरीबी के बीच फासला बहुत बढ़ गया है। इस बढती खाई को पाटा जा सकता है , और हर आँगन में किलकारी गूंज सकती है। लेकिन जब तक असंवेदनशील सरकार होगी तब तक सिर्फ कागजों पर की महल बनेंगें और रोटियां सिकेंगी।

    .

    ReplyDelete
  3. अनामिका जी आपके सुझाव के लिए धन्यवाद. आवश्यक संशोधन कर दिया गया है. आभार..

    ReplyDelete
  4. कविता के भाव बहुत सुन्दर है ....वर्तमान परिस्थिति को लेकर बड़ी कसक महसूस हुई इस रचना में !

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर भाव ...अच्छी रचना ..

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर भाव है कविता के

    ReplyDelete
  7. आदरणीय कैलाश जी .... एक कठोर सत्य दर्शाती रचना ... बहुत सुंदर ...

    ReplyDelete
  8. Yathartha ke dharatal se upji gahri samvedansheelta ko pradarshit karti bhavpurn rachna ke liye dhanyavaad

    ReplyDelete
  9. बेहद संवेदनशील रचना।

    ReplyDelete
  10. aaj bahut dino ke bad blog khola...
    apani koi rachana post karane ka aaj bhi man nahi ho raha tha to soncha ki kuch padha hi jai..
    saubhagya se jo pahali rachana aaj padi wo aapki hai aur vo nischit hi ek behatareen sundar rachana hai.

    aabhar aapka

    ReplyDelete
  11. अपने परिवेश में मौजूद अंतर्विरोधों के झंझावातों से जूझते संवेदनशील मन की अंतर्व्यथा दर्शाती एक खूबसूरत और भाव प्रवण रचना. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  12. बहुत शशक्त रचना है...एक एक शब्द कलेजा छलनी कर रहा है...कड़वी तीखी मगर सच्ची बातें कहीं हैं आपने...इस अनुपम रचना के लिए मेरी बधाई स्वीकार करें...

    नीरज

    ReplyDelete
  13. आदरणीय कैलाश जी
    नमस्कार !

    आपकी रचना मनन को प्रेरित करती है ।
    अच्छी श्रेष्ठ कविता के लिए आभार !

    आपको और परिवारजनों को
    दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं !

    सरस्वती आशीष दें , गणपति दें वरदान !
    लक्ष्मी बरसाएं कृपा , बढ़े आपका मान !!


    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  14. chiantan ko jagrit karta aapki kavita atyant bhavpoorna aur sundar hai

    ReplyDelete
  15. “नन्हें दीपों की माला से स्वर्ण रश्मियों का विस्तार -
    बिना भेद के स्वर्ण रश्मियां आया बांटन ये त्यौहार !
    निश्छल निर्मल पावन मन ,में भाव जगाती दीपशिखाएं ,
    बिना भेद अरु राग-द्वेष के सबके मन करती उजियार !! “

    हैप्पी दीवाली-सुकुमार गीतकार राकेश खण्डेलवाल

    ReplyDelete
  16. इसी तरह आप से बात करूंगा
    मुलाक़ात आप से जरूर करूंगा

    आप
    मेरे परिवार के सदस्य
    लगते हैं
    अब लगता नहीं कभी
    मिले नहीं है
    आपने भरपूर स्नेह और
    सम्मान दिया
    हृदय को मेरे झकझोर दिया
    दीपावली को यादगार बना दिया
    लेखन वर्ष की पहली दीवाली को
    बिना दीयों के रोशन कर दिया
    बिना पटाखों के दिल में
    धमाका कर दिया
    ऐसी दीपावली सब की हो
    घर परिवार में अमन हो
    निरंतर दुआ यही करूंगा
    अब वर्ष दर वर्ष जरिये कलम
    मुलाक़ात करूंगा
    इसी तरह आप से
    बात करूंगा
    मुलाक़ात आप से
    जरूर करूंगा
    01-11-2010

    ReplyDelete
  17. इस ज्योति पर्व का उजास
    जगमगाता रहे आप में जीवन भर
    दीपमालिका की अनगिन पांती
    आलोकित करे पथ आपका पल पल
    मंगलमय कल्याणकारी हो आगामी वर्ष
    सुख समृद्धि शांति उल्लास की
    आशीष वृष्टि करे आप पर, आपके प्रियजनों पर

    आपको सपरिवार दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाएं.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  18. कहीं रोशनी इतनी आँखें चुंधियाँ जाती,
    कहीं अँधेरा इतना, रजनी ठोकर खाती.
    हैं दोनों इंसान, मगर यह अंतर क्यों है ?
    बेच रहे क्यों झूठ कि यह किस्मत की थाती.
    यथार्थ को साधारण शब्दों मैं अभिव्यक्त किया है आपने ....सुंदर सम्प्रेषण ...सार्थक भाव
    दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  19. मेरे ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया आपने मुझे जिन्दगी में कुछ करने के लिए उत्साहित किया है , आशीर्वाद के रूप में अनुसरण करके , मैं आपके ख्यालों पर खरा उतर पाऊं ,ऐसी शुभकामना भी करना

    ReplyDelete
  20. bhaut hi samvedansheel avam ek kduve sach ka aaina dikhaati aapki yah kavita haqikat ko bayaan karti hai.
    bahut -bahut achhi prastuti.
    shubh-kamnao ke saath---
    poonam

    ReplyDelete
  21. बहुत महसूस किया आपने दुनिया जहां के दर्द को... और आपकी संवेदनाएं कविता में बह रही है .. बहुत सुन्दर... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  22. Bahut hi sundar bhaon se piroya gaya hai.Prastuti achhi lagi.kripaya mere blog par bhi aane ki kripa karen.

    ReplyDelete
  23. बाऊ जी,
    नमस्ते!
    चोट करती हुई सशक्त रचना....
    आशीष
    ---
    पहला ख़ुमार और फिर उतरा बुखार!!!

    ReplyDelete
  24. शर्मा जी!
    ये निराशावादी सवार क्यों? आपसे सहमत हूँ विसंगतियां, और कुसंस्कार अब युवा बन कर मुह चिढाने लगे हैं. परन्तु क्या हम उनसे हार कर -थककर बैठ जायेगे? एक दिया नहीं जलाएंगे? सोचिये दिया न जलाने से हम पर्कारान्तार से उनकी मददगार बन जायेंगे . जब चेतना जागृत होगी तो अपना ही विवेक प्रश्न करेगा, औचित्य का प्रश्न उठाएगा.... और अपनी ही नज़रों में गिरा देगा जागिये और हाथ में दीपक और दियासलाये सारे बुराइयूओन को जाल्ला डालिए, हम लोग भी साथ आते हैं आप को अकेले नहीं छोड़ेगे इस मुहिम में.

    ReplyDelete
  25. भूखे पेट, नग्न तन बच्चे, ढूंढ रहे कूड़े में खाना,
    साड़ी फटी झांकते तन पर,गिद्ध द्रष्टि का लगा निशाना.

    देश की नारी की कहानी चोट करती हुई विहल वेदना

    ReplyDelete
  26. हर राइटर एक फाइटर होता है और यह आवश्यक है । रचनाकार का विद्रोही होना बहुत स्वाभाविक है । यह वस्तुतः देश - धर्म है । आग उगलने वाली यह रचना मुझे अच्छी लगी । आभार ।

    ReplyDelete