Pages

Saturday, July 06, 2019

मेरी जीवन अभिलाषा हो


तुम संबल हो, तुम आशा हो,
तुम जीवन की परिभाषा हो।

शब्दों का कुछ अर्थ न होता,
उन से जुड़ के तुम भाषा हो।

जब भी गहन अँधेरा छाता,
जुगनू बन देती आशा हो।

जीवन मंजूषा की कुंजी,
करती तुम दूर निराशा हो।

नाम न हो चाहे रिश्ते का,
मेरी जीवन अभिलाषा हो।

...©कैलाश शर्मा

14 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (08-07-2019) को "चिट्ठों की किताब" (चर्चा अंक- 3390) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. जुगनू की प्रभा भला कब तक दिशा दिखायेगी..दुनियावी प्रेम ऐसे ही होते हैं..सूरज जब तक न मिले मार्ग नहीं मिलता...

    ReplyDelete
  3. वाह!!बहुत खूब!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर एहसास पिरोए सुंदर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  5. दिल पे दस्तक देती....एक सुखद अहसास की भांति

    ReplyDelete

  6. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना 10 जुलाई 2019 के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  8. जब भी गहन अँधेरा छाता,
    जुगनू बन देती आशा हो।
    बहुत ही लाजवाब
    वाह!!!

    ReplyDelete
  9. अच्छी ग़ज़ल... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुंदर अभिलाषा

    ReplyDelete