Wednesday, January 08, 2014

तनहाई

नहीं बैठता कागा
इस घर की मुंडेर पर,
नहीं सुनायी देती 
अब उसकी आवाज़,
गुज़र जाता मौन
छत के ऊपर से,
पता है उसको 
नहीं आता कोई 
इस सुनसान घर में,
नहीं चाहता जगाना 
झूठी आशा
तन्हा दिल में।


******
सुनी है कभी 
खामोशी की आवाज़ 
चीखती है सन्नाटे में 
मिटाने को अकेलापन 
सुनसान कोनों का.

.....कैलाश शर्मा

43 comments:

  1. ऐसे वीराने में एक दिन घुट के...................

    ReplyDelete
  2. आपकी प्रस्तुति गुरुवार को चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है |
    आभार

    ReplyDelete
  3. भावो का सुन्दर समायोजन......

    ReplyDelete
  4. Extremely well written and well presented .. kudos to u

    plz visit :
    http://swapnilsaundaryaezine.blogspot.in/2014/01/vol-01-issue-04-jan-feb-2014.html

    ReplyDelete
  5. सुंदर भाव.......

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. सुन्दर भाव संयोजन

    ReplyDelete
  8. वाह बहुत खूब ! मर्म को छूती बहुत ही कोमल रचना ! अति सुंदर !

    ReplyDelete
  9. प्रणाम सरजी... ! बेहतरीन उदास रचना.. ! शून्य का कर्कश कालापन.. !

    वाह !

    ReplyDelete
  10. मर्मस्पर्शी रचना
    सुनी है कभी
    खामोशी की आवाज़
    चीखती है सन्नाटे में
    मिटाने को अकेलापन
    सुनसान कोनों का.

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  12. खामोशी की आवाज़
    चीखती है सन्नाटे में .... WAKAI.. BOHAT KHOOB

    ReplyDelete
  13. खामोशियाँ ...भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  14. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आपका-

    ReplyDelete
  15. बहुर सुन्दर भाव से सजी रचना !
    नई पोस्ट सर्दी का मौसम!
    नई पोस्ट लघु कथा

    ReplyDelete
  16. कल 10/01/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  17. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन कहीं ठंड आप से घुटना न टिकवा दे - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  19. तनहाई होती ही है जानलेवा। बहुत भावपूर्ण रचना।

    ReplyDelete
  20. भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  21. ख़ामोशी ,सुनसान और आवाज की जुगलबंदी कमाल है !

    ReplyDelete
  22. बेहतरीन मर्मस्पर्शी रचना कैलाशा जी

    ReplyDelete
  23. आपकी इस ब्लॉग-प्रस्तुति को हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ कड़ियाँ (3 से 9 जनवरी, 2014) में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,,सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    ReplyDelete
  24. भावमय करते शब्‍दों का संगम

    ReplyDelete
  25. यही तो अच्छी तरह सुनाई देती है। सुंदर रचना

    ReplyDelete
  26. सन्नाटे की चीख और खामोशी की आवाज़ .... वाह !

    ReplyDelete
  27. बहुत शोर करती है कभी-कभी ये ख़ामोशी भी … मर्मस्पर्शी भाव

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  29. इस मौन में भी कोई बोलता है...सर पर हाथ कोई अदृश्य डोलता है...आभार !

    ReplyDelete
  30. कई बार चुभती तो है आवाज़ कागा की ... पर फिर लगता है जरूरी है ये तन्हाई के आलम से बाहर आने को ...
    काश की कागा हर मुंडेर पे बोले ...

    ReplyDelete