Tuesday, March 20, 2012

अकेलापन

      (१)
अंधियारे का मौन
नयनों का सूनापन
अश्कों की अतृप्त प्यास
रिश्तों की झूठी आस
धड़कते दिल की गूँजती आवाज़ 
रहते हैं हर समय साथ
इस कमरे में 
और नहीं महसूस होने देते
दर्द अकेलेपन का.

      (२)
आती नहीं कोई आहट
दरवाज़े पर, 
मौन हैं गलियों में
कदमों के स्वर,
तोड़ने को मौन 
अकेलेपन की घुटन का
पूछते हैं एक दूसरे से
क्या तुमने कुछ कहा.

     (३)
चले थे अकेले
जुड़ते रहे लोग
कारवां चलता रहा.
आये कुछ मोड़
छूट गए रिश्ते,
और आज इस मोड़ पर
खड़ा अकेला
ढूँढ़ रहा हूँ 
उस कारवां के 
कदमों के निशां.

कैलाश शर्मा 

62 comments:

  1. सुन्दर भाव कणिकाए .

    ReplyDelete
  2. सुन्दर भाव कणिकाए .

    ReplyDelete
  3. तोड़ने को मौन
    अकेलेपन की घुटन का
    पूछते हैं एक दूसरे से
    क्या तुमने कुछ कहा.

    कितना शोर मचाता है ये मौन अकेलेपन में .... नि:sहब्द करती क्षणिकएं

    ReplyDelete
  4. अकेलेपन की घुटन....और मौन का सूनापन....
    बहुत गहन रचना...

    सादर.

    ReplyDelete
  5. अकेलेपन की आवाज़ बनी सुन्दर क्षणिकाएं!

    ReplyDelete
  6. bahut hi sundar.....pahla wala sabse accha laga.

    ReplyDelete
  7. अकेलेपन की त्रासदी का खूब चित्रण किया है।

    ReplyDelete
  8. Silence is is very disturbing... especially in advance age..

    Silence
    have riches of
    vocabulary
    and variety of shades.
    Its existence
    gives cuts
    sharper than blades...

    Awesome expressions
    the pain and agony was well reflected !!

    ReplyDelete
  9. लाजवाब क्षणिकाएं... पहली क्षणिका भाव विभोर कर गई... अकेलापन भी बहुत कुछ कह जाता है और नहीं रहने देता अकेले... गहन भाव... आभार

    ReplyDelete
  10. कितनी दिलकश क्षणिकाएं हैं सर.... वाह!
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  11. रची उत्कृष्ट |

    चर्चा मंच की दृष्ट --

    पलटो पृष्ट ||


    बुधवारीय चर्चामंच

    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  12. अनुपम भाव संयोजन लिए उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  13. बहुत मार्मिक भाव लिए सुन्दर क्षणिकाएं...

    ReplyDelete
  14. कभी-कभी तो अकेलापन भी बहुत भाता है,
    आदमी इस बहाने अपने से मिल पता है !

    ReplyDelete
  15. बहुत भावपूर्ण लगी आपकी ये क्षणिकाएं...बधाई

    ReplyDelete
  16. आपके इस पोस्ट की चर्चा यहाँ पर है..!

    http://tetalaa.nukkadh.com/2012/03/blog-post_20.html

    ReplyDelete
  17. सब आहटों के इंतज़ार में हैं, फिर भी आहट नहीं
    उम्मीदों की पहल हो तो कोई बात बने ...

    ReplyDelete
  18. सभी शब्दचित्र बहुत उम्दा हैं!

    ReplyDelete
  19. sach akela aakar sabse judkar bhi ek din akele chala jaata hai insaan..
    akelepan ko mukhar karti sarthak rachna..

    ReplyDelete
  20. phir koi aayegaa,judegaa aapse
    ek se do honge ,do se chaar
    kaarvaan phir banegaa .....
    achhee rachnaa

    ReplyDelete
  21. बहुत मार्मिक भाव लिए सुन्दर उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति

    my resent post

    काव्यान्जलि ...: अभिनन्दन पत्र............ ५० वीं पोस्ट.

    ReplyDelete
  22. सोचने को मजबूर करती क्षणिकाएं ... आभार.

    ReplyDelete
  23. prabhavit karti hui.....bahut achchi lagi.

    ReplyDelete
  24. बहुत ही मार्मिक भाव संयोजन के साथ सार्थक एवं प्रभावशाली रचना....

    ReplyDelete
  25. gahri anubhuti .....gajab ki rachana ...badhai sweekaren.

    ReplyDelete
  26. waah kailash jee dil ko choo gai aaki ye abhiwaykti.

    ReplyDelete
  27. gahan bhavon ki abhivyakti .NAVSAMVATSAR KI HARDIK SHUBHKAMNAYEN !shradhey maa !

    ReplyDelete
  28. bahut khub. sahi kaha aapne. akelapan bahut shor karta hai.

    ReplyDelete
  29. बहुत बढिया!!अकेलेपन का बहुत सुन्दर चित्रण किया है!

    ReplyDelete
  30. अकेलापन इन सबसे कितना भरा भरा लगता है।

    ReplyDelete
  31. कलात्मक रचना प्रभावशाली है बधाईयाँ जी /

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर , पहला और तीसरा छंद तो लाजबाब है !

    ReplyDelete
  33. क़दमों की चाप तो सीने पर हुआ करती है जो दर्द ही देती है . अति सुन्दर सृजन..

    ReplyDelete
  34. कल 22/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल (संगीता स्वरूप जी की प्रस्तुति में) पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  35. जिंदगी के सूनेपन को बखूबी लिख डाला हैं आपने ...

    ReplyDelete
  36. सूनापन सूना नहीं...शब्दों के माध्यम से मुखर हो उठा|

    ReplyDelete
  37. संवेदना के भाव लिए पंक्तियाँ ....बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  38. ...और नहीं महसूस होने देते
    दर्द अकेलेपन का.

    दर्द ही दवा बन जाता है कभी कभी

    तीनों ही रचनाएँ अच्छी लगीं

    ReplyDelete
  39. अकेलेपन में अक्सर इंसान खुद से ही बात करता है ...
    तीनों बहुत गहरी ... भाव प्रधान ...

    ReplyDelete
  40. अंधियारे का मौन
    नयनों का सूनापन
    अश्कों की अतृप्त प्यास
    रिश्तों की झूठी आस
    धड़कते दिल की गूँजती आवाज़
    रहते हैं हर समय साथ
    इस कमरे में
    और नहीं महसूस होने देते
    दर्द अकेलेपन का.
    why should i say thank you for these beautiful lines
    no .never . i am jealous of you. pranam swikaren.

    ReplyDelete
  41. मौन की भाषा...

    ReplyDelete
  42. खड़ा अकेला
    ढूँढ़ रहा हूँ
    उस कारवां के
    कदमों के निशां.
    जिंदगी का सत्य यही है

    ReplyDelete
  43. मौन के क्रंदन को परिभाषित करती रचनायें ...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  44. दर्द ले कर चलती हुवी तीनों रचनाएं ..लाजवाब

    ReplyDelete
  45. तीनों ही रचनायें लाजवाब हैं ....

    ReplyDelete
  46. बहुत खूब....
    बहुत ही बढ़िया रचना है....

    ReplyDelete
  47. akelepan ko abhivyakt karti khoobsurat kanikayen...

    ReplyDelete
  48. आती नहीं कोई आहट
    दरवाजे पर,
    मौन हैं गलियों में
    कदमों के स्वर,
    तोड़ने को मौन
    अकेलेपन की घुटन का
    पूछते हैं एक दूसरे से
    क्या तुमने कुछ कहा.

    इस कविता का कथ्य सहज संप्रेषित है और और शिल्प नितांत मौलिक।

    ReplyDelete
  49. उम्र के इस दौर में
    यह अकेलापन
    बहुत ही काटता है.
    सुनहले दिन, रिश्ते-नाते,मित्र
    और बाँकापन-
    बहुत ही काटता है.

    यथार्थ के धरातल पर चित्र उकेरे आपने........मार्मिक...........

    ReplyDelete
  50. अनुभूति का चित्रांकन कड़ी कुशलता से किया है !

    ReplyDelete
  51. maun khali sannata dil ki garaiyon se nikalte shabd aur chal deta hai abhivyakti ka karvaan...atisundar rachna.bahut pasand aai.

    ReplyDelete
  52. अंधियारे का मौन
    नयनों का सूनापन
    अश्कों की अतृप्त प्यास
    रिश्तों की झूठी आस
    धड़कते दिल की गूँजती आवाज़
    रहते हैं हर समय साथ
    इस कमरे में
    और नहीं महसूस होने देते
    दर्द अकेलेपन का.

    दर्द का प्रहार बहुत तीव्र है. बहुत सुंदर कवितायेँ.

    ReplyDelete
  53. और आज इस मोड़ पर
    खड़ा अकेला
    ढूँढ़ रहा हूँ

    कष्ट दायक ...
    जीवन की हकीकतें विश्वास लायक नहीं लगतीं कई बार....
    आभार भाई जी !

    ReplyDelete
  54. वो निशां भी मिलेंगे ओर कारवाँ भी ..............

    ReplyDelete