Friday, September 13, 2013

परीक्षा


कितना कठिन है
प्रतिदिन सामना करना
एक नयी परीक्षा का,
बिना किसी पूर्व सूचना
विषय या पाठ्यक्रम के.

निरंतर देते परीक्षाएं
थक गया तन व मन,
नहीं चाहता  देना
कोई और परीक्षा
पर नहीं कोई उपाय 
बचने का इससे.

स्वीकार  है अपनी नियति
नहीं शिकायत किसी परीक्षा से
और न ही कोई आकांक्षा
किसी अपेक्षित परिणाम की,
केवल है इंतज़ार
उस अंतिम परीक्षा का  
मिलेगी जब मुक्ति
सब परीक्षाओं से.

लेकिन अनिश्चित सदैव की तरह 
दिन उस अंतिम परीक्षा का भी.

.....कैलाश शर्मा 

37 comments:

  1. वाह क्‍या मर्म संजोया है आपने इस कविता में। अन्तिम परीक्षा जब मिलेगी मुक्ति परीक्षाओं से लेकिन अनिश्चित है यह भी। सुन्‍दर।

    ReplyDelete
  2. जीवन में है नित्य परीक्षा

    ReplyDelete
  3. आपके जिंदगी में वो पल कभी न आए
    सादर

    ReplyDelete
  4. सहमत हूँ आपके विचारों से और एक रचना बन पड़ी -

    छोड़ इन झमेलों को
    ये मेरे -तेरे रूपी वेलों को ।
    हे प्रभु मुझे ले चलो
    बस मुझे विश्राम दो ॥

    ReplyDelete
  5. bahut sundar likha ...sach hain har pal pariksha hi to hain ...namste bhaiya

    ReplyDelete
  6. शायद ये अनिश्चितता ही सही है...दिन निश्चित हो जाए तो जीने का रोमांच ही न ख़तम हो जाए....

    बढ़िया भाव...
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  7. जब तक जीवन है नित नई परीक्षाओं से गुजरना ही पड़ेगा,,,
    सुंदर सृजन ! बेहतरीन प्रस्तुति,

    RECENT POST : बिखरे स्वर.

    ReplyDelete
  8. परीक्षा या परिणाम .......??? ...सुन्दर सृजन

    ReplyDelete
  9. नैराश्य पूर्ण भाव लिए यथार्थ को कहती अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!बढ़िया भाव...

    ReplyDelete
  11. यह ज़िंदगी की परीक्षा इतनी नहीं आसान
    एक आग का दरिया है और डूब क जानना है...ज़रा बिगड़ दिया हमने ग़ालिब का यह शेर माफी चाहते है :)
    लेकिन सच तो यही है। सुंदर भाव अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  12. जीवन के सत्य और एक इंसान की विवशता की कहानी कहती सी बहुत ही सारगर्भित रचना ! अति सुंदर !

    ReplyDelete
  13. सार्थक अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  14. अनिश्चित दिन उस प्रतीक्षा का !
    इसलिए कह गए श्रीकृष्ण बस कर्म पर ही तुम्हारा वश है !
    श्रेष्ठ चिंतन !

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुन्दर बेहतरीन प्रस्तुती,धन्यबाद।

    ReplyDelete
  16. कल 15/09/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  17. सच है अब रोज-रोज के संघर्ष और परीक्षाओं से मन उक्‍ताने लगा है। बहुत अच्‍छी कविता।

    ReplyDelete
  18. सुन्दर. परीक्षाएं तो निरंतर चलती रहती हैं

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - रविवार - 15/09/2013 को
    भारत की पहचान है हिंदी - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः18 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra





    ReplyDelete
  20. ये तो जीवन का खेल है ... सांसों की आँख मिचौली जो चलती रहेगी उम्र भर ...
    कभी न खत्म होने वाली परीक्षा उसके दरबार पे जा के ही खत्म होती है ... भाव मय रचना ...

    ReplyDelete
  21. gahan abhivyakti.. bohat sundar likha hai dada

    ReplyDelete
  22. अंतिम परीक्षा भी अंतिम नहीं है..एक नया दौर अगले ही क्षण शुरू हो जाता है..

    ReplyDelete
  23. ये सारी परीक्षाएं सिलेबस के बाहर की हैं...और हमेशा हमें चाक-चौबंद रखतीं हैं...

    ReplyDelete
  24. shayad jeenay ka maza hai in parichaon say....sundar rachna

    ReplyDelete
  25. बहुत ही गहन भाव के साथ अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  26. लेकिन अनिश्चित सदैव की तरह
    दिन उस अंतिम परीक्षा का भी.
    Kitna sach kaha hai!Us antim dintak har roz hame na jane kitne imtehanon se guzarna padta hai!

    ReplyDelete
  27. true..
    everyday a new test
    new enemy and new opponent.

    ReplyDelete
  28. मर्म को झंकृत करता कविता का मर्म..

    ReplyDelete
  29. मुक्ति प्रभु की शरण में जाने से मिलेगी इंतज़ार करने से

    नहीं मन बुद्धि उसके अर्पण कर दो।

    ReplyDelete
  30. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लागर्स चौपाल में शामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - शनिवार हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल :007 http://hindibloggerscaupala.blogspot.in/ लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर ..

    ReplyDelete