Wednesday, December 29, 2010

अलविदा ! वर्ष २०१०

एक और वर्ष
सीने में लाखों दर्द छुपाये 
घिसटते हुए 
दम तोड़ने वाला  है.


कितना सहा,
होठों पर लाकर मुस्कान 
दर्द को कितना छुपाना चाहा.
कब तक कोई
ग़मों से समझौता करता जाए,
कब तक भविष्य के सपनों पर 
वर्तमान का महल बनाये,
जब सपना टूटता है
तो वर्तमान,
भूत से भी ज्यादा 
असहनीय हो जाता है.


क्या क्या नहीं देखा
एक वर्ष के जीवन में,
खेल के नाम पर भ्रष्टाचार 
या भ्रष्टाचार उन्मूलन के नाम पर खेल
सियासत के मैदान में.
उग्रवाद का वीभत्स रूप
बहाता रहा खून मासूमों का
सडकों पर.
हिंसा और बलात्कार की खबरें 
इतनी हुईं आम,
खिसक गयीं 
अखबार के आखिरी पन्ने के
हासिये पर.
बदल दिया 
शहरों को जंगल में,
डरता है हर कोई 
घर से बाहर 
निकलने पर.


शोर है नव वर्ष के स्वागत का
उत्सुक हैं सब उसके स्वागत को,
पर नहीं आया कोई 
जाने वाले  को विदा करने 
सहानुभूति के दो शब्द कहने.
कितना दिया दर्द 
उन्ही अपनों ने जिन्होंने 
एक दिन मेरा भी स्वागत किया था.


थक गया है तन
आहत है अंतर्मन,
सोने दो आज मुझे 
समय की कब्र में
शान्ति से 
ओढ़ कर इतिहास का कफ़न.


देने को कुछ भी नहीं है
नव वर्ष को वसीयत में,
बस यही शुभ कामना है,
नव वर्ष,
तुम लिखो एक नया इतिहास,
बनाओ एक नया भविष्य 
जिस पर न हो
भूतकाल की काली छाया 
और विजय हो  
इंसानियत की हैवानियत पर. 

53 comments:

  1. अच्‍छी कविता। नववर्ष की शुभकामनाए।

    ReplyDelete
  2. देने को कुछ भी नहीं है
    नव वर्ष को वसीयत में,
    बस यही शुभ कामना है,
    नव वर्ष,
    तुम लिखो एक नया इतिहास,
    xxxxxxxxxxxxxxxxxx
    बिलकुल सही सोचा है आपने, अतीत को सामने रखकर भविष्य की रुपरेखा तय करनी चाहिए .....नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ...शुक्रिया

    ReplyDelete
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (30/12/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    ReplyDelete
  4. शोर है नव वर्ष के स्वागत का
    उत्सुक हैं सब उसके स्वागत को,
    पर नहीं आया कोई
    जाने वाले को विदा करने
    सहानुभूति के दो शब्द कहने.
    कितना दिया दर्द
    उन्ही अपनों ने जिन्होंने
    एक दिन मेरा भी स्वागत किया था.
    Wah Kailashji kitne sunder shabdon me vartman ke dard ko prastut kiya hai aapne.....bahut khoob "नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें"

    ReplyDelete
  5. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  6. नए साल की आपको सपरिवार ढेरो बधाईयाँ !!!!

    ReplyDelete
  7. सुंदर रचना , बधाई
    नव वर्ष की शुभकामनाये ,नया साल आपको खुशियाँ प्रदान करे

    ReplyDelete
  8. थक गया है तन
    आहत है अंतर्मन,
    सोने दो आज मुझे
    समय की कब्र में
    शान्ति से
    ओढ़ कर इतिहास का कफ़न.

    उत्तम रचना, बधाई
    आगामी वर्ष आपके लिये शुभ व मंगलमय हो...

    ReplyDelete
  9. शोर है नव वर्ष के स्वागत का
    उत्सुक हैं सब उसके स्वागत को,
    पर नहीं आया कोई
    जाने वाले को विदा करने
    सहानुभूति के दो शब्द कहने.
    कितना दिया दर्द
    उन्ही अपनों ने जिन्होंने
    एक दिन मेरा भी स्वागत किया था.

    गहन एहसासों को समेटे,बेहद भावमयी और खूबसूरत अभिव्यक्ति.आभार.
    आप को सपरिवार नव वर्ष की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  10. देने को कुछ भी नहीं है
    नव वर्ष को वसीयत में,
    बस यही शुभ कामना है,
    नव वर्ष,
    तुम लिखो एक नया इतिहास,
    बनाओ एक नया भविष्य .
    कैलास जी .. बहुत ही अच्छी कविता, इस मायने में भी की बिल्कुल आपने एक नए रूप में नूतन वर्ष की तरफ जा रहे है इस कविता के माध्यम से . हमें अपने भूतकाल को भी नहीं भूलना चाहिए नववर्ष के स्वागत में. उम्मीद है नया वर्ष शुभ होगा. नूतन वर्ष २०११ की हार्दिक शुभकामनाएं .
    .
    रमिया काकी

    ReplyDelete
  11. जिवंत वर्णन ! इतिहास गवाह है, जनके पास वसीहत के नाम पर कुछ नहीं था, उन्होंने ही इतिहास बदला है......

    -------------------------------------
    नव वर्ष आपके लिए जीवन के नए आयाम लेकर आये, मंगलमय हो, यही कामना है ईश्वर से.
    -------------------------------------

    सुन्दर रचना के लिए आपका साधुवाद.

    अरविन्द जांगीड

    ReplyDelete
  12. बदल दिया
    शहरों को जंगल में
    डरता है हर कोई
    घर से बाहर
    निकलने पर

    अतीत में दफ्न होने के लिए तैयार वर्ष की व्यथा को सुंदर शब्दों में संजोया है आपने।
    कविता ने मन को प्रभावित किया।

    ReplyDelete
  13. तुम लिखो एक नया इतिहास,
    बनाओ एक नया भविष्य
    जिस पर न हो
    भूतकाल की काली छाया
    और विजय हो
    इंसानियत की हैवानियत पर.

    bas isi soch ke sath kadvaahton ko bhula, vaqt ka marham laga...bhavishye ko sudhaarne ka pran le aage badhte jana hi zindgi hai.

    acchhi prastuti.

    ReplyDelete
  14. बीत रहे वर्ष का सटीक आत्मकथ्य प्रस्तुत करती रचना!

    ReplyDelete
  15. सदभावनाओं और सुन्दर कामनाओं के साथ रची गई एक बेहतरीन रचना!

    ReplyDelete
  16. बहुत खूब। बेहतरीन रचना के लिए साधूवाद। हिंदी के उतथान में ऐसे ही सहयोग बनाए रहें।

    ReplyDelete
  17. ... bahut sundar ... behatreen rachanaa ... naye varsh ki haardik shubhakaamanaayen !!!

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर .....नव वर्ष की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  19. ...और विजय हो
    इंसानियत की हैवानियत पर."

    ईश्वर करे यह आशा पूर्ण हो...सादर शुभकामनायें भाई जी !

    ReplyDelete
  20. bahut hi sundar..
    nav varsh sab k liye khushiyan le kar aaye..
    :)

    Lyrics Mantra

    ReplyDelete
  21. जाते हुए वर्ष को बखूबी summarize कर दिया आपने...
    आने वाले वर्ष के शुभकानाएं...

    ReplyDelete
  22. मार्मिक रचना ! नया वर्ष आपके लिये शुभ हो !

    ReplyDelete
  23. NAYA SAAL 2011 CARD 4 U
    _________
    @(________(@
    @(________(@
    please open it

    @=======@
    /”**I**”/
    / “MISS” /
    / “*U.*” /
    @======@
    “LOVE”
    “*IS*”
    ”LIFE”
    @======@
    / “LIFE” /
    / “*IS*” /
    / “ROSE” /
    @======@
    “ROSE”
    “**IS**”
    “beautifl”
    @=======@
    /”beautifl”/
    / “**IS**”/
    / “*YOU*” /
    @======@

    Yad Rakhna mai ne sub se Pehle ap ko Naya Saal Card k sath Wish ki ha….

    ReplyDelete
  24. नववर्ष की बधाईयां और शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  25. जब सपना टूटता है
    तो वर्तमान,
    भूत से भी ज्यादा
    असहनीय हो जाता है.

    hmm.shayad aapne chrchamanch pr mera aapke liye likha comment pra ho.....fir se use dohraa rhi hun./...main apni lekhni me aapki lekhni saa bhi rang bhrna chahti hun......:)...aapki lekhni ujhe bahut aakrshit krti he......

    aapko bhi nyaa saal bahut bahut mubaarak
    take care

    ReplyDelete
  26. थक गया है तन
    आहत है अंतर्मन,
    सोने दो आज मुझे
    समय की कब्र में
    शान्ति से
    ओढ़ कर इतिहास का कफ़न.
    --वाकई में देने को कुछ भी नहीं है इस बितते बरस में ..देश की वसीयत में सिर्फ घोटालों का ज़िक्र रह गया है..
    बहुत अच्छी कविता .

    ****आपको सपरिवार नववर्ष की अनंत शुभकामनाएं*****

    ReplyDelete
  27. सुन्दर एवं प्रभावशाली रचना . नव वर्ष की हार्दिक सुभकामनाये .

    ReplyDelete
  28. चूँकि अब धीरे-धीरे हम सब एक बिलकुल नए-नवेले साल २०११ में पदार्पण करने जा रहे है,
    अत: आपको और आपके परिवार को मेरी और मेरे परिवार की और से एक सुन्दर, सुखमय और समृद्ध नए साल की शुभकामनाये प्रेषित करता हूँ ! भगवान् करे आगामी साल सबके लिए अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और शान्ति से परिपूर्ण हो !!

    नोट: धडाधड महाराज की बेरुखी की वजह से ब्लोगों पर नजर रखने हेतु आपके ब्लॉग को मै अपने अग्रीगेटर http://deshivani.feedcluster.com/ से जोड़ना चाह रहा हूँ, जिसके लिए आपकी ईमेल आई डी चाहिए ,अगर कोई ऐतराज न हो तो कृपया उपरोक्त अग्रीगेटर पर खुद login करके अथवा godiyalji@gmail.com पर बताने का कष्ट करे !

    ReplyDelete
  29. थक गया है तन
    आहत है अंतर्मन,
    सोने दो आज मुझे
    समय की कब्र में
    शान्ति से
    ओढ़ कर इतिहास का कफन !

    घनीभूत पीड़ा से उपजी वक्त की यह दर्दभरी पुकार मन को व्यथित कर गयी ! बहुत सुन्दर रचना !
    नववर्ष आप सभी के लिये मंगलमय और कल्याणकारी हो यही कामना है ! नया साल मुबारक हो !

    ReplyDelete
  30. आद.कैलाश जी,
    विगत वर्ष का पूरा दर्द आपकी कविता में उमड़ पड़ा है !
    सब कुछ अक्षरशः सत्य !
    आपको सपरिवार नूतन वर्ष की अनंत मंगलकामनाएं !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  31. नव वर्ष 2011
    आपके एवं आपके परिवार के लिए
    सुखकर, समृद्धिशाली एवं
    मंगलकारी हो...
    ।।शुभकामनाएं।।

    ReplyDelete
  32. बेहतरीन रचना। बधाई। आपको भी नव वर्ष 2011 की अनेक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  33. अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  34. बेहतरीन रचना। बधाई। आप को सपरिवार नववर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं|

    ReplyDelete
  35. नूतन वर्ष आपके लिये शुभ व मंगलमय हो.
    हार्दिक शूभकामनाओं सहित...

    ReplyDelete
  36. सर्वस्तरतु दुर्गाणि सर्वो भद्राणि पश्यतु।
    सर्वः कामानवाप्नोतु सर्वः सर्वत्र नन्दतु॥
    सब लोग कठिनाइयों को पार करें। सब लोग कल्याण को देखें। सब लोग अपनी इच्छित वस्तुओं को प्राप्त करें। सब लोग सर्वत्र आनन्दित हों
    सर्वSपि सुखिनः संतु सर्वे संतु निरामयाः।
    सर्वे भद्राणि पश्यंतु मा कश्चिद्‌ दुःखभाग्भवेत्‌॥
    सभी सुखी हों। सब नीरोग हों। सब मंगलों का दर्शन करें। कोई भी दुखी न हो।
    बहुत अच्छी प्रस्तुति। नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं!

    सदाचार - मंगलकामना!

    ReplyDelete
  37. आप को सपरिवार नववर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  38. नया वर्ष आप के ओर आप के परिवार के लिये सुख मय हो ओर देश भर मे खुशियां के कर, सुख ले कर आये, मेरी शुभकामनाऎं आप सब के संग हे!! मेरा यह नये साल का उपहार आप सब के लिये हे..
    http://blogparivaar.blogspot.com/

    ReplyDelete
  39. नए वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  40. आप को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये ..

    ReplyDelete
  41. .

    यथार्थ को खूबसूरती से चित्रित करती बेहतरीन रचना। चलिए नयी उम्मीद और उमंग के साथ , नए साल का स्वागत करते हैं मिलजुल कर।

    नव वर्ष की ढेरों शुभकामनाओं के साथ ,
    दिव्या।

    .

    ReplyDelete
  42. बाऊ जी,
    नमस्ते!
    पुराने साल के दर्द को भरपूर उकेरा है आपने.
    और नए साल को प्रेरणा दी है.
    आभार!
    आशीष
    ---
    हमहूँ छोड़के सारी दुनिया पागल!!!

    ReplyDelete
  43. मानव की आशा ही नहीं वरन विश्वास को आपने सुन्दर शब्द दिया है .बहुत सुन्दर रचना ...आपको नव वर्ष की ढेरों शुभकामनायें

    ReplyDelete
  44. वर्ष पड़ी काली छाया जो,
    त्यक्त वहीं कर दें हम कल,
    नूतन की अभिलाषा, आशा,
    में जीवित हो प्राणि सकल।

    ReplyDelete
  45. बीते वर्ष के यथार्थ को शब्द दिए हैं आपने ... पर फिर भी आशा तो रहती ही है .....
    आपको और आपके पूरे परिवार को नव वर्ष मंगलमय हो ...

    ReplyDelete
  46. मेरी नई पोस्ट "उम्मीद पे कायम दुनिया" के लिये मेरे ब्लाग 'नजरिया' को देखें व उपर्युक्त समझें तो कृपया इसे फालो भी कर लें । धन्यवाद...
    http://najariya.blogspot.com

    ReplyDelete
  47. जय श्री कृष्ण...आपका लेखन वाकई काबिल-ए-तारीफ हैं....नव वर्ष आपके व आपके परिवार जनों, शुभ चिंतकों तथा मित्रों के जीवन को प्रगति पथ पर सफलता का सौपान करायें .....मेरी कविताओ पर टिप्पणी के लिए आपका आभार ...आगे भी इसी प्रकार प्रोत्साहित करते रहिएगा ..!!

    ReplyDelete
  48. इतनी सुंदर कविता के साथ नव वर्ष का आगाज़ ... धन्यवाद

    आपको और आपके परिवार को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  49. जब सपना टूटता है
    तो वर्तमान,
    भूत से भी ज्यादा
    असहनीय हो जाता है.

    ReplyDelete