Sunday, January 11, 2015

आज ये दिन उदास सा गुज़रा

आज ये दिन उदास सा गुज़रा,
एक साया इधर से था गुज़रा।

यूँ तो यह शाम वक़्त से आयी,
क्यूँ है लगता कि दिन नहीं गुज़रा।

रात भर सिल रहा था गम अपने,
उनको पाया था फ़िर सुबह उधरा।

चांदनी खो गयी थी आँखों की,
चांद भी आज ग़मज़दा गुज़रा।

उम्र भर का हिसाब दूँ कैसे, 
एक पल उम्र से लंबा गुज़रा

खो गयी जाने कहाँ लब की हंसी,
आज आँखों में है सन्नाटा पसरा।

          (अगज़ल/अभिव्यक्ति)
...कैलाश शर्मा 

30 comments:

  1. रात भर सिल रहा था गम अपने,
    उनको पाया था फ़िर सुबह उधरा ...
    क्या लाजवाब शेर है ... जीवन का फलसफा लिखा है ...

    ReplyDelete
  2. उम्र भर का हिसाब दूँ कैसे,
    एक पल उम्र से लंबा गुज़रा।
    bahut hi badhiya

    ReplyDelete
  3. बेजोड़ अभिव्यक्ति .... सादर

    ReplyDelete
  4. चांदनी खो गयी थी आँखों की,
    चांद भी आज ग़मज़दा गुज़रा।
    बहुत ख़ूब....
    खूबसूरत अभिव्यक्ति !!

    ReplyDelete
  5. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (12-01-2015) को "कुछ पल अपने" (चर्चा-1856) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  6. उम्र भर का हिसाब दूँ कैसे,
    एक पल उम्र से लंबा गुज़रा।
    वाह ! हर शेर एक से बढ़ कर एक है ! बहुत ही खूबसूरत ग़ज़ल ! बड़े करीने से जज्बातों को पिरोया गया है ! बहुत खूब !

    ReplyDelete
  7. वाह ! बेहद भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  8. भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  9. बहुत खूब...सुन्दर...

    ReplyDelete
  10. उम्र भर का हिसाब दूँ कैसे,
    एक पल उम्र से लंबा गुज़रा।
    बहुत सुन्दर
    संत -नेता उवाच !
    क्या हो गया है हमें?

    ReplyDelete
  11. भावभरी अभिव्यक्ति - बहुत कुछ कहती हुई !

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर गजल.
    नई पोस्ट : तेरी आँखें

    ReplyDelete
  13. प्रेम पल्‍लवित प्रस्‍तुति सुन्‍दर।

    ReplyDelete
  14. उम्र भर का हिसाब दूँ कैसे,
    एक पल उम्र से लंबा गुज़रा।
    सुन्दर गजल

    ReplyDelete
  15. उम्र भर का हिसाब दूँ कैसे,
    एक पल उम्र से लंबा गुज़रा।
    ..सच दु:ख का एक एक पल एक उम्र से कई गुना ज्यादा है..
    बहुत सुन्दर ..

    ReplyDelete
  16. ​बहुत ही बढ़िया ​!
    ​समय निकालकर मेरे ब्लॉग http://puraneebastee.blogspot.in/p/kavita-hindi-poem.html पर भी आना ​

    ReplyDelete
  17. भावपूर्ण सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  18. सराहनीय पोस्ट
    सक्रांति की शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  19. भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  20. खूबसूरत शेर कहे है कैलाश जी बधाई

    ReplyDelete
  21. चांदनी खो गयी थी आँखों की,
    चांद भी आज ग़मज़दा गुज़रा।
    बहुत खूब

    ReplyDelete
  22. जो गुज़र गया ,वो अच्छा था
    जहाँ भी गुज़रा ,जैसे भी गुज़रा .........
    शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  23. रात भर सिल रहा था गम अपने,
    उनको पाया था फ़िर सुबह उधरा ...
    ...............बहुत खूब क्या लाजवाब शेर है

    ReplyDelete
  24. चांदनी खो गयी थी आँखों की,
    चांद भी आज ग़मज़दा गुज़रा।
    वाह, बहुत खूबसूरत।

    ReplyDelete
  25. रात भर सिल रहा था गम अपने,
    उनको पाया था फ़िर सुबह उधरा।

    ............लाजवाब!

    ReplyDelete
  26. तुरपाई की कोशिश में ही इतनी सुन्दर बन गई कविता ।
    प्रशंसनीय - प्रस्तुति ।

    ReplyDelete