Tuesday, April 16, 2013

हाइकु

  (१)
जग जननी
हरो सब संताप
ममतामयी. 

  (२)
माँ का हो साथ
मिलता सब कुछ
बिन मांगे ही.


  (३) 
आओ माँ दुर्गा
दानवों का संहार,
भक्तों की रक्षा.

  (४)
छोड़ा अकेला
जब से है तूने माँ
नींद न आयी.

  (५)
सदैव पास
जब ठोकर खाता
थाम लेती माँ.

  (६)
कर्म साधना          
अगर सध गयी
जीवन मुक्ति.

  (७)
साधना पथ         
नहीं फूलों की राह
रखना धैर्य.

  (८)
निष्काम कर्म 
महानतम तप
करके देखो.

  (९)
तन माध्यम 
सबसे बड़ा तप 
मन की शुद्धि.

.....कैलाश शर्मा 






31 comments:

  1. तन माध्यम
    सबसे बड़ा तप
    मन की शुद्धि.

    सभी हाइकु बहुत सुंदर ..... अंतिम सच्चा और सार्थक बात कहता हुआ ।

    ReplyDelete
  2. वाह! बहुत सुन्दर हाइकू | आभार

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete

  3. गहन अनुभूति
    सुंदर
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बधाई

    ReplyDelete
  4. साधना पथ
    नहीं फूलों की राह
    रखना धैर्य.

    एक से बढकर एक हाइकू...सचमुच असीम धैर्य चाहिए इस पथ पर...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
      आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
      आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (17-04-2013) के "साहित्य दर्पण " (चर्चा मंच-1210) पर भी होगी! आपके अनमोल विचार दीजिये , मंच पर आपकी प्रतीक्षा है .
      सूचनार्थ...सादर!

      Delete
  5. माँ का हो साथ
    मिलता सब कुछ
    बिन मांगे ही...

    सच कह है ...
    सभी हाइकू लाजवाब ... माँ की स्तुति करते ... गहन अनुभूति लिए ..

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर और बेहतरीन हैं सभी हाइकू,आपका आभार.

    ReplyDelete
  7. तन माध्यम
    सबसे बड़ा तप
    मन की शुद्धि.

    शानदार हाइकू

    ReplyDelete
  8. एक से एक बोधगम्य हाइकू…… आभार

    ReplyDelete
  9. नवरात्र की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  10. निष्काम कर्म
    महानतम तप
    करके देखो.....बहुत सुन्दर लिखा आपने

    ReplyDelete
  11. अंतिम सत्य...

    कर्म साधना
    अगर सध गयी
    जीवन मुक्ति.

    सभी हाइकु बहुत भावपूर्ण. नवरात्र के अवसर पर देवी दुर्गा को समर्पित. बधाई.

    ReplyDelete
  12. एक से बढ़ कर एक हाइकू !
    सादर !!

    ReplyDelete
  13. bhakti bhav se poorn sundar hayku..

    ReplyDelete
  14. कर्म साधना
    अगर सध गयी
    जीवन मुक्ति.

    Jo koi nahee chahta :)
    भावपूर्ण हाइकु !

    ReplyDelete
  15. सभी हाइकु एक से बढ़कर एक!
    बहुत अर्थपूर्ण, भावपूर्ण!
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  16. साधना पथ
    नहीं फूलों की राह
    रखना धैर्य.
    वाह !!! बहुत बेहतरीन हाइकू ,आभार,

    RECENT POST : क्यूँ चुप हो कुछ बोलो श्वेता.

    ReplyDelete
  17. नव रात्रि के अवसर पर सुंदर व सार्थक सन्देश देते बहुत ही सशक्त हाईकू ! सभी एक से बढ़ कर एक ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  18. बहुत ही सुंदर और अर्थपूर्ण हाइकू हैं ....

    ReplyDelete
  19. श्रेष्ठ वचन,
    जीवन का सार इन्हीं में
    साधना कठन !

    ReplyDelete
  20. सभी हाइकु बहुत सुन्दर और भावपूर्ण हैं... आभार

    ReplyDelete
  21. निष्काम कर्म
    महानतम तप
    करके देखो.


    बहुत ही सुन्दर हाइकु लिखे हैं आपने.

    ReplyDelete
  22. सभी हाइकु एक से बढ़कर एक .... नवरात्रि की अनंत शुभकामनाएं

    सादर

    ReplyDelete
  23. सबसे बड़ा तप
    मन की शुद्धि.......एक विराट सच्‍चाई।

    ReplyDelete
  24. Haikus with beautiful lines & I loved on Mom the best..Kailash sharmaji happy day:)God<3u

    ReplyDelete