Tuesday, May 24, 2011

कासे कहूँ ?

कहाँ गयी 
रिश्तों की गरिमा
और पवित्रता?

कैसे रहूँगी सुरक्षित
घर से बाहर,
जब उठने लगती हैं
घर में ही 
कलुषित नज़रें उनकी,
जिनकी गोद में
करती हूँ आशा 
प्रेम और सुरक्षा की.
सोचती हूँ 
अपनों से ही
इज्ज़त लुट जाने से
बेहतर होती
उसकी हत्या
ज़न्म लेने से पहले ही.

बेटी द्वारा 
बलात्कार करने वाले 
पिता की हत्या,
बनकर रह जाती है
सिर्फ़ हैड लाइन 
एक समाचार की,
जिस पर एक नज़र डाल कर,
चाय की चुस्की के साथ,
बढ़ जाते हैं
अगले समाचार पर.

शायद शिकार हो गयी है
सामाजिक संवेदनशीलता भी
इन वहशियों के
बलात्कार की.
शर्म आती है 
अब तो अपने आपको 
इंसान कहने में.

कासे कहूँ
अपनी व्यथा,
तुम्ही बताओ 
अब जाऊँ तो 
कहाँ जाऊँ?

अब नहीं आएगा 
कोई कृष्ण 
द्रोपदी को बचाने
निर्वस्त्र होने से,
उठाना होगा गांडीव
मुझे खुद ही
अपनों के विरुद्ध
अपनी रक्षा में.

43 comments:

  1. सुन्दर प्रस्तुति जो अंतर्मन को कुरेदती है.
    आज 'लंकापुरी' का ही सम्राज्य है चहुँ और
    अफ़सोस! जो भारत जगत गुरू होने की सामर्थ्य रखता
    है,अज्ञान के कारण उसका ये हाल.
    'कृष्ण' और 'अर्जुन' तो अपने अंदर ही है कैलाश जी.

    ReplyDelete
  2. संवेदनाओ से ओतप्रोत कविता, आज की घबरा देने वाली त्रासदी ,
    कैसे किसका दामन पकडे,
    किसका अब विस्वास करे
    किन क़दमों की आस टटोलें
    किस जग में प्रवास करे .

    अभिवादन कैलाश जी

    ReplyDelete
  3. आज की हकीकत...अच्छी रचना...

    ReplyDelete
  4. कासे कहूँ
    अपनी व्यथा,
    तुम्ही बताओ
    अब जाऊँ तो
    कहाँ जाऊँ?
    kahin koi raah nahi ummeed nahi , sach pucho to prashn ka jawaab nahi

    ReplyDelete
  5. बहुत ही शसक्त अभिव्यक्ति ..चहुँ और अविश्वाश और मानवीय संवेदनाओ का निरंतर होता ह्रास ... संवेदनशील रचना ..कोटि कोटि शुभ कामनाएं....

    ReplyDelete
  6. कलयुग में सब एक साथ ही कहदे होते हैं ..गांडीव तो अकेले ही उठाना होगा वो भी पांडवों और कौरवों दोनों पर..
    समाज में फैलती इस चारित्रिक पतन का सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  7. उठाना होगा गांडीव
    मुझे खुद ही
    अपनों के विरुद्ध
    अपनी रक्षा में
    बस यही है हल.
    सशक्त अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  8. bahut hi marmik abhivyakti .samajik yatharth se roobroo karati rachna .aabhar .

    ReplyDelete
  9. बहुत मर्मस्पर्शी रचना ।

    ReplyDelete
  10. वाकई त्रासद... जब घर में ही सुरक्षित नहीं तो कहाँ सुरक्षा की आस करें और किससे हम फरियाद करें ।

    ReplyDelete
  11. उठाना होगा गांडीव
    मुझे खुद ही
    अपनों के विरुद्ध
    अपनी रक्षा मे

    बिल्कुल अब यही करना होगा…………सशक्त अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  12. अब नहीं आएगा
    कोई कृष्ण
    द्रोपदी को बचाने
    निर्वस्त्र होने से,
    उठाना होगा गांडीव
    मुझे खुद ही
    अपनों के विरुद्ध
    अपनी रक्षा में.
    ye to katu satya hai ,bahut marmik rachna

    ReplyDelete
  13. अब नहीं आएगा
    कोई कृष्ण
    द्रोपदी को बचाने
    निर्वस्त्र होने से,
    उठाना होगा गांडीव
    मुझे खुद ही
    अपनों के विरुद्ध
    अपनी रक्षा में.


    बहुत खूब! बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना..
    मन में एक तरंग है
    ज्वाला उठ रही प्रचंड है
    तुम कभी न हार मानना
    चाहे दुश्मन हो अपार
    अब हो जाओ तैयार साथियो हो जाओ तैयार

    ReplyDelete
  14. सशक्त और विचारोत्तेजक कविता।

    ReplyDelete
  15. आज के सच को लिख दिया है ...सोचने पर विवश करती रचना

    ReplyDelete
  16. वे प्रश्न अभी भी ललकारते हैं हमें।

    ReplyDelete
  17. शीलहरण की घटनाओं के उपरान्त, घटना के प्रत्यक्षदर्शी, समाचार को सुनने, पढ़ने और कहने वाले ... इसलिये इस चुप्पी साध लेते हैं...
    क्योंकि ऎसी घटनाएं उसे सामान्य-सी प्रतीत होने लगी हैं...
    जिस कर्म को वह अवचेतन में अंजाम देता हो.. बाहरी रूप से बेशक विरोध दर्ज करता हो..
    जिस कर्म को वह फिल्मों में देखना पसंद करता हो... ऊपरी तौर पर बेशक वह फिल्म को एडल्ट कहकर बक्श देता हो..
    जिस कर्म को वह सरेआम देखता हो... केवल जनता की ओर मुँह करके यह कहता हो कि सारे नपुंसक हैं कोई ऐसे में आवाज क्यों नहीं उठाता, आदि-आदि.
    जिस कर्म को वह भी किसी न किसी रूप में कर रहा हो.. तो कैसे वह प्रबल रूप से विरोध कर पायेगा...
    ...... जब जिस बलात कर्म के प्रति हमारी संवेदनाएँ सूख गयी हों तब कैसे उसका विरोध करें... कैसे वो माहौल बनाएँ कि जरा-सी छेड़खानी पर आसपास की जनता उसे नैतिकता का पाठ पढ़ाने को उत्सुक दिखे..
    जिस कृष्ण के सन्दर्भ में गोपी-चीर हरण की बातें प्रचलित हैं वो कृष्ण तो कम-स-कम द्रोपदी शील सुरक्षा नहीं कर सकता... लगता है गोपी चीरहरण की बातें मिथ्या हैं.

    ReplyDelete
  18. कुछ सुधार :
    ... इसलिये इस पर चुप्पी साध लेते हैं...

    ReplyDelete
  19. पुरुष के बढ़ते वहशीपन पर अच्‍छा कटाक्ष है।

    ReplyDelete
  20. बेहद दुखद स्थिति है... बहुत ही भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  21. बेहद त्रासद स्थिति .......
    व्यक्ति के लिये और समाज के लिये भी ......

    ReplyDelete
  22. उठाना होगा गांडीव
    मुझे खुद ही
    अपनों के विरुद्ध
    अपनी रक्षा में
    बस यही है हल.
    बहुत ही भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  23. सच को बयान करती ... बहुत ही भावपूर्ण रचना है ... भेद जाती है अंतस को ...

    ReplyDelete
  24. आदरणीय श्री कैलाश जी
    अच्छी रचना और हकीकत भी

    ReplyDelete
  25. विद्रूप-सत्य से दर्द उभारती रचना..आह......

    ReplyDelete
  26. वर्तमान सामाजिक हालातों को आईना दिखाती आपकी यह रचना सचमुच सोचने पर मजबूर करती है ...आपका आभार

    ReplyDelete
  27. Bitter but harsh reality of 21st century. Hardened feelings and incurious attitude of so called modern human beings is very pathetic. I agree with you that only solution for this in today's date is Self-Defense.

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  29. बहुत ही भावपूर्ण रचना है सोचने पर मजबूर करती है ...आपका आभार

    ReplyDelete
  30. सोचने पर मजबूर करती बहुत मर्मस्पर्शी रचना|

    ReplyDelete
  31. घर के अपनों के हाथों लुटने से बेहतर है जन्म के पूर्व ही मर जाना। सशक्त अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  32. सामाजिक विषमताओं पर केवल कुठाराघात से हल नहीं निकलते.आपने समाधान के साथ रचना लिख कर ,कविता को नई दिशा प्रदान की है. उत्कृष्ट रचना का मुक्त कंठ से स्वागत है.

    ReplyDelete
  33. वाह.....कितने मार्मिक रूप से आपने इस समस्या को उठाया है और उसका हल भी बताया.......शानदार.....माफ़ी चाहूँगा इतनी देर से आपके ब्लॉग पर पहुँच पाया.....बहुत अच्छा लगा यहाँ आकर|

    ReplyDelete
  34. कविता हमें स्वयं कुछ करने के लिए प्रेरित कर रही है, बनिस्बत उस के कि हम बैठ कर किसी चमत्कार की आशा करें|

    उक्त कविता आज के राजनीतिक परिदृश्य पर भी बहुत सही बैठती है|

    उत्तम कविता के लिए बधाई स्वीकार करें बन्धुवर|

    ReplyDelete
  35. हकीकत को आपने बहुत सुन्दरता से शब्दों में पिरोया है! शानदार और लाजवाब रचना ! प्रशंग्सनीय प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  36. घर में रहते रक्षकों के वेश में नाग है, इनको कुचलना ही पड़ेगा ...शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  37. मर्मस्पर्शी रचना|
    उत्तम कविता के लिए बधाई स्वीकार करें|

    ReplyDelete
  38. samaj ka kaud ban rahi vyatha ko shado me chitrit kar diya....kathor kintu saty...

    ReplyDelete
  39. bahut sundar abhibykti ..hardik badhai...
    sadar
    laxmi narayan lahare

    ReplyDelete