Friday, September 16, 2011

तलाश खुद की


कितना अच्छा लगता है
कभी खुद से खोकर
खुद को ढूँढना.

बीती हुई गलतियों पर
एक निर्पेक्ष दृष्टिपात;
गुजरे रास्तों से
फिर से गुजरना,
छोड़े हुए मोडों पर
जगती जिज्ञासा,
कहाँ ले जाते 
वे मोड़
अगर लिये होते.

खुशियों के कुछ मधुर पल 
जो आज भी अंकित हैं
स्मृतियों में,
और वे पल भी
जब कभी रोये थे 
बिना किसी कंधे के सहारे.

कितने साथी और रिश्ते
जो बने और बिछुड़ गये
और कुछ 
जो होकर भी साथ
बन गये अनजाने.

इतिहास के 
पीले पन्नों में
कुछ सूखे गुलाब,
आँखों से गिरे
अश्कों के कुछ फ़ीके धब्बे,
और उनके बीच झांकता 
एक धुंधला चेहरा,
कितना मुश्किल कर देता है
उन पन्नों में ढूँढना 
अपने आप को.

काश भूल पाता यह सब
और ढूंढ पाता
खुद को खुद से भूल कर 
वह मासूम 
और निश्छल चेहरा 
जो फंस गया है
जीवन के मकड़जाल में.

49 comments:

  1. अथ--

    सुन्दर

    प्रस्तुति |

    बधाई,

    इति ||

    ReplyDelete
  2. जीवन की सच्चाई को उजागर करती गहन अभिव्यक्ति| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  3. Bahut hi sunder
    . . . dhanyawad. . .

    ReplyDelete
  4. इतिहास के
    पीले पन्नों में
    कुछ सूखे गुलाब,
    आँखों से गिरे
    अश्कों के कुछ फ़ीके धब्बे,
    और उनके बीच झांकता
    एक धुंधला चेहरा,


    बहुत ही सुन्दर कविता !

    ReplyDelete
  5. वह मासूम
    और निश्छल चेहरा
    जो फंस गया है
    जीवन के मकड़जाल में.
    बहुत सुंदर भावाव्यक्ति ,बधाई

    ReplyDelete
  6. bahut umda rachna. Aabhaar..
    Mere blog me bhi padharen.

    ReplyDelete
  7. मासूम और निश्छल चेहरा मिल जाए तो सही में मेरा मैं ही मिल जाए. सुन्दर लिखा है

    ReplyDelete
  8. काश भूल पाता यह सब
    और ढूंढ पाता
    खुद को खुद से भूल कर
    वह मासूम
    और निश्छल चेहरा
    जो फंस गया है
    जीवन के मकड़जाल में.

    अनोखी दार्शनिकता का अहसास कराती
    आपकी सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आपका इंतजार है.

    ReplyDelete
  9. जीवन की सच्चाई को उजागर करती गहन अभिव्यक्ति| .. सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    ReplyDelete
  10. वह मासूम
    और निश्छल चेहरा
    जो फंस गया है
    जीवन के मकड़जाल में....

    अनोखी रचना सर,
    सादर नमन.

    ReplyDelete
  11. कितने साथी और रिश्ते
    जो बने और बिछुड़ गये
    और कुछ
    जो होकर भी साथ
    बन गये अनजाने.

    यही जीवन का सच है...सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी रचना !

    ReplyDelete
  12. kailash c. sharma ji

    sundar rachna ke liye badhai sweekaren.
    मेरी १०० वीं पोस्ट , पर आप सादर आमंत्रित हैं

    **************

    ब्लॉग पर यह मेरी १००वीं प्रविष्टि है / अच्छा या बुरा , पहला शतक ! आपकी टिप्पणियों ने मेरा लगातार मार्गदर्शन तथा उत्साहवर्धन किया है /अपनी अब तक की " काव्य यात्रा " पर आपसे बेबाक प्रतिक्रिया की अपेक्षा करता हूँ / यदि मेरे प्रयास में कोई त्रुटियाँ हैं,तो उनसे भी अवश्य अवगत कराएं , आपका हर फैसला शिरोधार्य होगा . साभार - एस . एन . शुक्ल

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन अभिव्यक्ति .... साधुवाद जी

    ReplyDelete
  14. इतिहास के
    पीले पन्नों में
    कुछ सूखे गुलाब,
    आँखों से गिरे
    अश्कों के कुछ फ़ीके धब्बे,
    और उनके बीच झांकता
    एक धुंधला चेहरा...

    सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी रचना...

    ReplyDelete
  15. apne me se khud ko tatolna bahut mushkil hai. lekin agar tatol hi liya jaye to sthiti aisi hi hoti hai. sunder rachna.

    ReplyDelete
  16. इतिहास के
    पीले पन्नों में
    कुछ सूखे गुलाब,
    आँखों से गिरे
    अश्कों के कुछ फ़ीके धब्बे,
    और उनके बीच झांकता
    एक धुंधला चेहरा...
    जीवन की सच्चाई को उजागर करती गहन भावों से परिपूर्ण अभिवक्ती...

    ReplyDelete
  17. भावपूर्णअभिवयक्ति....

    ReplyDelete
  18. सब कुछ भूलकर स्वयं को ढूढ़ना होगा।

    ReplyDelete
  19. Introspection is not only essential but also a beautiful way of looking inside.

    Fantastic read as ever !!!

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर रचना और शब्द चयन |बहुत बहुत बधाई इतनी अच्छी रचना के लिए
    आशा

    ReplyDelete
  21. काश भूल पाता यह सब
    और ढूंढ पाता
    खुद को खुद से भूल कर

    स्वयं को ढूढ़ना ही होगा, सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  22. जीवन है ही मकड़जाल.

    ReplyDelete
  23. इतिहास के
    पीले पन्नों में
    कुछ सूखे गुलाब,
    आँखों से गिरे
    अश्कों के कुछ फ़ीके धब्बे,
    और उनके बीच झांकता
    एक धुंधला चेहरा,
    कितना मुश्किल कर देता है
    उन पन्नों में ढूँढना
    अपने आप को.
    sach hai...

    ReplyDelete
  24. बहुत सार्थक,सुन्दर अभिव्यक्ति |

    ReplyDelete
  25. बहुत ही लाजवाब प्रस्तुति ... इंसान अक्सर उस मासूमियत को ढूँढता है जो खो जाती है समय के क्रूर हाथों ... बीते में जाने का प्रयास हमेशा सुखद लगता है ...

    ReplyDelete
  26. सुभानाल्लाह..........बहुत अच्छी लगी पोस्ट.........अतीत में भी हमे हमारी याद नहीं आती दुसरो की ही आती है|

    ReplyDelete
  27. काश भूल पाता यह सब
    और ढूंढ पाता
    खुद को खुद से भूल कर

    ....कितनी गहरी बात कह दी आपने कैलाश जी इन चंद पंक्तियों में...उत्त्क्रिष्ठ रचना ...

    ReplyDelete
  28. वह मासूम
    और निश्छल चेहरा
    जो फंस गया है
    जीवन के मकड़जाल में.
    गहरी सच्‍चाई ...बहुत ही अच्‍छी अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  29. गहन भावो को समेटती खूबसूरत और संवेदनशील रचना|

    ReplyDelete
  30. और ढूंढ पाता
    खुद को खुद से भूल कर
    वह मासूम
    और निश्छल चेहरा
    जो फंस गया है
    जीवन के मकड़जाल में.

    Sach hai ham sabhi khud ko kho baithe hain is makadjal me....

    ReplyDelete
  31. पता नहीं इस मकड़जाले से हम निकल भी पाएंगे या नहीं।

    ReplyDelete
  32. खुद से खो कर खुद को ढूँढना

    ओहो, क्या बात है, बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  33. खुशियों के कुछ मधुर पल
    जो आज भी अंकित हैं
    स्मृतियों में
    और वे पल भी
    जब कभी रोये थे
    बिना किसी कंधे के सहारे

    जीवन का श्वेत-श्याम युग भी कितना मनोहारी था।

    ReplyDelete
  34. अपना वजूद प्यारा लगता है। हम उसी की तलाश में भटकते हैं।

    ReplyDelete
  35. आत्म ज्ञान के लिए पीछे मुड़कर देखना भी ज़रुरी है ... सुन्दर कविता !

    ReplyDelete
  36. खुद से खोकर खुद को ढूँढने की कोशिश बहुत सुंदर है...भावपूर्ण रचना !

    ReplyDelete
  37. सच है! सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  38. जब मैं फुर्सत में होता हूँ , पढ़ता हूँ और तहेदिल से इन भावनाओं का शुक्रगुज़ार होता हूँ ....

    ReplyDelete
  39. इतिहास के
    पीले पन्नों में
    कुछ सूखे गुलाब,
    आँखों से गिरे
    अश्कों के कुछ फ़ीके धब्बे,
    और उनके बीच झांकता
    एक धुंधला चेहरा,
    कितना मुश्किल कर देता है
    उन पन्नों में ढूँढना
    अपने आप को.

    बहुत सुन्दर रचना.....अच्छी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  40. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  41. कितने साथी और रिश्ते जो बने
    और बिछुड गये ।बहुत खुब।
    धन्यवाद।यही तो जीवन है।
    पर मन कहाँ समझ पाता
    है?
    उन्ही गलियों में भटकते रहता है।

    ReplyDelete
  42. गहन अभिव्यक्ति .........

    ReplyDelete
  43. काश भूल पाता यह सब
    और ढूंढ पाता
    खुद को खुद से भूल कर
    वह मासूम
    और निश्छल चेहरा
    जो फंस गया है
    जीवन के मकड़जाल में.
    jivan ka yahi sach hai, hum sabhi aise hin ulajh gaye hain. gahri anubhuti, badhai sweekaaren.

    ReplyDelete
  44. आप की पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (१०) के मंच पर शामिल की गई है /आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आप हमेशा ही इतनी मेहनत और लगन से अच्छा अच्छा लिखते रहें /और हिंदी की सेवा करते रहें यही कामना है /आपका ब्लोगर्स मीट वीकली (१०)के मंच पर आपका स्वागत है /जरुर पधारें /

    ReplyDelete
  45. सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  46. सभी रचनायें एक से बढकर एक

    ReplyDelete
  47. जीवन में अस्तित्व व्यक्त करती उदात्त रचना !

    ReplyDelete