Pages

Friday, May 03, 2019

क्षणिकाएं


गीला कर गया
आँगन फिर से,
सह न पाया
बोझ अश्क़ों का,
बरस गया।
****

बहुत भारी है
बोझ अनकहे शब्दों का,
ख्वाहिशों की लाश की तरह।
****

एक लफ्ज़
जो खो गया था,
मिला आज
तेरे जाने के बाद।
****

रोज जाता हूँ उस मोड़ पर
जहां हम बिछुड़े थे कभी
अपने अपने मौन के साथ,
लेकिन रोज टूट जाता स्वप्न
थामने से पहले तुम्हारा हाथ,
उफ़ ये स्वप्न भी नहीं होते पूरे
ख़्वाब की तरह.

...©कैलाश शर्मा

20 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार मई 05 2019 को साझा की गई है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब....., सादर नमस्कार सर

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रचना

    ReplyDelete

  4. जी नमस्ते,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (05-05-2019) को

    "माँ कवच की तरह " (चर्चा अंक-3326)
    पर भी होगी।

    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    ....
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर या यूँ कहूँ "गागर में सागर"

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर रचना..वाहह्हह👌

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर आदरणीय हृदय स्पर्शी रचना

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर रचना 👌

    ReplyDelete
  9. आदरणीय सर -- मन की गहन उदासियों को बहुत ही भावपूर्ण अभिव्यक्ति मिली है | विरह वेदना शब्द-शब्द झरती मन को छू रही है | यूँ तो हर क्षणिका मर्मस्पर्शी है पर अंतिम का कोई जवाब नहीं | सादर शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  10. एक लफ्ज़ जो खो गया था,
    मिल गया तेरे जाने के बाद ।

    वाह !
    ज़रा देर हो गई ...

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर क्षणिकाएं...
    वाह!!!

    ReplyDelete
  12. आवश्यक सूचना :

    सभी गणमान्य पाठकों एवं रचनाकारों को सूचित करते हुए हमें अपार हर्ष का अनुभव हो रहा है कि अक्षय गौरव ई -पत्रिका जनवरी -मार्च अंक का प्रकाशन हो चुका है। कृपया पत्रिका को डाउनलोड करने हेतु नीचे दिए गए लिंक पर जायें और अधिक से अधिक पाठकों तक पहुँचाने हेतु लिंक शेयर करें ! सादर https://www.akshayagaurav.in/2019/05/january-march-2019.html

    ReplyDelete
  13. विचारों को शब्दों में ढालती रचना

    ReplyDelete
  14. दिल को छूती हुई ... सीधे अंतस तक जाते हैं भाव हर क्षणिका के ...
    लाजवाब ...

    ReplyDelete
  15. दिल को छूती हृदय स्पर्शी रचना

    ReplyDelete
  16. प्रभावशाली रचना

    ReplyDelete