Friday, January 04, 2019

पली गैर हाथों यह ज़िंदगी है


करीने से सज़ी कब ज़िंदगी है,
यहां जो भी मिले वह ज़िंदगी है।

सदा साथ रहती कब चांदनी है,
अँधेरे से सदा अब बंदगी है।

हमारी ज़िंदगी कब थी हमारी,
पली गैर हाथों यह ज़िंदगी है।

नहीं है नज़र आती साफ़ नीयत,
जहां देखता हूँ बस गंदगी है।

दिखाओगे झूठे सपने कब तक,
सजे फिर कब है बिखर ज़िंदगी है।

...©कैलाश शर्मा

10 comments:

  1. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (06-01-2019) को "कांग्रेस के इम्तिहान का साल" (चर्चा अंक-3208) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. सच हा हमारी कभी नहीं थी ... इसलिए जो मिली है उसे जिंदगी मान के जीना ही अच्छा ...
    दर्शनिकता लिए कुछ शेर कमाल के हैं ...

    ReplyDelete
  4. If you wondering to How to self publish book in India then we are offering best book publishing services in India publish with us and get 100% royalty

    ReplyDelete
  5. सदा साथ रहती कब चांदनी है,
    अँधेरे से सदा अब बंदगी है।
    बहुत सार्थक शे शेरों से सजी रचना आदरणीय सर | सादर सस्नेह शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति जी

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर रचना, कैलाश जी।

    ReplyDelete