Tuesday, June 10, 2014

यादों का सफ़र

न लिखा था कोई ख़त 
न दिया था कोई गुलाब
न ही किया था कोई वादा,
चलते रहे थे साथ 
यूँ ही कुछ दूरी तक
अपने अपने ख्वाब 
अंतस में छुपाये।

न जाने क्यों 
न ढल पाये भाव
शब्दों में,
बदल गयीं राहें
न जाने किस मोड़ पर
कब अनजाने में।


छटपटाता है आज़ वह मौन
पश्चाताप के चंगुल में,
नहीं कोई निशानी साथ में 
कोरे हैं आज भी पन्ने,
नहीं कोई गुलाब
किताबों के बीच।

केवल ताज़ा है
वह कुछ पल का साथ
आज़ भी यादों में।

....© कैलाश शर्मा 

36 comments:

  1. ​बहुत खूब , श्री कैलाश शर्मा जी

    ReplyDelete
  2. वाह ! बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  3. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन नाख़ून और रिश्ते - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  4. बस यही याद तो हमारी पूंजी है जीने के लिए..

    ReplyDelete
  5. अति सुन्दर. बहुत भावपूर्ण शब्द.

    ReplyDelete
  6. मन को छू गई ये रचना। आपकी लेखनी सचमुच सजीव है।

    ReplyDelete
  7. सार्थक प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  8. सुंदर प्रस्तुति :)

    ReplyDelete
  9. अनकही दास्ताँ स्मृतियों में रही !
    भावपूर्ण !

    ReplyDelete
  10. कैलाश जी,
    कुछ अलग सा में सा स्वागत है. यूँही स्नेह बना रहे.

    ReplyDelete
  11. बहुर खूबसूरती से सहेजी हैं यादें

    ReplyDelete
  12. कल 12/जून/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  13. वाह !.. बेहतरीन रचना ...

    ReplyDelete
  14. कोमल भावों से सजी कविता..

    ReplyDelete
  15. कुछ पल का साथ बना रहे। मनभावन।

    ReplyDelete
  16. मीठी यादें |

    ReplyDelete
  17. जहाँ सब नश्वर है वहां बस ये यादें ही ही सब कुछ है. सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  18. At the end of the day, it is just memories that we are left with...a beautiful poem :)

    ReplyDelete
  19. खूबसूरत अभिव्यक्ति, सुंदर जज्बात. यादें कुछ ऎसी हीं होती हैं...

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर प्रस्तुति... सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  22. बहुत अच्छा... आपके अंतरमन की आवाज़ |

    ReplyDelete
  23. केवल ताज़ा है
    वह कुछ पल का साथ
    आज़ भी यादों में।
    .........................sach kaha ks....

    ReplyDelete
  24. अनुपम भाव सन्योजन .....
    आभार

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  26. वाह बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  27. यादें तो हैं जाने को ... वो ही काफी हैं ... बहुत ही भावपूर्ण ...

    ReplyDelete