Tuesday, July 01, 2014

एक टुकड़ा बादल

एक टुकड़ा बादल       
भटक कर अपनी राह
बरस गया मेरे आँगन में,
बुझा गया प्यास
वर्षों से तृषित अंतर्मन की.

बरसते हैं बादल आज भी
भिगो कर गुज़र जाते आँगन भी
पर प्यासा ही रह जाता अंतर्मन.

तलाशती हैं आँखें
बादल का वह टुकड़ा
गुज़रते घने बादलों में 
आज़ भी.

...कैलाश शर्मा 

30 comments:

  1. एकदम बढ़िया ! सुन्दर प्रस्तुति श्री कैलाश शर्मा जी

    ReplyDelete
  2. जीवन के हर पड़ाव पर मायने बदल जाते...बातों के , चीज़ों को....

    ReplyDelete
  3. कौन जाने बादल का टुकड़ा तो उसी तरह से आता हो लेकिन मन की असम्पृक्तता उसे पहचान ही न पाती हो ! बहुत सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  4. वो बादल जरूर आएगा लौट कर ... अंतर्मन को तृप्त करेगा ...

    ReplyDelete
  5. लौट आओ ओ बादल के छोटे टुकड़े।
    बेहतरीन।

    ReplyDelete
  6. बादल ऐसे बरसे की मन तृष्णा बुझ जाये बेहतरीन रचना ....

    ReplyDelete
  7. bahut sundar ....mn ka chitrakan ---

    ReplyDelete
  8. आप की ये खूबसूरत रचना...
    दिनांक 03/07/2014 की नयी पुरानी हलचल पर लिंक की गयी है...
    आप भी इस हलचल में अवश्य आना...
    सादर...
    कुलदीप ठाकुर...

    ReplyDelete
  9. खूबसूरत अभिव्यक्ति.... ऐसे बादलों की तलाश हर किसी को है जो अंतर्मन को तृप्त कर दे. कहाँ गये वो निराले बादल.

    ReplyDelete
  10. बादल के उस एक टुकड़े की तलाश या आस शायद हर मन को रहा करती है ...बहुत ही सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  11. बादल तो हर बरस आते हैं...पर चातक को तो स्वाति नक्षत्र की प्रतीक्षा रहती है

    ReplyDelete
  12. भावमय करते शब्‍द ..... अनुपम प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  13. बेहद उम्दा रचना और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@दर्द दिलों के
    नयी पोस्ट@बड़ी दूर से आये हैं

    ReplyDelete
  14. बरसते हैं बादल आज भी
    भिगो कर गुज़र जाते आँगन भी
    पर प्यासा ही रह जाता अंतर्मन.
    bhavpoorn abhivyakti ...

    ReplyDelete
  15. भावपूर्ण अभिव्यक्ति |शानदार रचना |

    ReplyDelete
  16. एक बादल एक बार ही बरसता है पर मन उसे फिर-फिर बरसाने को लालायित है.....सुन्दर भाव |

    ReplyDelete
  17. सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  19. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  20. वाह... बहुत सुन्दर लिखा है आपने
    http://kaynatanusha.blogspot.in/

    ReplyDelete
  21. वो बादल का टुकड़ा, जो संतृप्ति देता है, बड़े भाग्य से बरसता है! आशा है फिर से आपके मन-आँगन में बरसेगा!
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  22. प्‍यास ऐसी केवल प्रेम की ही हो सकती है।

    ReplyDelete
  23. सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  24. कल 08/जुलाई /2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  25. Sarthak hraday ko chuti rachna..... Badhayi dhero shubhkannaayein Kailash Sharma ji......

    ReplyDelete