Saturday, October 29, 2011

मेरा आईना झूठ बोलता है

बहुत दिनों बाद देखा
कुछ हमउम्र चेहरों को
और चौंक गया.


वक़्त का तूफ़ान 
छोड़ गया कितने निशान
जो उभर आये चेहरों पर
झुर्रियां बन कर,
और हर पंक्ति
समाये एक इतिहास
अपने आप में. 

भर गया मन अवसाद से
देख कर अपना अक्श
उनकी आँखों में,
लेकिन मेरा आईना
जिससे मैं रोज़ मिलता हूँ 
मुझे कुछ और ही कहता रहा.

आज मुझे लगा 
कि शायद
मेरा आईना
मुझसे झूठ बोलता है.

50 comments:

  1. बहुत खूब..........इस दास्ताँ में कहीं बहुत गहरा सच है.........पर साहब आइना ही तो सच्चा है इस दौर में........वो वही दिखाता है जो हम देखना चाहते हैं |

    ReplyDelete
  2. वाह क्या खूब भावो को उकेरा है……………गज़ब की रचना।

    ReplyDelete
  3. आज मुझे लगा
    कि शायद
    मेरा आईना
    मुझसे झूठ बोलता है.
    ...sab samay ka fer hai..
    sundar rachna

    ReplyDelete
  4. बेहद अच्छे भाव कलमबद्ध किए हैं आपने

    ReplyDelete
  5. aaina kitna bhi bura ho... nazar aati anubhawon ki lakiren jhuth nahin kahti aur yahi dignity hai...

    ReplyDelete
  6. मन के विरोधाभासों को सलीके से उकेरा है।

    ReplyDelete
  7. मेरा आईना
    मुझसे झूठ बोलता है.
    बेबाक मुखर अभिव्यक्ति को सादर सम्मान .....संवेगात्मक कथ्य , भषा ,तथा शैली ,अनुपम है सर !
    बधाईयाँ जी /

    ReplyDelete
  8. aina kitna sunder hai ..........jhoot bhi khubsurti se bolta hai , aaina mera ....jhoot bolta hai ...........bahut hi sunder prayog .
    3rd , ,4th para bahut pasand aaye .......man ke bhavo ko suder moti se ukera hai aapne . badhai .

    http/sapne-shashi.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. सुन्दर अभिवयक्ति....

    ReplyDelete
  10. जितने खूबसूरत शब्द हैं उनते ही उन्नत भावों से सजाया है. शब्द नहीं हैं मेरे पास बयान करने के लिए

    ReplyDelete
  11. समय की लहर कितना बदल जाती है हमे...
    रोज़ हमें हमारा अक्स दिखाने वाला आइना भी कहाँ यह महसूस कर पाता होगा!
    सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  12. भर गया मन अवसाद से
    देख कर अपना अक्श
    उनकी आँखों में,
    अतिसुन्दर बधाई की परिधि से बाहर .......

    ReplyDelete
  13. gahari peedha chhalak rahi hai in shabdon me..

    ReplyDelete
  14. बहुत गंभीर कविता... अंतिम पंक्तियाँ उद्वेलित कर देती हैं...

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दरता से मन के भावो को उकेरा है..बधाई

    ReplyDelete
  16. सुना था आईने झूठ नहीं बोलते.... पर आपकी रचना ने तो आईने को झूठा बना दिया।
    बेहतरीन प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  17. हृदयस्पर्शी अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  18. बेहद खूबसूरती से उभारा है मनोस्थिति को .बेहतरीन शब्दो का प्रयोग, बधाई कैलाश जी

    ReplyDelete
  19. पढी हुई सी लग रही है ये रचना .. शायद आपने पहले कहीं प्रकाशित करवायी हो !!

    ReplyDelete
  20. अच्छा लिखा है आपने। मेरे एक गीत की पंक्ति इस विचार से मेल खाती है.....

    दिखने लगी जब अपनी झुर्रियाँ
    कहता है ये कोई और है।

    ReplyDelete
  21. यथार्थ-बोध कराती गम्भीर और सम्वेदनशील रचना.

    ReplyDelete
  22. वक़्त का आईना ऐसा ही होता है.. बहुत सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  23. आइना भी कभी-कभी झूठ बोलता है।

    हृदयस्पर्शी कविता।

    ReplyDelete
  24. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 31-10-2011 को सोमवासरीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  25. कई बार लगता है कि भगवान में भी क्‍या व्‍यवस्‍था की है कि हम अपना चेहरा नहीं देख सकते। यदि देखते होते तो बुढापे के साथ ही डर-डर कर मर जाते।

    ReplyDelete
  26. @आदरणीय संगीता पुरी जी - शायद आपने फेस बुक पर पढ़ा हो जहाँ कुछ दिन पहले पोस्ट की थी. वैसे मैंने इसे कुछ दिन पहले ही लिखा है.

    ReplyDelete
  27. जी ..
    सही कह रहे हैं आप ..
    अब याद आया !!

    ReplyDelete
  28. गहन भाव…लाज़वाब रचना...

    ReplyDelete
  29. संवेदन शील कथ्य....
    उम्दा रचना सर...
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  30. आईने भी झूठ बोलते हैं

    ReplyDelete
  31. बहुत ही अच्‍छी अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  32. वाह! बहुत खरी खरी कविता...दरअसल आईना वही दिखाता है जो हम देखना चाहते हैं...

    ReplyDelete
  33. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने ! बधाई!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  34. वक़्त का तूफ़ान
    छोड़ गया कितने निशान.बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  35. झूठ कौन बोल रहा है आइना या हमउम्र लोगों की आँखे
    अगर आत्म विश्वास से भरा एक व्यक्तित्व आईना देखता है तो झूठ आईना नहीं बोलता शायद लोगों की आँखे अविश्वास से भरी होने के कारण सच बोल नहीं पाती ....

    ReplyDelete
  36. आइना कभी कभी झूठ भी बोलता है ...

    ReplyDelete
  37. aadarniy sir
    bahut hi gahan chintan ke saath gambheer baat likhi hai aapne.
    aaj jana ki aaina bhi waqt ki tarah jhooth bolta hai.
    bahut hi umda post
    sadar naman ke saath
    poonam

    ReplyDelete
  38. wese mene suna tha ki aina sach bolta hai per aapka aina to juth bolta hai..ha ha ha..

    bahut badhiya....
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  39. सच की स्वीकारोक्ति ..........अदभुद रचना !

    ReplyDelete
  40. आज मुझे लगा
    कि शायद
    मेरा आईना
    मुझसे झूठ बोलता है

    sundar prastuti..

    ReplyDelete
  41. वाह कोमल भावो को बहुत सुन्दरता से अभिव्यक्त किया है।

    ReplyDelete
  42. अपना असली अक्स तो दुनिया की सही तस्वीर देखने से नजर आता है।
    बहुत खूब व सच का बयान करती रचना।

    ReplyDelete
  43. खूब लिखा है |
    आशा

    ReplyDelete
  44. बहुत दिनों बाद देखा
    कुछ हमउम्र चेहरों को
    और चौंक गया.


    वक़्त का तूफ़ान
    छोड़ गया कितने निशान
    जो उभर आये चेहरों पर
    झुर्रियां बन कर,
    और हर पंक्ति
    समाये एक इतिहास
    अपने आप में.
    सर बहुत अच्छी कविता बधाई |

    ReplyDelete
  45. शायद आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बुधवार के चर्चा मंच पर भी हो!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  46. Bahoot hi sunder rachana ...

    ReplyDelete