Thursday, February 13, 2014

कैसा, किसका प्रेम दिवस है?

जीवन सीमित जब रोटी तक,
स्वप्न नहीं आँखों में कल का,    
चौराहे पर खड़ा हो बचपन,
पूछो उनसे क्या प्रेम दिवस है.

नहीं मिला जो काम अगर तो,
न मिल पाये बच्चों को रोटी,
नहीं जो बिक पाये गुलाब गर,
भूखे पेट क्या प्रेम दिवस है।

चुम्बन, आलिंगन, गुलाब क्या,
नहीं अभाव का जीवन समझे,
जिस दिन दो रोटी  मिल जायें 
उनको वह दिन प्रेम दिवस है।

सिर पर बोझ उठाये फिरता,
घर घर झाड़ू पोंछा जो करती,
थकी थकी हर शाम है आती,
कैसा, किसका प्रेम दिवस है?

प्रेम नहीं अभिव्यक्ति शब्द में,
प्रेम है बस मन की अनुभूति,
अंतस में जब प्यार बसा हो,
समझो हर दिन प्रेम दिवस है।


....कैलाश शर्मा 

34 comments:

  1. आपकी लिखी रचना शनिवार 15/02/2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    कृपया पधारें ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. मानवीय संवेदनाओं से भरपूर अत्यंत हृदयग्राही रचना ! बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  3. सटीक बात कहती बहुत ही सुंदर एवं सार्थक भवाभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शुक्रवार (14-02-2014) को "फूलों के रंग से" ( चर्चा -1523 )
    में "अद्यतन लिंक"
    पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    प्रेमदिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  5. कितनी सुन्दर कविता कह दी सच मानो यह प्रेम-दिवस है ।

    ReplyDelete
  6. सच प्यार तो अंतस से निकली हुई अनुभूति है ..... संवेदना से परिपूर्ण कविता .....

    ReplyDelete
  7. इस बसंती बयार में आपने जीवन की वास्तविकता की बहुत सटीक ढंग से रखा है. बहुत सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  8. जब जीवन के मौलिक प्रश्न अनुत्तरित हों तो कैसा प्रेम दिवस।

    ReplyDelete

  9. प्रेम नहीं अभिव्यक्ति शब्द में,
    प्रेम है बस मन की अनुभूति,
    अंतस में जब प्यार बसा हो,
    समझो हर दिन प्रेम दिवस है।

    वाह ! सचमुच हर दिन ही प्रेम दिवस है नहीं तो कोई नहीं..

    ReplyDelete
  10. अर्थपूर्ण भाव ...प्रेम के सही अर्थ समझने होंगें

    ReplyDelete
  11. प्रेम नहीं अभिव्यक्ति शब्द में,
    प्रेम है बस मन की अनुभूति,
    अंतस में जब प्यार बसा हो,
    समझो हर दिन प्रेम दिवस है।

    वाह ! बहुत खूब सुंदर रचना ...!
    RECENT POST -: पिता

    ReplyDelete
  12. बहुत गहन और सटीक प्रश्न उठाती सुन्दर पोस्ट |

    ReplyDelete
  13. अंतस के प्‍यार को तो प्रेमी-जोड़ों की रोज बनती नई-नई मोर्चाबन्‍दी हरा ही रही है।

    ReplyDelete
  14. सच! प्रेम-दिवस तो ऐसा ही होना चाहिए..

    ReplyDelete
  15. आम जन के दर्द को अभिव्यक्त करती बेहतरीन कविता।

    ReplyDelete
  16. चुम्बन, आलिंगन, गुलाब क्या,
    नहीं अभाव का जीवन समझे,
    जिस दिन दो रोटी मिल जायें
    उनको वह दिन प्रेम दिवस है।

    बहुत सुन्दर !
    new post बनो धरती का हमराज !

    ReplyDelete
  17. bahut achchhi bat ......badhai apko sharma ji

    ReplyDelete
  18. बहुत बढ़िया सामयिक प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  19. हृदय में रहनेवाली भावना को ऐसा रूप दे दिया इस दिन ने जैसे अचानक एक दिन बुखार चढ़ आया हो !

    ReplyDelete
  20. सुंदर ,संवेदन शील कविता ........

    ReplyDelete
  21. प्रेम नहीं अभिव्यक्ति शब्द में,
    प्रेम है बस मन की अनुभूति,
    अंतस में जब प्यार बसा हो,
    समझो हर दिन प्रेम दिवस है ..

    आपकी बात से पूरी तरह सहमत ... प्रेम मन की बात है और किसी एक दिवस की मोहताज़ नहीं ...

    ReplyDelete
  22. वाह, क्या खूब कहा आपने.. काश, हम सब समझते संवेदनशीलता का सही अर्थ..!!! परन्तु, इस 'कथित प्रेम-दिवस' में ऐसे डूबे हैं जैसे जीवन सिर्फ ये ही है..

    ReplyDelete
  23. अंतिम पैरा पूरी कविता की जान है, चार पंक्तियों में जिस तरह प्रेम की पूरी व्याख्या ही कर दी गई है वो निश्चय ही गागर में सागर है | कविता प्रश्न खड़े करती है, संवेदना से भरी पड़ी है तत्पश्चात, इसका शिल्प पक्ष कमजोर है जो इसे और अधिक सटीक, और अधिक प्रभावशाली बना सकती थी | प्रणाम |

    ReplyDelete
  24. प्रेम नहीं अभिव्यक्ति शब्द में,
    प्रेम है बस मन की अनुभूति,
    अंतस में जब प्यार बसा हो,
    समझो हर दिन प्रेम दिवस है ..........

    ReplyDelete