Tuesday, December 09, 2014

घर

घर नहीं होता बेज़ानदार
छत से घिरी चार दीवारों का,
घर के एक एक कोने में 
छुपा इतिहास जीवन का।

खरोंचें संघर्ष की
जीवन के हर मोड़ की,
सीलन दीवारों पर 
बहे हुए अश्क़ों की,
यादें उन अपनों की 
जो रह गये बन के
एक तस्वीर दीवार की,
गूंजती खिलखिलाहट 
अब भी इस सूने घर में
भूले बिसरे रिश्तों व पल की,
साथ उन टूटे ख़्वाबों का 
जो संजोये थे कभी
बिखरे अभी भी हर कोने में।


अकेलापन तन का
पर नहीं सूनापन मन का 
इस घर की चार दीवारों में,
एक एक ईंट और गारे में
समाहित सम्पूर्ण जीवन इतिहास
देता है सुकून व संतुष्टि,
नहीं महसूस होता अकेलापन
इस सुनसान घर की 
चार दीवारों के बीच,
नहीं खलता मौन 
बातें करते यादों से 
इस जीवन संध्या में।

...कैलाश शर्मा 

24 comments:

  1. क्या मालूम फिर कहीं
    निकले सूरज सुबह का
    रोशनी के साथ
    जीवन संध्या के बाद भी :)

    बहुत सुंदर रचना ।

    ReplyDelete
  2. बहुत गहन विचार लिए कविता |

    ReplyDelete
  3. इस सुनसान घर की
    चार दीवारों के बीच,
    नहीं खलता मौन
    बातें करते यादों से
    इस जीवन संध्या में।
    बहुत सुन्दर .
    नई पोस्ट : इच्छा मृत्यु बनाम संभावित मृत्यु की जानकारी

    ReplyDelete
  4. यही तो होता है जुड़ाव - एक घर ,कितने संबंधों का लेखा समेटे रहता है.

    ReplyDelete
  5. जीवन की अनुभूति का सार्थक अभिव्यक्ति !
    विस्मित हूँ !

    ReplyDelete
  6. बेहद गहन भाव लिये सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. सच तो यही है इंसान कभी अकेला होता ही नहीं ...कई यादें..बातें .. मन में उमड़ घुमड़ साथ साथ जो रहती हैं ..
    चिंतन युक्त प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. कल 11/दिसंबर/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  9. यादों की ओट से संवेदनाएं प्रकट हो गई जैसे..............

    ReplyDelete
  10. मुझे आपका blog बहुत अच्छा लगा। मैं एक Social Worker हूं और Jkhealthworld.com के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के बारे में जानकारियां देता हूं। मुझे लगता है कि आपको इस website को देखना चाहिए। यदि आपको यह website पसंद आये तो अपने blog पर इसे Link करें। क्योंकि यह जनकल्याण के लिए हैं।
    Health World in Hindi

    ReplyDelete
  11. दुनिया में जब जब कोई नहीं पहचानता कम से कम ये चारदीवारी जानी पह्चानी तो लगती है ...
    संवेदनशील रचना ...

    ReplyDelete
  12. बहुत गहरे शब्द।

    ReplyDelete
  13. ह्रदय को स्पर्श करती रचना के लिए आभार..

    ReplyDelete
  14. अकेलापन तन का
    पर नहीं सूनापन मन का
    इस घर की चार दीवारों में,
    एक एक ईंट और गारे में
    समाहित सम्पूर्ण जीवन इतिहास......जीवन की सांध्‍य बेला के एकाकीपन को दर्शाती भावपूर्ण कवि‍ता

    ReplyDelete
  15. ह्रदय को स्पर्श करती गहन भाव लिए बहुत ही भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  16. अकेलापन तन का
    पर नहीं सूनापन मन का
    इस घर की चार दीवारों में ,
    एक एक ईंट और गारे में
    समाहित सम्पूर्ण जीवन इतिहास
    देता है सुकून व संतुष्टि ,
    नहीं महसूस होता अकेलापन..सजीव पंक्तिया

    ReplyDelete
  17. बहुत ज्ञान वर्धक आपकी यह रचना है, मैं स्वास्थ्य से संबंधित कार्य करता हूं यदि आप देखना चाहे तो यहां पर click Health knowledge in hindi करें और इसे अधिक से अधिक लोग के पास share करें ताकि यह रचना अधिक से अधिक लोग पढ़ सकें और लाभ प्राप्त कर सके।

    ReplyDelete
  18. उम्दा प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  19. @ नहीं खलता मौन, बातें करते यादों से, इस जीवन संध्या में।
    - बच के चलते हैं सभी खस्ता दरो दीवार से
    दोस्तों की बेवफ़ाई का गीला पीरी में क्या?

    ReplyDelete
  20. नहीं महसूस होता अकेलापन
    इस सुनसान घर की
    चार दीवारों के बीच,
    bahut achchha
    मेरी सोच मेरी मंजिल

    ReplyDelete