Friday, July 03, 2015

जीवन

कानों को फोड़ता
शोर सन्नाटे का,
चीत्कार दमित शब्दों की 
छुपी मौन अंतस में,
चुभता आँखों में
काला गहरा अंधियारा,
मांगता तनहाई से
कुछ पल साथ तनहा मन,
कितना अज़ीब फ़लसफ़ा
हर बाहर जाती श्वास
निर्भर वापिस आने को
मृत्यु के अहसान पर।

....कैलाश शर्मा 

32 comments:

  1. मार्मिक प्रस्तुति ....उम्दा
    हर बाहर जाती श्वास
    निर्भर वापिस आने को

    ReplyDelete
  2. काला गहरा अंधियारा,
    मांगता तनहाई से
    कुछ पल साथ तनहा मन,
    कितना अज़ीब फ़लसफ़ा
    हर बाहर जाती श्वास
    निर्भर वापिस आने को
    मृत्यु के अहसान पर।
    मन की भावनाओं को सुन्दर शब्दों में लिखा है आपने आदरणीय श्री कैलाश शर्मा जी ! सर दमित का क्या अर्थ होता है ? दमित शब्द ? कृपया बताइयेगा !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. दमित = दबी हुई, repressed

      Delete
  3. कुछ पल साथ तनहा मन
    कितना अज़ीब फ़लसफ़ा
    हर बाहर जाती श्वास
    निर्भर वापिस आनें को
    मृत्यु के अहसान पर।
    बेहद खूबसूरत कविता शर्मा जी।अति सुन्दर।

    ReplyDelete
  4. हर बाहर जाती श्वास
    निर्भर वापिस आने को
    मृत्यु के अहसान पर।
    बहुत बड़ी सच्चाई है...बहुत सुंदर, भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  5. "जयन्ति ते सुकृतिनो रससिद्धा: कवीश्वरा: ।
    नास्ति येषां यशः काये जरामरणजं भयम् ॥"
    भर्तृहरि

    ReplyDelete
  6. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, नौशेरा का शेर और खालूबार का परमवीर - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  7. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा आज शनिवार (04-07-2015) को "सङ्गीतसाहित्यकलाविहीना : साक्षात्पशुः पुच्छविषाणहीना : " (चर्चा अंक- 2026) " (चर्चा अंक- 2026) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    ReplyDelete
  8. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा आज शनिवार (04-07-2015) को "सङ्गीतसाहित्यकलाविहीना : साक्षात्पशुः पुच्छविषाणहीना : " (चर्चा अंक- 2026) " (चर्चा अंक- 2026) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  9. चंद शब्दों में गहन जीवन दर्शन की सशक्त अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  10. सच बाहर को शोर सुना जाना आसान है लेकिन अंतर्मन के चीत्कार को कोई नहीं सुन पाता ..
    बहुत सुन्दर रचना .

    ReplyDelete
  11. ,और इन के बीच ही समाप्त हो जाता है जीवन, अच्छी भावपूर्ण अभिव्यक्ति कैलाश जी

    ReplyDelete
  12. सटीक और सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  13. श्वासों का गणित और जीवन की शाम.

    सुन्देर५ प्रस्तुती.

    ReplyDelete
  14. ये जीवन मृत्यु का एहसास ही तो है ... साँसों का आना जाना उकसे आने तक ही जारी है ...

    ReplyDelete
  15. सार्थक कविता के लिए आपका आभार। कविता बहुत अच्छी लगी।

    ReplyDelete
  16. बहुत गहन भावों को चंद शब्दों में समेट दिया है आपने..

    ReplyDelete
    Replies
    1. गहरे भाव लिए कविता । साधुवाद

      Delete
  17. सचमुच अज़ीब फ़लसफ़ा है !
    जिसका अस्तित्व नहीं उसी की आस करना......!

    ReplyDelete
  18. सुन्दर शब्द रचना
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete
  19. हर बाहर जाती श्वास
    निर्भर वापिस आने को
    मृत्यु के अहसान पर।
    मन की भावनाओं को सुन्दर शब्दों में लिखा है

    ReplyDelete