Saturday, May 14, 2011

नहीं चाहिए मन्दिर मस्ज़िद

नहीं चाहिये मंदिर मस्ज़िद,
न  गिरिजाघर , गुरुद्वारा.
मेरा  ईश्वर  मेरे  अन्दर,
क्यों मैं फिरूं मारा मारा ?

धर्म यहाँ व्यापार हो गया,
भुना रहे हैं नाम राम का.
सीता कैदमुक्त न अब तक,
जोह रही है बाट राम का.

पका  रहे  सब  अपनी  रोटी,
मज़हब की दीवार खडी कर. 
ईश्वर अल्लाह नहीं अलग हैं,
थोड़ी  अपनी सोच बड़ी कर.

भूखे  पेट  सो  रहे  बच्चे,
पूछो उनसे मज़हब उनका.
शायद कल रोटी मिलजाये,
इतना ही है मज़हब उनका.

गर प्यारा  है जो ऱब तुमको,
चल दुखियों को गले लगालो.
जो अनाथ लाचार हैं जग में,
उनको उँगली पकड़ उठा लो. 

53 comments:

  1. नहीं चाहिये मंदिर मस्ज़िद,
    न गिरिजाघर , गुरुद्वारा.
    मेरा ईश्वर मेरे अन्दर,
    क्यों मैं फिरूं मारा मारा ?
    आपकी कविता में व्यापक संदेश निहित है। पाठक के चिंतन को झकझोरने वाली रचना के लिए साधुवाद!
    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ ! शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छे विचार रखे हैं सर!

    सादर

    ReplyDelete
  3. सीधे सादे शब्दों में बहुत पते की बात । बहुत सार्थक और सुंदर रचना । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  4. गर प्यारा है जो ऱब तुमको,
    चल दुखियों को गले लगालो.
    जो अनाथ लाचार हैं जग में,
    उनको उँगली पकड़ उठा लो.

    बहुत ही सुन्दर आह्वान्…………शानदार प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर रचना..सबको समझना चाहिए इसका भावार्थ..सभी पक्षों को ...

    मेरे विचार थोडा भिन्न हैं क्युकी आप की कविता की पंक्तियों का एकतरफा कार्यान्वयन संभव नहीं लगता...
    ..........................
    "मेरे कुछ पल (अयोध्या) मुझको दे दो.
    बाकि सारे दिन(ताज से मथुरा,कशी से काबा) लोगों,
    तुम जैसा जैसा कहते हो...सब वैसा वैसा होगा...

    बहुत सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
  6. वाह! कैलाश जी आपने 'सत्यम शिवम सुन्दरम' को अपनी सुन्दर प्रस्तुति में अभिव्यक्त किया है.
    बहुत बहुत आभार.

    ReplyDelete
  7. आदरणीय कैलाश शर्मा जी

    भूखे पेट सो रहे बच्चे,
    पूछो उनसे मज़हब उनका.
    शायद कल रोटी मिलजाये,
    इतना ही है मज़हब उनका.

    बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  8. अच्छी पोस्ट है…

    ReplyDelete
  9. भूखे पेट सो रहे बच्चे,
    पूछो उनसे मज़हब उनका.
    शायद कल रोटी मिलजाये,
    इतना ही है मज़हब उनका.

    सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  10. भूखे पेट सो रहे बच्चे,
    पूछो उनसे मज़हब उनका।
    शायद कल रोटी मिल जाये,
    इतना ही है मज़हब उनका।

    भूखे बच्चों के लिए रोटी ही मजहब है।
    सामयिक और सार्थक संदेश देती सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  11. भूखे पेट सो रहे बच्चे,
    पूछो उनसे मज़हब उनका.

    बहुत सुन्दर ... लाजवाब

    ReplyDelete
  12. गर प्यारा है जो ऱब तुमको,
    चल दुखियों को गले लगालो.
    जो अनाथ लाचार हैं जग में,
    उनको उँगली पकड़ उठा लो.
    बहुत सुन्दर, लाजवाब........

    ReplyDelete
  13. bahut sunder sadhi hui rachna...गर प्यारा है जो ऱब तुमको,
    चल दुखियों को गले लगालो.
    जो अनाथ लाचार हैं जग में,
    उनको उँगली पकड़ उठा लो.

    ReplyDelete
  14. सही सोच से लिखी गई विचारोत्तेजक कविता।

    ReplyDelete
  15. आदरणीय कैलाश जी
    नमस्कार !
    ................सार्थक संदेश देती सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  16. बस यही समझ लें कि जो घर में है, उसे हम बाहर ढूढ़ते फिरते हैं। सुन्दर कविता।

    ReplyDelete
  17. बिल्कुल सही कहा है आपने। एक एक लाईन सटीक है। धर्म के नाम पर हम लाखों रूप्ये खर्च कर सकते है लेकिन किसी गरीब की भलाई नही कर सकते। सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  18. yatharth ko prastut karti sateek rachna

    ReplyDelete
  19. पका रहे सब अपनी रोटी,
    मज़हब की दीवार खडी कर.
    ईश्वर अल्लाह नहीं अलग हैं,
    थोड़ी अपनी सोच बड़ी कर.

    एकदम सही कहा है...बहुत अच्छी रचना...

    ReplyDelete
  20. ऐसी सोच अगर सबकी हो जाये तो कोई मतभेद ही न रह जाये ....
    बेहद सूकून देते विचार .......आभार !

    ReplyDelete
  21. पका रहे सब अपनी रोटी,
    मज़हब की दीवार खडी कर.
    ईश्वर अल्लाह नहीं अलग हैं,
    थोड़ी अपनी सोच बड़ी कर.
    कुछ सही कहा आपने ...थोड़ी सोच बड़ी करने की ही ज़रुरत है..... सुंदर भाव लिए रचना

    ReplyDelete
  22. भूखे पेट सो रहे बच्चे,
    पूछो उनसे मज़हब उनका.
    शायद कल रोटी मिलजाये,
    इतना ही है मज़हब उनका... isse badaa koi dharm nahin

    ReplyDelete
  23. गर प्यारा है जो ऱब तुमको,
    चल दुखियों को गले लगालो.
    जो अनाथ लाचार हैं जग में,
    उनको उँगली पकड़ उठा लो.

    कविता का climax बहुत प्यारा है.वाह.

    ReplyDelete
  24. आदरणीय भाईजी कैलाश जी
    प्रणाम !
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    नहीं चाहिये मंदिर मस्ज़िद,
    न गिरिजाघर , गुरुद्वारा.
    मेरा ईश्वर मेरे अन्दर,
    क्यों मैं फिरूं मारा मारा ?


    समझदारी की तो यही बात है …
    घट घट में सांई डोलता …

    बहुत अच्छी रचना के लिएहार्दिक बधाई और आभार !


    शुभकामनाएं
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  25. भूखे पेट सो रहे बच्चे,
    पूछो उनसे मज़हब उनका.
    शायद कल रोटी मिलजाये,
    इतना ही है मज़हब उनका.

    सन्देश देती अच्छी रचना

    ReplyDelete
  26. ईश्वर अल्लाह नहीं अलग हैं,
    थोड़ी अपनी सोच बड़ी कर.

    वाह शर्मा जी वाह, बहुत ही असरदार अभिव्यक्ति है| बधाई|

    ReplyDelete
  27. सही कहा आपने। वहाँ पर बार बनवा दिया जाये तो आटोमैटिक झगड़ा खत्म हो जाये। व्हाट्स युअर ओपीनियन ? सर

    ReplyDelete
  28. सार्थक संदेश देती सुंदर कविता, सच है सेवा से ही ईश्वर मिलता है, संतो ने भी यही संदेश दिया है !

    ReplyDelete
  29. काश ये सन्देश हम आत्मसात कर पाते . आभार इस कविता के लिए .

    ReplyDelete
  30. बहुत सुंदर कविता मजहब पर दमदार कटाक्ष सर बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  31. उत्तम संदेश देती रचना:

    गर प्यारा है जो ऱब तुमको,
    चल दुखियों को गले लगालो.
    जो अनाथ लाचार हैं जग में,
    उनको उँगली पकड़ उठा लो.

    ReplyDelete
  32. शर्मा जी ! ज़मीन से जुडी हुयी रचना है.
    क्षमा करेंगे ....एक विनम्र अनुरोध है ....

    "नहीं चाहिये मंदिर मस्ज़िद,
    न गिरिजाघर , गुरुद्वारा.
    मेरा ईश्वर मेरे अन्दर,
    क्यों मैं फिरूं मारा मारा ?"

    क्या इसे इस तरह लिखा जाय -

    नहीं चाहिए मंदिर मस्जिद
    और न गिरजाघर, गुरुद्वारा.
    मेरा ईश्वर मेरे अन्दर ,
    फिरूं कहाँ मैं मारा-मारा ?

    और "सीता कैदमुक्त न अब तक," के स्थान पर

    सीता कैद, मुक्त न अब तक

    कृपया अन्यथा नहीं लेंगे .....यह मेरा मात्र विनम्र मत भर है.....

    ReplyDelete
  33. गर प्यारा है जो ऱब तुमको,
    चल दुखियों को गले लगालो.
    जो अनाथ लाचार हैं जग में,
    उनको उँगली पकड़ उठा लो.

    सार्थक संदेश देती सुंदर गीत. बहुत ही असरदार अभिव्यक्ति. बधाई.

    ReplyDelete
  34. जीवन के सत्य की सुन्दर अभिव्यक्ति है

    ReplyDelete
  35. सटीक और प्रभावशाली शब्दावली में
    दिया गया बहुत ही असरदार सन्देश ..
    आपकी सोच की पावनता
    सभी तक पहुंचे
    यही कामना है .

    ReplyDelete
  36. गर प्यारा है जो ऱब तुमको,
    चल दुखियों को गले लगालो.
    जो अनाथ लाचार हैं जग में,
    उनको उँगली पकड़ उठा लो.

    बहुत ही सुन्दर संदेश देती पंक्तियाँ हैं....बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  37. पका रहे सब अपनी रोटी,
    मज़हब की दीवार खडी कर.
    ईश्वर अल्लाह नहीं अलग हैं,
    थोड़ी अपनी सोच बड़ी कर...

    ये बाद बहुत अच्छी है अगर सभी ऐसा सोचें तब .... नही तो ये कभी कभी नुकसान देती है लंबे दौर में ....

    ReplyDelete
  38. गर प्यारा है जो ऱब तुमको,
    चल दुखियों को गले लगालो.
    जो अनाथ लाचार हैं जग में,
    उनको उँगली पकड़ उठा लो.

    एक प्रेरक संदेश है इन पंक्तियों में ..सार्थक लेखन ।

    ReplyDelete
  39. बहुत सार्थक और सुंदर रचना । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  40. vishaal hriday se likhi gai rachna....

    wasudha-ev-kutumbkam.....

    ReplyDelete
  41. भूखे पेट सो रहे बच्चे,
    पूछो उनसे मज़हब उनका.
    शायद कल रोटी मिलजाये,
    इतना ही है मज़हब उनका..
    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ! सच्चाई को आपने बड़े खूबसूरती से प्रस्तुत किया है! इस उम्दा रचना के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  42. सत्य वचन शर्मा जी !
    सार्थक और सुन्दर रचना ..
    रचना के अंतिम दो बन्दों में ईश्वर की सच्ची भक्ति निहित है |

    ReplyDelete
  43. सही कहा आपने
    नहीं चाहिये मंदिर मस्ज़िद,
    न गिरिजाघर , गुरुद्वारा

    जीवन का सत्य है -
    मेरा ईश्वर मेरे अन्दर,
    क्यों मैं फिरूं मारा मारा
    उम्दा रचना.. शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  44. पका रहे सब अपनी रोटी,
    मज़हब की दीवार खडी कर.
    ईश्वर अल्लाह नहीं अलग हैं,
    थोड़ी अपनी सोच बड़ी कर....

    Very motivating lines Kailash ji .

    .

    ReplyDelete
  45. "भूखे पेट सो रहे बच्चे,
    पूछो उनसे मज़हब उनका.
    शायद कल रोटी मिलजाये,
    इतना ही है मज़हब उनका"

    झकझोर देने वाली कविता के लिये आभार ।

    ReplyDelete
  46. गर प्यारा है जो ऱब तुमको,
    चल दुखियों को गले लगालो.
    जो अनाथ लाचार हैं जग में,
    उनको उँगली पकड़ उठा लो.

    बहुत ही अच्छा सन्देश दिया है आपने.
    बहुत ही खूब.

    ReplyDelete
  47. समाज के लिये एक प्रश्न भी ,
    और एक संदेश भी ।
    बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  48. पका रहे सब अपनी रोटी,
    मज़हब की दीवार खडी कर.
    ईश्वर अल्लाह नहीं अलग हैं,
    थोड़ी अपनी सोच बड़ी कर

    सही कहा है भाई जी ...शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  49. सुन्दर भाव भरी रचना और धर्मान्धों के लिये एक सशक्त संदेश.


    एक शेर याद आ गया आपकी रचना पढ कर

    मस्जिदें हैं नमाजियों के लिये
    अपने घर में कहीं खुदा रखना
    जब किसी से कोई गिला रखना
    सामने अपने आईना रखना

    ReplyDelete
  50. बहुत सार्थक और सुंदर रचना ।

    ReplyDelete