Sunday, July 17, 2011

हाथ की लकीरें

काश साफ़ होती
तकदीर की स्लेट
और हाथ की लकीरें.

होती शुरू 
ज़िंदगी की दौड़
एक ही पंक्ति से,
समान स्तर पर,
दौड़ते सभी 
अपनी अपनी सामर्थ्य
बुद्धि और मेहनत 
के अनुसार.
लिखी जातीं तकदीर
अपने हाथों से 
और हथेली पर लकीरें
खींच पाते
हम अपनी मर्जी से.

किस्मत पर रोने
या हथेली की लकीरों को
दोष देने से 
क्या होगा?
नेताओं द्वारा दिखायी
झूठे सपनों की लहरें,
हैं सिर्फ़ दिवास्वप्न.

समझो अपनी ताकत,
आने दो सुनामी
करने को समतल
अन्याय, शोषण और भ्रष्टाचार 
पर खड़े महल,
फिर उस समतल ज़मीन पर 
लिख पाओगे अपनी तक़दीर
अपने हाथों से,
और ज़न्म लेने पर
हथेलियाँ होंगी
बिलकुल साफ़,
जिन पर उकेर पाओगे
रेखायें 
अपनी मेहनत से.

नहीं देगा दोष कोई
फिर अपनी तकदीर 
या हाथ की लकीरों को.

41 comments:

  1. और ज़न्म लेने पर
    हथेलियाँ होंगी
    बिलकुल साफ़,
    जिन पर उकेर पाओगे
    रेखायें
    अपनी मेहनत से

    उत्प्रेरित करती शशक्त रचना सच है खीचनी ही होंगी अपने हाथों से अपने ही हाथों की लकीरें.बधाई

    ReplyDelete
  2. आने दो सुनामी
    करने को समतल
    अन्याय, शोषण और भ्रष्टाचार
    पर खड़े महल,
    फिर उस समतल ज़मीन पर
    लिख पाओगे अपनी तक़दीर
    क्या बात है ! नयी बुनियाद बनानी ही होगी ,
    विचारों की,संकल्प की सुनामी को आना ही होगा ...
    शुभकामनायें आपको ......

    ReplyDelete
  3. नहीं देगा दोष कोई
    फिर अपनी तकदीर
    या हाथ की लकीरों को.

    Sahee kaha kailash jee....haathon ki chand lakeeron ka ye khel hai yaar taqdeeron ka!!

    मेरी नई पोस्ट पे आपका स्वागत् है....
    http://raaz-o-niyaaz.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

    ReplyDelete
  4. बेहद सशक्त सोच दर्शाती अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  5. बेहद सशक्त सोच दर्शाती अभिव्यक्ति .....

    ReplyDelete
  6. बहुत भावो को समेटा है………शानदार

    ReplyDelete
  7. बिलकुल सही लिखा है आपने .सभी को अपनी मेहनत के अनुसार फल मिले तो हाथ की लकीरों से कौन लड़े .?आभार

    ReplyDelete
  8. आने दो सुनामी
    करने को समतल
    अन्याय, शोषण और भ्रष्टाचार
    पर खड़े महल

    वाह बेहद खूब कहा है.... इस आशावादी सोच के साथ ही हम आनेवाले कल को बदल सकते है......

    ReplyDelete
  9. प्रस्तुत कविता शुरू तो होती है सर्व ज्ञात सिद्धांत 'तक़दीर-लकीर' से, पर ख़त्म होने से पहले अपना सन्देश देने में कामयाब -

    समझो अपनी ताकत,
    आने दो सुनामी
    करने को समतल
    अन्याय, शोषण और भ्रष्टाचार
    पर खड़े महल,

    ReplyDelete
  10. बहुत सार्थक रचना बधाई एक शेर याद आ रहा है ....
    कुछ लोगों ने तदवीर से तकदीर बना ली
    और हम पंडितों को हाथ दिखाते रह गये |

    ReplyDelete
  11. हाथ की लकीरों को धन्यवाद तो दिया जाये, दोष नहीं।

    ReplyDelete
  12. आशावादी विचारों के साथ सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  13. भावों को सटीक प्रभावशाली अभिव्यक्ति दे पाने की आपकी दक्षता मंत्रमुग्ध कर लेती है...
    इसअवस्था के लिए हम खुद भी दोषी हैं हाथ की लकीरें या किस्मत नहीं !
    हमारे कर्मों से ही हमारी तक़दीर बनती है और अपनी तक़दीर हम खुद बनाते हैं !
    !
    आपने बहुत सुन्दर शब्दों में अपनी बात कही है। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  14. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (11-7-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर रचना... आपकी यह उत्कृष्ट रचना दिनांक 19-07-2011 को मंगलवारीय चर्चा में चर्चा मंच पर भी होगी कृपया आप चार्चा मंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर पधार कर अपने सुझावों से अवगत कराएं

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति,

    साभार,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  17. हथेलियाँ होंगी
    बिलकुल साफ़,
    जिन पर उकेर पाओगे
    रेखायें
    अपनी मेहनत से
    ....शशक्त रचना सच है बेहद सशक्त सोच दर्शाती अभिव्यक्ति....!

    ReplyDelete
  18. आने दो सुनामी
    करने को समतल
    अन्याय, शोषण और भ्रष्टाचार
    पर खड़े महल

    बेहतरीन शब्‍द रचना ।

    ReplyDelete
  19. आशावादी विचारों के साथ सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  20. किस्मत पर रोने
    या हथेली की लकीरों को
    दोष देने से
    क्या होगा?
    नेताओं द्वारा दिखायी
    झूठे सपनों की लहरें,
    हैं सिर्फ़ दिवास्वप्न.

    बहुत सुंदर प्रेरणादायी रचना !

    ReplyDelete
  21. आप का बलाँग मूझे पढ कर अच्छा लगा , मैं भी एक बलाँग खोली हू
    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/

    आपको मेरी हार्दिक शुभकामनायें.

    अगर आपको love everbody का यह प्रयास पसंद आया हो, तो कृपया फॉलोअर बन कर हमारा उत्साह अवश्य बढ़ाएँ।

    ReplyDelete
  22. बेहतरीन शब्‍द रचना ।

    ReplyDelete
  23. नहीं देगा दोष कोई
    फिर अपनी तकदीर
    या हाथ की लकीरों को.

    सशक्त सोच दर्शाती अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  24. संवेदना से भरी मार्मिक रचना। बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको हार्दिक धन्यवाद!

    ReplyDelete
  25. सशक्त अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  26. बहुत सुन्दर और सशक्त पोस्ट...........कहते हैं किस्मत तो उनकी भी होती है जिनके हाथ नहीं होते...........

    ReplyDelete
  27. bahut sunder abhibyakti.badhaai aapko.




    please visit my blog.thanks.

    ReplyDelete
  28. अपने हाथों की लकीर हम खुंद बनाये , सशक्त रचना .

    ReplyDelete
  29. हाथों की लकीर से ...गहनता के साथ भावों को प्रस्तुत किया है आपने .सशक्त प्रस्तुतीकरण के लिए बधाई

    ReplyDelete
  30. और ज़न्म लेने पर
    हथेलियाँ होंगी
    बिलकुल साफ़,
    जिन पर उकेर पाओगे
    रेखायें
    अपनी मेहनत से....

    अद्भुत रचना है सर...
    सादर...

    ReplyDelete
  31. बाजुओं में दम होना चाहिए....तकदीर भी बन जाएगी.....

    ReplyDelete
  32. हौसला बढ़ाती सुंदर प्रेरक रचना

    ReplyDelete
  33. बेहद सशक्त सोच दर्शाती अभिव्यक्ति| आभार|

    ReplyDelete
  34. bahut hi umda likhte hain aap Uncle... bahut kuch seekhna hai aapse... is duniya aur duniyadaari, aur uske saath hamari apni soch... kitne acche se saralta ke saath sab kuch bayan kar dete hain aap...

    ReplyDelete
  35. Wonderful creation Kailash ji !

    ReplyDelete
  36. kash ki aisa ho pata.
    bahut acchi rachna
    http://meriparwaz.blogspot.com/

    ReplyDelete
  37. बुद्धि और मेहनत
    के अनुसार.
    लिखी जातीं तकदीर
    अपने हाथों से
    और हथेली पर लकीरें
    खींच पाते
    हम अपनी मर्जी से.

    किस्मत पर रोने
    या हथेली की लकीरों को
    दोष देने से
    क्या होगा?
    सटीक पंक्तियाँ! बिना मेहनत किए फल की आशा करना मुर्खता है! सुन्दर अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना!

    ReplyDelete
  38. गहन जीवन दर्शन है आपकी इस रचना में....

    ReplyDelete