Monday, October 24, 2011

आओ सब एक दीप जलायें

               प्यार लुटा कर देख लिया अब तक अपनों पर,
               आओ अब कुछ खुशियाँ बाँटें, बाहर भी जग में.

                           कौन है अपना कौन पराया,
                           झूठे रिश्तों ने मन भरमाया.
                           हाथ बढ़ा कर देखो उसको,
                           जिसने प्यार कभी न पाया.

               क्या पाया तुमने केवल अपनों के अश्रु पोंछ कर,
               बांटो कुछ मुस्कानें, इससे जो अनजान हैं जग में.

                           मत गुम हो अपनी खुशियों में,
                           कुछ तो बांटो तुम दुखियन में.
                           कैसे अपना ही पेट मैं भर लूं,
                           जले न चूल्हा जब हर घर में.

               बहुत जी लिये अब तक, अपने ही स्वारथ की खातिर,
               करें समर्पित जीवन उनको,जो अनाथ लाचार हैं जग में.

                           बहुत अँधेरा इन कुटियों में,
                           आओ सब एक दीप जलायें.
                           दीप न महलों के कम होंगे,
                           हर आँगन को अगर सजायें.  

               मंदिर में तो अर्चन करते, दीप जलाते  उम्र कट गयी,
               आओ मिलकर दीप जलायें, घना अँधेरा है जिस पथ में.


                    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं !

54 comments:

  1. बहुत बहुत सुन्दर और आशामायी प्रस्तुति |

    आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  2. आओ मिलकर दीप जलायें, घना अँधेरा है जिस पथ में रौशन उसे बनायें ... दीपोत्‍सव की शुभकामनाओं के साथ बधाई ।

    ReplyDelete
  3. बहुत अँधेरा इन कुटियों में,
    आओ सब एक दीप जलायें.
    दीप न महलों के कम होंगे,
    हर आँगन को अगर सजायें.
    ..हर घर में उजियारा की कामना करती आपकी सार्थक प्रस्तुति के लिए धन्यवाद.
    दीपावली की आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  4. बहुत अँधेरा इन कुटियों में,
    आओ सब एक दीप जलायें.
    दीप न महलों के कम होंगे,
    हर आँगन को अगर सजायें.
    सेवा का संदेश देती बहुत सुंदर भाव भरी कविता... ज्योति पर्व पर इस प्रस्तुति के लिये हार्दिक बधाई!

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया लिखा है..हर मन उजियारा से भरे.दीपावली की हार्दिक-हार्दिक शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  6. सुन्दर प्रस्तुति |

    शुभ-दीपावली ||

    ReplyDelete
  7. शेष जगत को महका लें।

    ReplyDelete
  8. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    कल 25/10/2011 को आपकी कोई पोस्ट!
    नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  9. सुन्दर सन्देश... पावन भाव!
    शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  10. बढ़िया गीत सर,
    आपको दीप पर्व की सपरिवार सादर बधाईयां....

    ReplyDelete
  11. सुन्दर सन्देश देती अच्छी रचना ..

    दीपावली की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर संदेश दिया है…………दीपावली की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर
    दीपमालिका पर्व की हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  14. bahut sunder
    dipawali ki hardik shubhkamnaye

    ReplyDelete
  15. बहुत अँधेरा इन कुटियों में,
    आओ सब एक दीप जलायें.
    दीप न महलों के कम होंगे,
    हर आँगन को अगर सजायें.
    …दीपावली की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  16. सुन्दर संदेश भाव भरी कविता
    आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें….!

    संजय भास्कर
    आदत....मुस्कुराने की
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  17. अति सुन्दर..…दीपावली की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  18. कल के चर्चा मंच पर, लिंको की है धूम।
    अपने चिट्ठे के लिए, उपवन में लो घूम।।
    --
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर कैलाश जी
    आपको धनतेरस और दीपावली की हार्दिक दिल से शुभकामनाएं
    MADHUR VAANI
    MITRA-MADHUR
    BINDAAS_BAATEN

    ReplyDelete
  20. सुन्दर सन्देश देती .. आह्वान करती रचना
    दीपावली की हार्दिक बधाई ..

    ReplyDelete
  21. sundar srijan ko samman , pavan parva ki maubarakvad najar karate hain ....mangalmay ho diwali ....../

    ReplyDelete
  22. बहुत अँधेरा इन कुटियों में,
    आओ सब एक दीप जलायें.
    दीप न महलों के कम होंगे,
    हर आँगन को अगर सजायें. ..बहुत सुन्दर सन्देश देती रचना...दीपावली की हार्दिक बधाई ..

    ReplyDelete
  23. सुन्दर सन्देश देती रचना.
    दीपावली की भी हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  24. गीत बहुत अच्छा लगा।
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  25. सुन्दर रचना, दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं ......

    ReplyDelete
  26. सुन्दर सन्देश देती प्रस्तुति
    आपको व आपके परिवार को दीपावली कि ढेरों शुभकामनायें

    ReplyDelete
  27. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  28. बहुत सुंदर ..
    .. दीपावली की शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  29. कैलाश जी,
    नमस्कार,
    आप के लिए "दिवाली मुबारक" का एक सन्देश अलग तरीके से "टिप्स हिंदी में" ब्लॉग पर तिथि 26 अक्टूबर 2011 को सुबह के ठीक 8.00 बजे प्रकट होगा | इस पेज का टाइटल "आप सब को "टिप्स हिंदी में ब्लॉग की तरफ दीवाली के पावन अवसर पर शुभ कामनाएं" होगा पर अपना सन्देश पाने के लिए आप के लिए एक बटन दिखाई देगा | आप उस बटन पर कलिक करेंगे तो आपके लिए सन्देश उभरेगा | आपसे गुजारिश है कि आप इस बधाई सन्देश को प्राप्त करने के लिए मेरे ब्लॉग पर जरूर दर्शन दें |
    धन्यवाद |
    विनीत नागपाल

    ReplyDelete
  30. अच्‍छी उम्‍मीदें..... बेहतर आशाएं....
    आपको और आपके परिवार को दीप पर्व की शुभकामनाएं....

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...दीपावली की ढेरों शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  32. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें .... हैप्पी दिवाली ...!

    ReplyDelete
  33. बहुत अच्छा आह्वान ...दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  34. आओ सब एक दीप जलायें....बहुत ही सुन्दर... शुभ दिवाली...

    ReplyDelete
  35. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  36. पञ्च दिवसीय दीपोत्सव पर आप को हार्दिक शुभकामनाएं ! ईश्वर आपको और आपके कुटुंब को संपन्न व स्वस्थ रखें !
    ***************************************************

    "आइये प्रदुषण मुक्त दिवाली मनाएं, पटाखे ना चलायें"

    ReplyDelete
  37. बहुत ही सुन्दर भावमय प्रस्तुति है आपकी.

    दीपावली के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर भी आईयेगा.

    'नाम जप' पर अपने अमूल्य विचारों व अनुभवों
    को प्रस्तुत करके अनुग्रहित कीजियेगा.

    ReplyDelete
  38. very nice... bhaut hi khbsurat...happy diwali..

    ReplyDelete
  39. सार्थक रचना, सुन्दर प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकारें.

    समय- समय पर मिली आपकी प्रतिक्रियाओं , शुभकामनाओं, मार्गदर्शन और समर्थन का आभारी हूँ.

    "शुभ दीपावली"
    ==========
    मंगलमय हो शुभ 'ज्योति पर्व ; जीवन पथ हो बाधा विहीन.
    परिजन, प्रियजन का मिले स्नेह, घर आयें नित खुशियाँ नवीन.
    -एस . एन. शुक्ल

    ReplyDelete
  40. दीप पर्व की अनंत मंगलकामनाएं !

    ReplyDelete
  41. बहुत जी लिये अब तक, अपने ही स्वारथ की खातिर,
    समर्पित जीवन उनको,जो अनाथ लाचार हैं जग में.
    मंदिर में तो अर्चन करते, दीप जलाते उम्र कट गयी,
    आओ मिलकर दीप जलायें, घना अँधेरा है जिस पथ में.
    अद्भुत अभिव्यक्ति....!! "दीपावली की हार्दिक बधाई"

    ReplyDelete
  42. बहुत सुन्दर एवं सटीक रचना !
    आपको दीप पर्व दीपावली की शुभ कामनाएं !!

    ReplyDelete
  43. आओ मिलकर दीप जलायें, घना अँधेरा है जिस पथ में रौशन उसे बनायें ...
    आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  44. आदरणीय शर्मा जी!
    आपको, आपके मित्रों और परिजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  45. दीपो का ये महापर्व आप के जीवन में अपार खुशियाँ एवं संवृद्धि ले कर आये ...
    इश्वर आप के अभीष्ट में आप को सफल बनाये एवं माता लक्ष्मी की कृपादृष्टि आप पर सर्वदा बनी रहे.

    शुभकामनाओं सहित ..
    आशुतोष नाथ तिवारी

    ReplyDelete
  46. मंदिर में तो अर्चन करते, दीप जलाते उम्र कट गयी,
    आओ मिलकर दीप जलायें, घना अँधेरा है जिस पथ में.

    वाह दीपावली का सही और सुंदर संदेश । आपको दीपावली की अनेकानेक शुभ कामनाएँ ।

    ReplyDelete
  47. सुविचारों से ओत प्रोत संदर प्रस्तुति

    दिवाली-भाई दूज और नववर्ष की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  48. बहुत बढ़िया... दिवाली की हार्दिक शुभकामना !

    ReplyDelete
  49. bahut khoobsurat khwahish....deepawali ki shubhkamnayen...

    ReplyDelete
  50. कैलाश जी नमस्कार, बहुत सुन्दर विचारों से युक्त कविता।

    ReplyDelete
  51. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें.आपकी रचना का संदेश जन-जन तक पहुँचे.इस व्यापक सोच को यदि आत्मसात कर लिया गया तो समूची दुनियाँ ही अपना परिवार लगेगी.बहुजन-हिताय ,बहुजन सुखाय का संदेश देती सार्थक रचना.

    ReplyDelete