Saturday, March 15, 2014

अब न खेलूंगी श्याम संग होरी

अब न खेलूंगी श्याम संग होरी.
बहुत सतावे है वह मोको, बहुत करे बरजोरी.  
चुनरी भीग गयी है मोरी, भीग गयी है चोरी.   
कैसे जाऊं मैं अब घर पे, देख रहीं सब छोरी.   
कान्हा शरम न आवै तुमको, हरदम सूझे होरी.  
आओगे जब बरसाने, समझोगे तब तुम होरी.    
प्रेम रंग बरसे है ब्रज में, कैसे रहती कोरी.
भीग रंग में तेरे कान्हा, बनी सदा को तोरी.    

होली की
हार्दिक शुभकामनायें 

....कैलाश शर्मा 

32 comments:

  1. आपको भी बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  2. आपको भी होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  3. होली पर हार्दिक शुभ कामनाएं कैलाश जी आपको सपरिवार |

    ReplyDelete
  4. सभी को रंगों से सराबोर होली की शुभकामनायें...जय श्री राधे...

    ReplyDelete
  5. आपको भी होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  6. बढ़िया कैलाश सर , होली की हार्दिक शुभकामनाएँ , धन्यवाद
    नया प्रकाशन -: उपग्रह क्या है ? { What is the satelite ? }

    ReplyDelete
  7. कोई न बचे कोरी यही तो है होरी.. शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  8. होली की हार्दिक शुभकामनायें । बहुत सुंदर ।

    ReplyDelete
  9. बहुत उम्दा प्रस्तुति...!
    होली की सपरिवार हार्दिक शुभकामनायें ।
    RECENT POST - फिर से होली आई.

    ReplyDelete
  10. प्रेम की होलीमय उलाहना का सुन्दर चित्रण।

    ReplyDelete

  11. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन संदीप उन्नीकृष्णन अमर रहे - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  12. jo barse ..wahi tarse .....aisee hai holi ..sundar chitran ...

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर भाव .....होली की शुभकामनायें ...!!

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर , होली की शुभकामनायें....:)

    ReplyDelete
  15. ज्यों-ज्यों भीजै स्याम रंग त्यों-त्यों उज्जर होइ !

    ReplyDelete
  16. श्याम संग होली से सुन्दर भला और क्या...
    होली मुबारक....

    अनु

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (16-03-2014) को "रंगों के पर्व होली की हार्दिक शुभकामनाएँ" (चर्चा मंच-1553) पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    रंगों के पर्व होली की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ... रंगोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर भाव भरी रचना ... रंगों के पर्व में सब कुछ कृष्ण मय हो जाता है ...
    होली कि हार्दिक बधाई ...

    ReplyDelete
  20. बहुत ही भावपूर्ण रचना ! रंगोत्सव की आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  21. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  22. प्यार की बेहतरीन अभिव्यक्ति !! आभार आपका !!

    ReplyDelete
  23. ना-ना करके होली खेलेम्गे श्याम संग.
    मनभावन

    ReplyDelete
  24. वाह! सुन्दर,सामयिक प्रस्तुति....आप को होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं....
    नयी पोस्ट@हास्यकविता/ जोरू का गुलाम

    ReplyDelete
  25. वाह आदरणीय श्याम रंग और होली !! बहुत२ शुभकामनायें आपको

    ReplyDelete
  26. बहुत बहुत शुभकामनायें होली की.

    ReplyDelete
  27. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना
    होली की शुभकामनाएं ......

    ReplyDelete
  28. सुन्दर रचना. होली की बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर रचना...

    ReplyDelete