Friday, September 09, 2011

आकांक्षा


अन्तर्मन में तू रम जाये,
सांस सांस तेरा गुण गाये।
कण कण में तुझको मैं देखूँ,
नज़र पराया कोई न आये।

द्वेष न हो कोई भी मन में,
धर्मों  में अंतर  न  पायेँ।
यहां अज़ान आरती के स्वर,
आसमान में घुलमिल जायें।

इंसा को इंसान ही समझें,
धर्म जाति का भेद नहीं हो।
ईद मुबारक़  हिन्दू  बोलें,
मुस्लिम होलीरंग में तर हों।

भूखा कभी न सोए बचपन,
माँ तन  बेचे न  रोटी को। 
नहीं दिवाली जगमग होगी,
गर कुटिया तरसे दीपक को। 

बुद्धि दो, प्रभु सब पहचानें
अंश तेरा ही है कण कण में।
धरा स्वर्ग सम बन जाएगी,
भाव जगें ये गर जन जन में। 

55 comments:

  1. सुन्दर भाव लिए अच्छी सीख देती प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  2. बुद्धि दो, प्रभु सब पहचानें
    अंश तेरा ही है कण कण में।
    धरा स्वर्ग सम बन जाएगी,
    भाव जगें ये गर जन जन में।

    बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  3. अत्यंत पावन आकांक्षा है!

    ReplyDelete
  4. आमीन.........खुदा करे ये दुआ ज़रूर कबूल हो|

    ReplyDelete
  5. द्वेष न हो कोई भी मन में,
    धर्मों में अंतर न पायेँ।
    यहां अज़ान आरती के स्वर,
    आसमान में घुलमिल जायें।

    बहुत ही बढ़िया सर।

    सादर

    ReplyDelete
  6. नहीं दिवाली जगमग होगी,
    गर कुटिया तरसे दीपक को।

    बधाई ||

    ReplyDelete
  7. बुद्धि दो, प्रभु सब पहचानें
    अंश तेरा ही है कण कण में।
    धरा स्वर्ग सम बन जाएगी,
    भाव जगें ये गर जन जन में। ... bas maine haath jod liye hain

    ReplyDelete
  8. विश्व के कल्याण से बड़ी कोई आकांक्षा नहीं.. अच्छी कविता..

    ReplyDelete
  9. यही कामना हम सब करते है सुंदर और पवित्र भाव ......

    ReplyDelete
  10. बहुत ही अच्‍छी आकांक्षा| पवित्र भाव|

    ReplyDelete
  11. लाजवाब बहुत ही सुन्दर ...
    हम सब यही आशा करते है ......

    ReplyDelete
  12. अरे वाह वाह जी
    अच्छी सीख बहुत ही अच्‍छी आकांक्षा

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन सम्वेदनशील रचना के लिए बधाई

    ReplyDelete
  14. काश आपकी कविता सच हो जाये।

    ReplyDelete
  15. द्वेष न हो कोई भी मन में,
    धर्मों में अंतर न पायेँ।
    यहां अज़ान आरती के स्वर,
    आसमान में घुलमिल जायें।

    प्रभु से नेक कामना। सभी एक ही परमपिता की संतान हैं।
    यह कामना फलीभूत हो।

    ReplyDelete
  16. बुद्धि दो, प्रभु सब पहचानें
    अंश तेरा ही है कण कण में।
    धरा स्वर्ग सम बन जाएगी,
    भाव जगें ये गर जन जन में।
    Sach....yahee bhaav jan,jan me jagen to dhartee swarg zaroor banegee!

    ReplyDelete
  17. सुन्दर संवेदनशील पावन अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  18. सुंदर स्वेन्दन शील पावन कविता है सभी की यही कामना है ....काश आपकी यह कविता सच होजाए ....शुभकामनायें
    कभी समय मिले तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    ReplyDelete
  19. सुन्दर कविता सर बहुत -बहुत बधाई

    ReplyDelete
  20. भूखा कभी न सोए बचपन,
    माँ तन बेचे न रोटी को।
    नहीं दिवाली जगमग होगी,
    गर कुटिया तरसे दीपक को।
    इन सुभेक्षाओं को एक नेक ह्रदय ही मांग सकता है ,उस नेक हृदय का अभिनन्दन ,वंदन .../

    ReplyDelete
  21. इंसा को इंसान ही समझें,
    धर्म जाति का भेद नहीं हो।
    ईद मुबारक़ हिन्दू बोलें,
    मुस्लिम होलीरंग में तर हों

    सुंदर स्वेन्दनशील कविता, कामना फलीभूत होगी .

    ReplyDelete
  22. बुद्धि दो, प्रभु सब पहचानें
    अंश तेरा ही है कण कण में।
    धरा स्वर्ग सम बन जाएगी,
    भाव जगें ये गर जन जन में।

    कितनी सुंदर प्रार्थना है यह.. उस परम की कृपा से ही ऐसा भाव जगता हैं... बधाई!

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर सार्थक रचना
    आपकी सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार!!

    ReplyDelete
  24. बहुत ही भावपूर्ण और नफ़रत के संसार मे अपन्त्व पैदा करती पंक्तियां। आरती और अजान का मेल तो वाकई बेजोड़ है।

    ReplyDelete
  25. बच्चा सा महसूस करता हूँ सर आपकी इन रचनाओं के सम्मुख ....
    बहुत सुन्दर .....

    ReplyDelete
  26. बहुत अच्छा धरा स्वर्ग सम बन जायेगी।
    आपकी ये इछ्छा अवश्य पूरी हो।

    ReplyDelete
  27. इंसा को इंसान ही समझें,
    धर्म जाति का भेद नहीं हो।
    ईद मुबारक़ हिन्दू बोलें,
    मुस्लिम होलीरंग में तर हों।

    बहुत सार्थक सीख और आव्हान लिए पंक्तियाँ हैं

    ReplyDelete
  28. बहुत उम्दा एवं सार्थक रचना...

    ReplyDelete
  29. भूखा कभी न सोए बचपन,
    माँ तन बेचे न रोटी को।
    नहीं दिवाली जगमग होगी,
    गर कुटिया तरसे दीपक को।

    उत्तम सोच को सुन्दर शब्दों में पिरो कर बहुत कुछ कहने की कोशिश की है | कोटि-कोटि प्रणाम

    ReplyDelete
  30. बहुत सुन्दर , जितनी तारीफ करूं कम है...

    ReplyDelete
  31. यहां अज़ान आरती के स्वर,
    आसमान में घुलमिल जायें।

    लाजवाब गीत सर....
    सादर नमन....

    ReplyDelete
  32. सम्वेदनशील रचना के लिए बधाई ....

    ReplyDelete
  33. बहुत सुन्दर लिखा है आपने ! गहरे भाव और अभिव्यक्ति के साथ ज़बरदस्त प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  34. Waah ! aapke nek vichar apne shabdon mein bahut hi gahrai se prastut kiye hain.. aabhar..

    ReplyDelete
  35. नहीं दिवाली जगमग होगी,
    गर कुटिया तरसे दीपक को।

    bahut sundar

    ReplyDelete
  36. बहुत गहरे तक छूती रचना |
    आशा

    ReplyDelete
  37. बुद्धि दो, प्रभु सब पहचानें
    अंश तेरा ही है कण कण में।
    धरा स्वर्ग सम बन जाएगी,
    भाव जगें ये गर जन जन में।

    सच्ची प्रार्थना. बधाई.

    ReplyDelete
  38. भूखा कभी न सोए बचपन,
    माँ तन बेचे न रोटी को।
    नहीं दिवाली जगमग होगी,
    गर कुटिया तरसे दीपक को। ....गहरे भाव लिए सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  39. bahut sunder bhav liye hai aapkee ye rachana...kkash ye duaa pooree ho jae.isee me jan malyan bhee hai.
    ise aakankshaa ke liye aabhar .

    ReplyDelete
  40. thnaks for binding such a good thougths in a sinlge poem ..

    ReplyDelete
  41. भूखा कभी न सोए बचपन,
    माँ तन बेचे न रोटी को।
    नहीं दिवाली जगमग होगी,
    गर कुटिया तरसे दीपक को।
    बहुत सुंदर भाव।

    ReplyDelete
  42. सुंदर भाव से लबरेज़ सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  43. बहुत खूबसूरत और मंगलमय कामना है आपकी.
    गायत्री मंत्र की तरह.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.
    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    ReplyDelete
  44. काश यह बात सभी समझ सकते.....
    इंसा को इंसान ही समझें,
    धर्म जाति का भेद नहीं हो।
    ईद मुबारक़ हिन्दू बोलें,
    मुस्लिम होलीरंग में तर हों।
    दिल दिमाग को छू जाने वाली पोस्ट..... अगली पोस्ट का बेसब्री से इन्तिज़ार है

    ReplyDelete
  45. भूखा कभी न सोए बचपन,
    माँ तन बेचे न रोटी को।
    नहीं दिवाली जगमग होगी,
    गर कुटिया तरसे दीपक को।

    सच्ची संवेदना शब्दों में .....

    ReplyDelete
  46. बहुत बढ़िया रचना | उम्दा प्रस्तुति | आभार |
    मेरे ब्लॉग में भी आयें |

    काव्य का संसार

    मेरी कविता

    ReplyDelete
  47. Beautiful poetic expressions with a great message.
    Loved the last verse.

    ReplyDelete
  48. प्रवास के कारण इतनी सशक्‍त रचना देर से पढ़ने को मिली। बहुत ही श्रेष्‍ठ हमेशा की तरह।

    ReplyDelete