Friday, June 01, 2012

पोटली

आए थे जब 
खाली थे हाथ
न बोझ कोई 
कन्धों पर.


ज़िंदगी की राह में 
सभी की खुशी
और चाहतें करने पूरी
बढ़ाते रहे बोझ
कंधे की पोटली का.
नहीं महसूस हुआ भार
इस आशा में 
कि कर लेंगे साझा
सब कंधे 
भार इस पोटली का.


लेकिन आज 
इस सुनसान अकेलेपन में
जब दिखाई नहीं देता
कोई कंधा आस पास,
महसूस होता है 
और भी भारी
पोटली का भार 
कमजोर झुके कन्धों पर.


उठाना होता है
अपनी पोटली का भार
अपने ही कन्धों पर.
नहीं है अब दस्तूर
जीते जी 
बांटने का बोझ
झुके कमजोर कन्धों से,
और झटक देते हैं 
रखने पर हाथ कंधे पर
अपने भी.
लेकिन मरने पर 
उठा लेते हैं भार
कंधे गैरों के भी.


कैलाश शर्मा

34 comments:

  1. आए थे जब
    खाली थे हाथ
    न बोझ कोई
    कन्धों पर.

    kya baat sir bahut khub

    ReplyDelete
  2. यही जीवन
    सुलगता रहता
    सोचता मन


    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत सुन्दर और सार्थक हाइकु....आभार

      Delete
  3. अनुपम भाव संयोजन लिए उत्‍कृष्‍ट लेखन .. आभार

    ReplyDelete
  4. और झटक देते हैं
    रखने पर हाथ कंधे पर
    अपने भी.
    लेकिन मरने पर
    उठा लेते हैं भार
    कंधे गैरों के भी.

    मार्मिक और सत्य से परिपूर्ण ये पोस्ट लाजवाब है ।

    ReplyDelete
  5. bahut badhiya kvita.. jiwan aur bojh ka sahi visheleshan

    ReplyDelete
  6. और झटक देते हैं
    रखने पर हाथ कंधे पर
    अपने भी.
    लेकिन मरने पर
    उठा लेते हैं भार
    कंधे गैरों के भी.

    जीते जी नहीं मिलता कंधा .... बहुत संवेदनशील रचना

    ReplyDelete
  7. उफ़ कितना बडा सच लिख दिया

    ReplyDelete
  8. पोटली का बोझ
    तो उठा लेंगे ये कंधे,
    पर अपनों की उपेक्षा
    है सबसे बड़ा भार
    यही जीवन की हार ||

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत सुन्दर और सटीक टिप्पणी....आभार

      Delete
  9. संवेदनशील रचना.....

    सादर.

    ReplyDelete
  10. ्सच यही है जिन्दगी..,, एक,मार्मिक सत्य!

    ReplyDelete
  11. जीवन और मरण का यही सच है
    बखूबी दर्शाया है आपने

    ReplyDelete
  12. संवेदनशील रचना,एक,मार्मिक सत्य........

    ReplyDelete
  13. सशक्त और प्रभावशाली प्रस्तुती....

    ReplyDelete
  14. झूलते कंधों को छोड़ने वाले भूल जाते हैं कि उनके कंधे भी झूलेंगे एक दिन।

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  16. बुढापा आया
    झूलेंगे एक दिन
    उनके कंधे,

    RECENT POST ,,,, काव्यान्जलि ,,,, अकेलापन ,,,,

    ReplyDelete
  17. महसूस होता है
    और भी भारी
    पोटली का भार
    कमजोर झुके कन्धों पर.]
    ,,,,,,,,,,,बहुत ही संवेदनशील रचना कैलाश जी

    ReplyDelete
  18. झुके कमजोर कन्धों से,
    और झटक देते हैं
    रखने पर हाथ कंधे पर
    अपने भी.
    लेकिन मरने पर
    उठा लेते हैं भार
    कंधे गैरों के भी.

    जीवन के सत्य को उजागर करती आपकी यह कविता बहुत ही अच्छी लगी । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  19. ईश्वर न करे किसी का वार्धक्य किसी की बेबसी बने.. जाना तो होता ही है.. लेकिन शांति हो, स्निग्ध स्नेह प्रेम हो.. चिर निद्रा से पहले...
    सार्थक अभिव्यक्ति,
    सादर

    ReplyDelete
  20. जीने में भी डर , मरने में भी डर ...

    ReplyDelete
  21. लेकिन आज
    इस सुनसान अकेलेपन में
    जब दिखाई नहीं देता
    कोई कंधा आस पास,
    महसूस होता है
    और भी भारी
    पोटली का भार
    कमजोर झुके कन्धों पर....................जीवन का सत्य लिख दिया आपने ...जीवन में ये पल अपने साथ हर कोई महसूस करता हैं ...चाहे वो पल २...४ ही क्यों ना हो .....बहुत बढिया शब्द रचना

    ReplyDelete
  22. गहन विचारों से पूर्ण सारगर्भित पोस्ट |
    आशा

    ReplyDelete
  23. साँसों की इस पोटली कों ती खुद ही उठाना होता है ... और जीवन भर उठाना होता है ...
    जीवन का सत्य भी है की गैर मरने के बाद कुछ पल ही सही उठा लेते हैं ये भार ... उनको पता है की ये उम्र भर का भार नहीं ...

    ReplyDelete
  24. एक न बदलने वाले सत्य का सुन्दर विवरण
    ....
    और झटक देते हैं
    रखने पर हाथ कंधे पर
    अपने भी.
    लेकिन मरने पर
    उठा लेते हैं भार
    कंधे गैरों के भी.

    आप बुज़ुर्गों के ब्लोग पे आकर बच्चों को बहुत कुछ सीखने को मिल जाता है
    आभार

    ReplyDelete
  25. जीवन संध्या का सत्य दिखाती संवेदनशील एवं मार्मिक रचना ....
    आभार !!

    ReplyDelete
  26. नहीं है अब दस्तूर
    जीते जी
    बांटने का बोझ
    झुके कमजोर कन्धों से,
    और झटक देते हैं
    रखने पर हाथ कंधे पर
    अपने भी.

    जीवन की सच्चाई को अभिव्यक्त करती एक अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  27. झटक देते हैं
    रखने पर हाथ कंधे पर
    अपने भी.

    कडवा सच । अपनी अपनी पोटली खुद ही उठानी है, इसे जितनी हल्की रखें उतना अच्छा .

    ReplyDelete
  28. बेहतरीन बहुत सुन्दर
    (अरुन =arunsblog.in)

    ReplyDelete