Tuesday, June 07, 2016

ज़िंदगी कुछ ख़फ़ा सी लगती है

ज़िंदगी कुछ ख़फ़ा सी लगती है,
रोज़ देती सजा सी लगती है।

रौनकें सुबह की हैं कुछ फीकी,
शाम भी बेमज़ा सी लगती है।

राह जिस पर चले थे हम अब तक,
आज वह बेवफ़ा सी लगती है।

संदली उस बदन की खुशबू भी,
आज मुझको कज़ा सी लगती है।

दर्द जो भी मिला है दुनिया में,
यार तेरी रज़ा सी लगती है।

...© कैलाश शर्मा 

29 comments:

  1. राह जिस पर चले थे हम अब तक
    आज वह बेवफ़ा सी लगती है।
    वाह ! वाह ! क्या कहने हैं ! लाजवाब आदरणीय-----बहुत खूब।

    ReplyDelete
  2. "दर्द जो भी मिला है दुनिया में,
    यार तेरी रज़ा सी लगती है"

    वाह वाह

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. जिंदगी जब सजा देने लगे तब ही तो जिंदगी देने वाले की याद आती है

    ReplyDelete
  5. संदली उस बदन की खुशबू भी,
    आज मुझको कज़ा सी लगती है ...
    बहुत खूब ... दिल में उतर जाता है ये शेर ... संदली का प्रयोग बहुत लाजवाब लगा ...

    ReplyDelete
  6. दर्द जो भी मिला है दुनिया में,
    यार तेरी रज़ा सी लगती है।
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति , कैलाशजी

    ReplyDelete
  7. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 9-6-2016 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2368 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. दर्द जो भी मिला है दुनिया में,
    यार तेरी रज़ा सी लगती है।

    सब उसकी ही रजा है, दर्द हो या मरहम। बहुत सुंदर गज़ल कैलाश जी।

    ReplyDelete
  9. जय मां हाटेशवरी...
    अनेक रचनाएं पढ़ी...
    पर आप की रचना पसंद आयी...
    हम चाहते हैं इसे अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 10/06/2016 को
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की गयी है...
    इस प्रस्तुति में आप भी सादर आमंत्रित है।

    ReplyDelete
  10. दर्द जो भी मिला है दुनिया में,
    यार तेरी रज़ा सी लगती है....बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  11. दर्द जो भी मिला है दुनिया में,
    यार तेरी रज़ा सी लगती है।

    ..बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  12. दर्द जो भी मिला है दुनिया में,
    यार तेरी रज़ा सी लगती है।
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति , कैलाशजी

    ReplyDelete
  13. दर्द जो भी मिला है दुनिया में,
    यार तेरी रज़ा सी लगती है।
    बहुत खूब , मंगलकामनाएं आपको.....

    ReplyDelete
  14. ''‍जिंदगी कुछ खफा सी लगती हैै,रोज देती सजा सी लगती है'' बेहद मार्मिक भावों और सुंदर शब्‍दों से सजी हुई ग़जल की प्रस्‍तुति। बहुत पसंद आई।

    ReplyDelete
  15. सुन्दर ग़ज़ल

    ReplyDelete
  16. अगर आप ऑनलाइन काम करके पैसे कमाना चाहते हो तो हमसे सम्‍पर्क करें हमारा मोबाइल नम्‍बर है +918017025376 ब्‍लॉगर्स कमाऐं एक महीनें में 1 लाख से ज्‍यादा or whatsap no.8017025376 write. ,, NAME'' send ..

    ReplyDelete
  17. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार 16 जून 2016 को में शामिल किया गया है।

    ReplyDelete
  18. दर्द जो भी मिला है दुनिया में,
    यार तेरी रज़ा सी लगती है।

    अनमोल पंक्तियां,
    गहरे चिंतन के शांत गह्वर से ही ऐसी रचनाएं प्रस्फुटित होती है ।।

    ReplyDelete
  19. Sir ghazal bahut hi sunder likhi hai, apka email id send kr dy gaa kr sunataa hoo apko,

    ReplyDelete
  20. बहुत ही उम्दा .... Sundar lekh ... Thanks for sharing this nice article!! :) :)

    ReplyDelete