Sunday, July 17, 2016

याद दे कर न तू गया होता

काश तुमसे न मैं मिला होता,
दर्द दिल में न ये पला होता।

रौनकों की कमी न दुनिया में,
एक टुकड़ा हमें मिला होता।

आसमां में हज़ार तारे हैं,
एक तारा मुझे मिला होता।

तू न मेरे नसीब में गर था,
इस जहाँ में न तू मिला होता।

ज़िंदगी कट रही बिना तेरे,
याद दे कर न तू गया होता 

नींद से टूटता नहीं नाता,
खाब तेरा न गर पला होता।

...© कैलाश शर्मा 

20 comments:

  1. नींद से टूटता नहीं नाता,
    ख्वाब तेरा न गर पला होता।
    ..प्यार में नींद हराम होना लाजमी है ..बहुत सुन्दर बानगी

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 18 जुलाई 2016 को लिंक की जाएगी .... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. एक तारा हमें मिला होता ...
    बहुत खूब ... हर शेर खूबसूरत है ... दिल की बात कहता हुआ ...

    ReplyDelete
  4. ज़िंदगी कट रही बिना तेरे,
    याद दे कर न तू गया होता।

    नींद से टूटता नहीं नाता,
    खाब तेरा न गर पला होता।
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति आदरणीय शर्मा जी !!

    ReplyDelete
  5. खूबसूरत रचना ....

    ReplyDelete
  6. प्रेम सेे फूटे शब्‍द।

    ReplyDelete
  7. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  9. अंतर्मन निकले सच्चे शब्द ।

    ReplyDelete
  10. तू न मेरे नसीब में गर था,
    इस जहाँ में न तू मिला होता।

    ज़िंदगी कट रही बिना तेरे,
    याद दे कर न तू गया होता।

    बहुत सुंदर।

    ReplyDelete
  11. काश तुमसे न मै मिला होता
    दर्द दिल मे न ये पला होता।

    रौनकों की कमी न दुनियां मे
    एक टुकड़ा हमें मिला होता।

    वाह ! बहुत सुंदर प्रस्तुति आदरणीय।

    ReplyDelete
  12. जय मां हाटेशवरी...
    अनेक रचनाएं पढ़ी...
    पर आप की रचना पसंद आयी...
    हम चाहते हैं इसे अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 23/08/2016 को
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की गयी है...
    इस प्रस्तुति में आप भी सादर आमंत्रित है।

    ReplyDelete
  13. बहुत ही सुंदर रचना की प्रस्‍तुति। याद देकर तू न गया होता। बेहद शानदार और भावपूर्णं रचना की प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete