Sunday, February 13, 2011

वहाँ क्या प्यार नहीं है ?

लेकर गुलाब लाल खड़े इंतज़ार में,
गहराई प्यार की है छुपी स्वर्णहार में,
प्रियतम की बांह और संगीत है मधुर,
मस्ती में नाचते हैं, उत्सव है प्यार का.


               है गर नहीं गुलाब  तो क्या  प्यार ही नहीं,
               अभिव्यक्त कर सके न,तो क्या प्यार ही नहीं,
               इज़हार ही से आंकते गहराई प्यार की,
               कैसे कहूँ मैं  इसको  त्यौहार प्यार का.


पत्थर को तोड़ती हुई मायूस है नज़र,
रोता है भूखा बचपन धूप में उधर,
कैसे जलेगा शाम को चूल्हा यह फिक्र है,
लायेगा वह कहाँ से उपहार प्यार का.


               है प्यार सिर्फ़ नाम का, पैसे का खेल है,
               कहने को शब्द भर हैं, न दिलों का मेल है,
               जो ढो रहे हैं ज़िन्दगी का भार सिरों पर,
               कैसे कहें कि उनको नहीं ज्ञान प्यार का.

52 comments:

  1. बहुत ही बढ़िया अभिव्यक्ति.

    आपने दिखावटी प्यार की सारी कलई खोल दी है .
    है गर नहीं गुलाब तो क्या प्यार ही नहीं,
    अभिव्यक्त कर सके न,तो क्या प्यार ही नहीं,
    इज़हार ही से आंकते गहराई प्यार की,
    कैसे कहूँ मैं इसको त्यौहार प्यार का

    आपकी कलम को नमन

    ReplyDelete
  2. है गर नहीं गुलाब तो क्या प्यार ही नहीं,
    अभिव्यक्त कर सके न,तो क्या प्यार ही नहीं,
    इज़हार ही से आंकते गहराई प्यार की,
    कैसे कहूँ मैं इसको त्यौहार प्यार का.
    pyaar to bas ehsaas hai...

    ReplyDelete
  3. है प्यार सिर्फ़ नाम का, पैसे का खेल है,
    कहने को शब्द भर हैं, न दिलों का मेल है,

    बिल्कुल सत्य...

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब .....
    शुभकामनायें भाई जी !

    ReplyDelete
  5. "...है प्यार सिर्फ़ नाम का, पैसे का खेल है,
    कहने को शब्द भर हैं, न दिलों का मेल है,..."

    आपने सच को बहुत ही सुन्दर शब्द दिए हैं सर!

    ReplyDelete
  6. 'कहां किसी का प्‍यार पूरा होता है,
    प्‍यार का तो पहला अक्षर ही आधा होता है।'
    बेहतरीन अभिव्‍यक्ति।

    ReplyDelete
  7. सुंदर अभिव्यक्ति ! सच्चे प्यार में प्रतिदान की न तो कोई चाह होती है न ही कोई उलाहना !

    ReplyDelete
  8. है गर नहीं गुलाब तो क्या प्यार ही नहीं,
    अभिव्यक्त कर सके न,तो क्या प्यार ही नहीं,


    -बहुत उम्दा!!

    ReplyDelete
  9. है गर नहीं गुलाब तो क्या प्यार ही नहीं,
    अभिव्यक्त कर सके न,तो क्या प्यार ही नहीं,
    इज़हार ही से आंकते गहराई प्यार की,
    कैसे कहूँ मैं इसको त्यौहार प्यार का.

    सुन्दर,सामयिक और प्यारी रचना. बहुत बढ़िया.

    ReplyDelete
  10. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (14-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    ReplyDelete
  11. है प्यार सिर्फ़ नाम का, पैसे का खेल है,
    कहने को शब्द भर हैं, न दिलों का मेल है,
    जो ढो रहे हैं ज़िन्दगी का भार सिरों पर,
    कैसे कहें कि उनको नहीं ज्ञान प्यार का.


    आज की परिस्थितियों से आपने बखूबी परिचय करवा दिया .....

    ReplyDelete
  12. है प्यार सिर्फ़ नाम का, पैसे का खेल है,
    कहने को शब्द भर हैं, न दिलों का मेल है,
    जो ढो रहे हैं ज़िन्दगी का भार सिरों पर,
    कैसे कहें कि उनको नहीं ज्ञान प्यार का.
    सुन्दर रचना
    प्रेम दिवस की बधाई!

    ReplyDelete
  13. गुलाब और प्यार में शायद पुराना रिश्ता है

    ReplyDelete
  14. है प्यार सिर्फ़ नाम का, पैसे का खेल है,
    कहने को शब्द भर हैं, न दिलों का मेल है,
    जो ढो रहे हैं ज़िन्दगी का भार सिरों पर,
    कैसे कहें कि उनको नहीं ज्ञान प्यार का...
    बहुत सुन्दर..सिर्फ अहसास है ये रूह से महसूस करो...
    आज की परिस्थितियों से रूबरू कराती बेहतरीन रचना....

    ReplyDelete
  15. मैं वृक्ष हूँ। वही वृक्ष, जो मार्ग की शोभा बढ़ाता है, पथिकों को गर्मी से राहत देता है तथा सभी प्राणियों के लिये प्राणवायु का संचार करता है। वर्तमान में हमारे समक्ष अस्तित्व का संकट उपस्थित है। हमारी अनेक प्रजातियाँ लुप्त हो चुकी हैं तथा अनेक लुप्त होने के कगार पर हैं। दैनंदिन हमारी संख्या घटती जा रही है। हम मानवता के अभिन्न मित्र हैं। मात्र मानव ही नहीं अपितु समस्त पर्यावरण प्रत्यक्षतः अथवा परोक्षतः मुझसे सम्बद्ध है। चूंकि आप मानव हैं, इस धरा पर अवस्थित सबसे बुद्धिमान् प्राणी हैं, अतः आपसे विनम्र निवेदन है कि हमारी रक्षा के लिये, हमारी प्रजातियों के संवर्द्धन, पुष्पन, पल्लवन एवं संरक्षण के लिये एक कदम बढ़ायें। वृक्षारोपण करें। प्रत्येक मांगलिक अवसर यथा जन्मदिन, विवाह, सन्तानप्राप्ति आदि पर एक वृक्ष अवश्य रोपें तथा उसकी देखभाल करें। एक-एक पग से मार्ग बनता है, एक-एक वृक्ष से वन, एक-एक बिन्दु से सागर, अतः आपका एक कदम हमारे संरक्षण के लिये अति महत्त्वपूर्ण है।

    ReplyDelete
  16. पत्थर को तोड़ती हुई मायूस है नज़र,
    रोता है भूखा बचपन धूप में उधर,
    कैसे जलेगा शाम को चूल्हा यह फिक्र है,
    लायेगा वह कहाँ से उपहार प्यार का.

    ये पम्क्तियाँ बहुत ही प्रभावोत्पादक हैं



    वसन्त पर आप द्वारा लिखी हुई कवित बहुत ही सुन्दर है

    ReplyDelete
  17. पत्थर को तोड़ती हुई मायूस है नज़र,
    रोता है भूखा बचपन धूप में उधर,
    कैसे जलेगा शाम को चूल्हा यह फिक्र है,
    लायेगा वह कहाँ से उपहार प्यार का.
    Kya baat kah dee!Ye kaisi vidambana hai!

    ReplyDelete
  18. आदरणीय शर्मा जी आपने प्यार को बड़े प्यार से दार्शनिक अंदाज में समझाया है |बधाई आपको सर |ब्लॉग पर आने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  19. प्रेम को कितनी सार्थक और सच्ची अभिव्यक्ति दी आपने .....

    ReplyDelete
  20. प्रेम गहरा है, सतही नहीं।

    ReplyDelete
  21. प्रेम दिवस पे बहुत ही खूबसूरत अभिव्यक्ति शर्मा जी!

    ReplyDelete
  22. आपकी नज़र से प्यार के ये रंग भी जानने अछे लगे

    ReplyDelete
  23. Sharma ji, Namaskar!
    है गर नहीं गुलाब तो क्या प्यार ही नहीं,
    अभिव्यक्त कर सके न,तो क्या प्यार ही नहीं,
    इज़हार ही से आंकते गहराई प्यार की,
    कैसे कहूँ मैं इसको त्यौहार प्यार का.

    Too much meaningful creation sir!
    Too much impressive and sensitive,
    Have bound to think again & again.
    Thanks Sir! many -many thanks....

    ReplyDelete
  24. बहुत खूब। प्यार का यह रंग बहुत अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  25. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति।

    ReplyDelete
  26. बहुत ही सुन्दर रचना, आभार.

    ReplyDelete
  27. आदरणीय कैलाश जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    प्रेम के बनावटी स्वरूप पर अच्छी रचना लिखी है आपने -
    है गर नहीं गुलाब तो क्या प्यार ही नहीं ?
    अभिव्यक्त कर सके न, तो क्या प्यार ही नहीं ?
    इज़हार ही से आंकते गहराई प्यार की … !


    भाव बहुत दूर ले गए … बहुत पीछे की ओर …

    वो क्या समझे प्यार को , जिनका सब कुछ चांदी सोना है
    धन वालों की इस दुनिया में दिल तो एक खिलौना है
    सदियों से दिल टूटता आया , दिल का बस ये रोना है…


    आभार !

    प्रेम बिना निस्सार है यह सारा संसार !
    प्रणय दिवस मंगलमय हो ! :)

    बसंत ॠतु की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  28. है प्यार सिर्फ़ नाम का, पैसे का खेल है,
    कहने को शब्द भर हैं, न दिलों का मेल है,
    जो ढो रहे हैं ज़िन्दगी का भार सिरों पर,
    कैसे कहें कि उनको नहीं ज्ञान प्यार का.
    वेलेन्टाइन डे की यही हकीकत है . सुंदर अभिव्यक्ति के लिये आभार.

    ReplyDelete
  29. है प्यार सिर्फ़ नाम का, पैसे का खेल है,
    कहने को शब्द भर हैं, न दिलों का मेल है,
    जो ढो रहे हैं ज़िन्दगी का भार सिरों पर,
    कैसे कहें कि उनको नहीं ज्ञान प्यार का.
    वेलेन्टाइन डे की यही हकीकत है . सुंदर अभिव्यक्ति के लिये आभार.

    ReplyDelete
  30. है गर नहीं गुलाब तो क्या प्यार ही नहीं,
    अभिव्यक्त कर सके न,तो क्या प्यार ही नहीं,

    बहुत गहरी बात लिखी आपने .

    .

    ReplyDelete
  31. दिल की गहराइयों से निकली आवाज़ . सुंदर कविता. आभार .

    ReplyDelete
  32. आदरणीय कैलाश जी नमस्कार .
    दिल की गहराइयों से निकली आवाज़ . सुंदर कविता, बहुत बढ़िया.

    ReplyDelete
  33. आआजकल के युवा प्यार और आस्क्ति मे फर्क नही कर पा रहे\ प्यार कहाँ रहा अब आस्क्ति को ही प्यार माना जा रहा है। सुन्दर रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  34. है गर नहीं गुलाब तो क्या प्यार ही नहीं,
    अभिव्यक्त कर सके न,तो क्या प्यार ही नहीं,

    बहुत ही सुन्‍दर गहन भावों का समावेश हर पंक्ति में ।

    ReplyDelete
  35. wah wah kya baat hai bouth he aacha post kiya ha aapne ....
    Keep Visit my Blog Plz... :D
    Lyrics Mantra
    Music Bol

    ReplyDelete
  36. सुन्दर,सामयिक और प्यारी रचना. बहुत बढ़िया.

    ReplyDelete
  37. प्रेमदिवस की शुभकामनाये !
    कई दिनों से बाहर होने की वजह से ब्लॉग पर नहीं आ सका
    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    ReplyDelete
  38. प्यार तो बस प्यार है, हर चीज से ऊपर ! प्यार और दिखावट पर आपकी रचना बहुत अच्छी लगी ...

    ReplyDelete
  39. वाह...वाह...वाह...इस बेजोड़ रचना के माध्यम से आपने मेरे दिल की बात लिख दी...बधाई...
    नीरज

    ReplyDelete
  40. है गर नहीं गुलाब तो क्या प्यार ही नहीं,
    अभिव्यक्त कर सके न,तो क्या प्यार ही नहीं,
    इज़हार ही से आंकते गहराई प्यार की,
    कैसे कहूँ मैं इसको त्यौहार प्यार का.
    आपने तो मेरे दिल की बात लिख दी !
    भारत में तो हर दिन प्यार के इजहार का दिन होता है !
    पूरी कविता सच्चाई का आईना है !
    बहुत, बहुत साधुवाद कैलाश जी

    ReplyDelete
  41. है प्यार सिर्फ़ नाम का, पैसे का खेल है,
    कहने को शब्द भर हैं, न दिलों का मेल है,
    जो ढो रहे हैं ज़िन्दगी का भार सिरों पर,
    कैसे कहें कि उनको नहीं ज्ञान प्यार का।

    प्यार का गहन विश्लेषण करती एक अच्छी रचना।

    ReplyDelete
  42. jindagi ke donon pahluon par aapki nazar hai..
    ek taraf pyaar ke izhaar par dikhavatipan...aur doosari taraf bina izhaar ke jarooraton ko poora karne main laga hua sachcha pyaa...!!
    shaayad hum pyaar ko dikhne wala apna dil,dimaag aur aankh kho chuke hain...isiliye ek gulaab de kar kaam chala lete hain.!!

    ReplyDelete
  43. अब यहाँ सुख चैन के मंजर नहीं मिलते

    बात होती है जुबां से दिल नहीं मिलते

    काट डाले नफरतो की बेड़िया मिलकर

    "धीर" ढूंढे से भी वो खंजर नहीं मिलते

    ........आपको पढ़कर सीखने का प्रयास

    करता हूँ, काश आप जैसा लिख पाता....

    आपका अनुज.....

    धीरेन्द्र गुप्ता"धीर"

    ReplyDelete
  44. पत्थर को तोड़ती हुई मायूस है नज़र,
    रोता है भूखा बचपन धूप में उधर,
    कैसे जलेगा शाम को चूल्हा यह फिक्र है,
    लायेगा वह कहाँ से उपहार प्यार का.

    behad khoobsurat

    ReplyDelete
  45. पत्थर को तोड़ती हुई मायूस है नज़र,
    रोता है भूखा बचपन धूप में उधर,
    कैसे जलेगा शाम को चूल्हा यह फिक्र है,
    लायेगा वह कहाँ से उपहार प्यार का.

    bahut pyara...

    ReplyDelete
  46. priya sharma sahab ,

    pranam

    kya bat hai ! anang ke sath chipi umang varnit karti hai bhavnaon ki bhasha ,paribhasha ko . sundar kavya .badhayiyan .

    ReplyDelete
  47. बहुत अर्थपूर्ण रचना सर !
    आप हमारे ब्लॉग में पधारे, हमें प्रोत्साहन दिया ! आपका हार्दिक धन्यवाद व आभार !:-)
    आज सुबह से मन में बार बार यही विचार उभर रहे थे... 'आई लव यू' कहने से या लिखने से ही प्यार की अभिव्यक्ति होती है क्या ? ये तीन बेजान शब्द... कहा जाता है, इनमें बड़ी ताक़त होती है.., क्या सचमुच, बोल देने से... प्यार के होने का अहसास संपूर्ण हो जाता है ? प्यार अगर फूलों की डगर है...तो उसकी महक से ताउम्र दिल महकता रहना चाहिए और प्यार अगर काँटों की डगर है...तो उसकी चुभन से ताउम्र दिल में मीठी कसक रहनी चाहिए...~प्यार सिर्फ़ बोल नहीं है...इसका एहसास बहुत ही अनोखा, अनमोल है...जो हर किसी के नसीब नहीं है...
    ~सादर !

    ReplyDelete