Thursday, August 11, 2011

सपने बन्द आँखों के

नहीं अच्छे लगते
सपने बन्द आँखों के,
नहीं होता है नियंत्रण
इनके आने पर
या टूट जाने पर.


खुली आँखों के सपने 
रहते हैं अपनी मुट्ठी में,
जब चाहो
जिधर चाहो
मोड़ दो रुख
परिस्थितियों के अनुसार.
और रख सकते हो
उनको अपनी सीमाओं में,


नहीं होता है डर
उनके टूट जाने का.

40 comments:

  1. ji... khuli aankhon ke sapne vastvikata ke kareeb hote hain aur band ke koso door...

    ReplyDelete
  2. यह सपने तो आखिर सपने हैं चाहे बंद आँखों से देखे जाएँ या खुली आँखों से ....!

    ReplyDelete
  3. वाह ..बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  4. नहीं होता है डर
    उनके टूट जाने का.
    बहुत सुंदर ,अच्छी लगी, बधाई .

    ReplyDelete
  5. वाह बहुत सुन्दर ख्याल्।

    ReplyDelete
  6. खूबसूरत कविता ... नई बात कह रहे हैं आप कविता में

    ReplyDelete
  7. खुली आँखों के सपने
    रहते हैं अपनी मुट्ठी में...

    बहुत अच्छी और सकारात्मक सोच... आभार

    ReplyDelete
  8. Bahut khub,,,, sapna hai ya hakikat,,,,
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  9. खुली आंखों के सपने नहीं टूटते...
    एकदत सही।
    सार्थक संदेश देती हुई एक सुंदर कविता।

    ReplyDelete
  10. सर बहुत ही खूबसूरत कविता बधाई और शुभकामनायें

    ReplyDelete
  11. नहीं होता है डर
    उनके टूट जाने का.
    बहुत सुंदर ,.... बधाई .

    ReplyDelete
  12. खुली आँखों के सपने... टूटने का दर नहीं होता...
    वाह! सार्थक, सकारात्मक रचना सर...
    सादर....

    ReplyDelete
  13. "खुली आँखों के सपने
    रहते हैं अपनी मुट्ठी में,"

    सच कहा आपने सपने देखना जरूरी भी विकास के लिए परन्तु बंद आँखों के सपने व्यर्थ ही रह जाते है. सुंदर विचार पेश करती अच्छी प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  14. कल 12/08/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. नहीं अच्छे लगते
    सपने बन्द आँखों के,
    नहीं होता है नियंत्रण
    इनके आने पर
    या टूट जाने पर.

    Khoob....Bahut Sunder

    ReplyDelete
  16. सपनों का संसार ,चाहे खुली आँखों का ,या बंद आँखों का ,स्वप्न ही होता है ,शायद ही सच होता है ...../
    सुंदर परिकल्पनाएं खूबसूरती लिए ........शुक्रिया जी .

    ReplyDelete
  17. बहुत सटीक प्रस्तुति, सोचने पर विवश करती रचना

    ReplyDelete
  18. सटीक शब्द दिया है भावों को आपने बधाई.. कैलाश जी.

    ReplyDelete
  19. कैलाश जी !!!
    खुली आँखों के सपने
    रहते हैं अपनी मुट्ठी में,
    जब चाहो
    जिधर चाहो
    मोड़ दो रुख
    परिस्थितियों के अनुसार.
    और रख सकते हो
    उनको अपनी सीमाओं में,
    यथार्थ परक भाव पूर्ण एवं प्रेरक प्रस्तुति ..
    सादर अभिनन्दन !!!

    ReplyDelete
  20. सपने तो वैसे सपने ही है जगती आँखों से हो या बंद आँखों से.......असल तो यतार्थ का ये ठोस धरातल ही है...........वैसे पोस्ट अच्छी लगी आपकी|

    ReplyDelete
  21. वाह, बहुत सुंदर बात ! लेकिन खुली आँखों के सपने हमारी मुट्ठी में होते तो हैं पर सभी के पूरे नहीं होते...

    ReplyDelete
  22. खुली आँखों के सपने यथार्थ में अधिक बदलते हैं।

    ReplyDelete
  23. बहुत सुंदर रचना
    क्या बात है

    खुली आँखों के सपने
    रहते हैं अपनी मुट्ठी में,
    जब चाहो
    जिधर चाहो
    मोड़ दो रुख

    ReplyDelete
  24. खूबसूरत कविता... नये भाव हैं इनमे

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर कोमल भावों को संजोये हुए शब्द ...
    लाजवाब कविता

    ReplyDelete
  26. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  27. बहुत प्यारी और कोमल रचना.

    ReplyDelete
  28. कोमल भावपूर्ण रचना |
    बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  29. सुंदर, बहुत ही भावपूर्ण ।

    ReplyDelete
  30. sach kaha sir...kash band aankhon ke sapano par bhi hamara niyantran hota.....sundar rachana....kabhi mere yahan bhi aayen sir, aapaka hardik swagat hai...

    ReplyDelete
  31. वाह सपने,दोनों रूपों को खूबसूरती से निखारा है सपने जीने का सहारा आपने बहुत अच्छा लिखा...

    कई जिस्म और एक आह!!!

    ReplyDelete
  32. सपने तो फिर भी सपने ही होते हैं। इनके टुटने का डर हमेशा बना होता है।

    ReplyDelete
  33. खुली आँखों के सपने
    रहते हैं अपनी मुट्ठी में,
    जब चाहो
    जिधर चाहो
    मोड़ दो रुख
    परिस्थितियों के अनुसार.

    जीवन्त विचारों की बहुत सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी रचना !

    ReplyDelete
  34. सच कहा ... बंद आँखों के सपने तो छलावा होते हैं ... बस में नहीं होते ...

    ReplyDelete
  35. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ............

    ReplyDelete
  36. सपने खुली आँखों से ही देखने चाहिए।

    ReplyDelete
  37. सुन्दर अभिव्यक्ति.

    निहार रंजन

    ReplyDelete