Sunday, June 19, 2011

पितृ प्रेम को शब्द नहीं है


गीत लिखे माँ की ममता पर, 
प्यार पिता का किसने देखा,
माँ  के  आंसू  सबने  देखे,  
दर्द पिता का किसने देखा.

माँ की ममता परिभाषित है, 
पितृ प्रेम  को  शब्द  नहीं है,
कितने अश्क छुपे पलकों में, 
वहां झाँक कर किसने देखा.

उंगली पकड़ सिखाया चलना, 
छिटक दिया है उन हाथों को,
तन की चोट सहन हो जाती, 
मन  का घाव न  भरते देखा.

दर्द  छुपा कर  बोझ  उठाया, 
झुकने दिया नहीं कन्धों को,
कोई  रख दे  हाथ  प्यार  से, 
इन्हें  तरसते  किसने  देखा.

विस्मृत हो जायें कटु यादें, 
मंजिल पर जाने  से पहले,
हो जायें  ये  साफ़  हथेली, 
मिट जायें रिश्तों की रेखा.

54 comments:

  1. बहुत मर्मस्पर्शी कविता लिखी है सर! सच को बयां करती हुई.


    सादर

    ReplyDelete
  2. कैलाश जी अभी थोड़ी देर पहले मन में उद्देलित हो रहे थे येही विचार की आपकी पोस्ट दिखी मन भर आया क्या भावभीनी अभिव्यक्ति की है , कही कोने में दबे छिपे पिता के दर्द को खूबसूरत अश्रुपूरित शब्दों के लिए बधाई

    ReplyDelete
  3. गीत लिखे माँ की ममता पर,
    प्यार पिता का किसने देखा,
    माँ के आंसू सबने देखे,
    दर्द पिता का किसने देखा.

    @
    नज़रें सबकी डेस्कटोप पर,
    मदर बोर्ड को किसने देखा.
    फीदर मोर शोभता सर पर
    मदर मोरनी डांस न देखा.

    ReplyDelete
  4. माँ की ममता परिभाषित है,
    पितृ प्रेम को शब्द नहीं है,
    कितने अश्क छुपे पलकों में,
    वहां झाँक कर किसने देखा.

    @
    कोकिल नर का शब्द मधुर है,
    मादा कोकिल का कटु किक-किक.
    'घड़ा' प्यास से सबने देखा.
    'घड़ी' समय क्षय करती टिक-टिक.

    ReplyDelete
  5. उंगली पकड़ सिखाया चलना,
    छिटक दिया है उन हाथों को,
    तन की चोट सहन हो जाती,
    मन का घाव न भरते देखा.

    @ कितना दर्द भर दिया है आपने इस अभिव्यक्ति में... कुछ सूझ ही नहीं रहा.

    ReplyDelete
  6. दर्द छुपा कर बोझ उठाया,
    झुकने दिया नहीं कन्धों को,
    कोई रख दे हाथ प्यार से,
    इन्हें तरसते किसने देखा.

    @ शायद पिता दायित्व निभाते-निभाते अपने चेहरे और शरीर को इतना कठोर व आकर्षणहीन बना लेता है कि उसकी अपनी संतान ही उसकी तृषा-क्षुधा को नहीं देख पाती जो उसके शब्दहीन व्यक्तित्व की खुराक हैं.

    ReplyDelete
  7. विस्मृत हो जायें कटु यादें,
    मंजिल पर जाने से पहले,
    हो जायें ये साफ़ हथेली,
    मिट जायें रिश्तों की रेखा.

    @ .......... पिता अपनी अंतिम यात्रा पर जाने से पहले अपनों से मिली सब कड़वाहट भुला देना चाहता है.
    हथेलियों से रिश्तों की रेखा मिटा देने की इच्छा ......... यूँ ही नहीं पनपती... जरूर उसकी संतान ने उसके विश्वास और अपेक्षाओं को तार-तार किया है.

    ReplyDelete
  8. कल 20/06/2011को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की गयी है-
    आपके विचारों का स्वागत है .
    धन्यवाद
    नयी-पुरानी हलचल

    ReplyDelete
  9. पिता की भावनाओं को समझती सुन्दर कविता... फादर्स डे की हार्दिक शुभकामना !

    ReplyDelete
  10. दर्द छुपा कर बोझ उठाया,
    झुकने दिया नहीं कन्धों को,
    कोई रख दे हाथ प्यार से,
    इन्हें तरसते किसने देखा.

    इस दिवस पर यह मर्मस्पर्शी कविता बहुत ही ख़ास लगी.

    ReplyDelete
  11. कितने अश्क छुपे पलकों में,
    वहां झाँक कर किसने देखा.
    पितृत्व का मर्मस्पर्शी चित्रण ।

    ReplyDelete
  12. आपने बहुत अच्‍छा लिखा है, हम केवल माँ माँ करते हैं। पिता का अमूल्‍य योगदान कोई स्‍मरण नहीं करता। बहुत अच्‍छा।

    ReplyDelete
  13. कुछ भी कहने के लिए शब्दों का वस्तुतः आभाव सा महसूस कर रही हूँ बेहद मार्मिक और सजीव चित्रण पितृ दिवस पर
    आभार

    ReplyDelete
  14. जीवन पात्र मेरा खाली रह जाता , पिता के रूप में जो तुम्हें नहीं पाता ... इसे लिखा मेरी दीदी ने , गाया हम सबने . माँ के साथ और पिता के साथ में फर्क होता है ...दोनों की अभिव्यक्ति अलग होती है , आंसू एक से होते हैं

    ReplyDelete
  15. ठीक कहा आपने ! मदर डे वाला fanfare कहीं नज़र नहीं आया ! पर इस का अर्थ यह भी नहीं कि बच्चे पिता को ले कर भाव शून्य हैं. कैसा भी डे मनाना तो बाज़ार वाद और उपभोक्ता वाद का आवश्यक हिस्सा हो गया है ताकि कुछ लोग भावात्मकता भुना कर चाँदी कूट सकें !

    ReplyDelete
  16. दर्द छुपा कर बोझ उठाया,
    झुकने दिया नहीं कन्धों को,
    कोई रख दे हाथ प्यार से,
    इन्हें तरसते किसने देखा.
    मार्मिक और सजीव चित्रण, धन्यवाद....

    ReplyDelete
  17. अद्भुत रचना है आपकी, पिता का हृदय स्वतः ही बोल उठा।

    ReplyDelete
  18. आदरणीय कैलाश जी,

    पिता होने के भावों को और छिपी हुई पीड़ा को सामने लाकर रख दिया ज्यों-ज्यों पंक्तियों के साथ सफर करता गया।

    पितृ-दिवस एक मर्मस्पर्शी कविता........

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    ReplyDelete
  19. उंगली पकड़ सिखाया चलना,
    छिटक दिया है उन हाथों को,
    तन की चोट सहन हो जाती,
    मन का घाव न भरते देखा.
    पितृ दिवस पर इस भावपूरित प्रस्तुति के लिए आभार। उपर्युक्त पंक्तियों ने तो निःशब्द कर दिया है।

    ReplyDelete
  20. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (20-6-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  21. दर्द छुपा कर बोझ उठाया,
    झुकने दिया नहीं कन्धों को,
    शब्दश: नि:शब्द्श:

    ReplyDelete
  22. बहुत मर्मस्पर्शी कविता|
    फादर्स डे की हार्दिक शुभकामना|

    ReplyDelete
  23. विस्मृत हो जायें कटु यादें,
    मंजिल पर जाने से पहले,
    हो जायें ये साफ़ हथेली,
    मिट जायें रिश्तों की रेखा.

    Haan...yahee ichha kee jaa saktee hai.

    ReplyDelete
  24. इस रचना के हर शब्द में पिता के लिए संवेदना ही संवेदना है ...बहुत सुन्दर ..

    ReplyDelete
  25. आदरणीय कैलाश जी, बहुत ही मर्मस्पर्शी रचना पेश किया आपने!
    पितृ दिवस पर इस भावपूरित प्रस्तुति के लिए आभार।

    ReplyDelete
  26. बहुत ही कोमल भावनाओं में रची-बसी खूबसूरत रचना के लिए आपको हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  27. दर्द छुपा कर बोझ उठाया,
    झुकने दिया नहीं कन्धों को,
    कोई रख दे हाथ प्यार से,
    इन्हें तरसते किसने देखा

    Bemisal panktiyan....

    ReplyDelete
  28. पिता का प्रेम भी माँ की ममता से कही कम नहीं है ....
    सुन्दर भावाभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  29. बेमिशाल भावों को शब्द देकर पितृत्व को बांचने का ममस्पर्शी कार्य
    सुंदर है .मनोहारी सृजन .......सर .
    बहुत -२ आभार /

    ReplyDelete
  30. माँ की ममता परिभाषित है,
    पितृ प्रेम को शब्द नहीं है,
    कितने अश्क छुपे पलकों में,
    वहां झाँक कर किसने देखा.
    बहुत भावमय रचना। सच कहा आपने पिता का प्यार बादाम की तरह है ऊपर से कठोर लेकिन व्यक्तित्व निर्माण मे गुणकारी। मर्मस्पर्शी रचना के लिये बधाई।

    ReplyDelete
  31. विस्मृत हो जायें कटु यादें,
    मंजिल पर जाने से पहले,
    हो जायें ये साफ़ हथेली,
    मिट जायें रिश्तों की रेखा.

    bahut sundar

    ReplyDelete
  32. माँ की ममता परिभाषित है,
    पितृ प्रेम को शब्द नहीं है,
    कितने अश्क छुपे पलकों में,
    वहां झाँक कर किसने देखा....
    बहुत खूब ... निःशब्द कर दिया इन पंक्तियों ने आपकी ... पितृ दिवस की शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  33. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना!

    ReplyDelete
  34. बहुत भावमयी रचना....

    ReplyDelete
  35. बहुत सुन्दर कैलाश जी.......पिता का दर्जा बहुत ऊँचा है .....शानदार पोस्ट है|

    ReplyDelete
  36. दर्द छुपा कर बोझ उठाया,
    झुकने दिया नहीं कन्धों को,
    कोई रख दे हाथ प्यार से,
    इन्हें तरसते किसने देखा.

    bahut sunder rachna hai ...
    pita ki bhavnaon ko sunderta se ukera hai ....
    bahut bahut badhai aapko itni sunder rachna ke. liye ..!!

    ReplyDelete
  37. उंगली पकड़ सिखाया चलना,
    छिटक दिया है उन हाथों को,
    तन की चोट सहन हो जाती,
    मन का घाव न भरते देखा
    गहन और शानदार पोस्ट है| पितृ दिवस की शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  38. पिता की भावनाओं को समझती सुन्दर कविता... फादर्स डे की हार्दिक शुभकामना !

    ReplyDelete
  39. दर्द छुपा कर बोझ उठाया,
    झुकने दिया नहीं कन्धों को,
    कोई रख दे हाथ प्यार से,
    इन्हें तरसते किसने देखा.

    दिल को छूती रचना...

    ReplyDelete
  40. jyada kuchh na keh kar yahi kahungi....aaj ki sabse sarvshreshth rachna mujhe yahi lagi. 16 aane sach.

    ReplyDelete
  41. पितृ दिवस पर बहुत सुन्दर, भावपूर्ण और मर्मस्पर्शी रचना लिखा है आपने! दिल को छू गयी हर एक पंक्तियाँ! माँ पिताजी दोनों हमारे लिए भगवान समान हैं!

    ReplyDelete
  42. कैलाश जी ,
    बहुत सुन्दर रचना है , पिताजी की याद गहरा गयी । माँ की तरह ही भावुक और प्यार करने वाले होते हैं पिता भी ।

    ReplyDelete
  43. पितृ दिवस पर अद्भुत और संग्रहनीय रचना . आभार .

    ReplyDelete
  44. माँ की ममता परिभाषित है,
    पितृ प्रेम को शब्द नहीं है,
    कितने अश्क छुपे पलकों में,
    वहां झाँक कर किसने देखा.
    पिता के मार्मिक पक्ष को पूरी संवेदना से उकेरा है आपने.

    ReplyDelete
  45. आदरणीय कैलाश जी,बहुत सुन्दर रचना है!

    ReplyDelete
  46. तन की चोट सहन हो जाती,
    मन का घाव न भरते देखा.

    साबुन - बट्टी |
    मरहम पट्टी |
    घर की भट्टी
    रत्ती-रत्ती
    तन के दाग मिटेंगे भैया ||
    दिया जलाव
    खोजो, लाव
    चलो बुलाव
    पूरा गाँव
    वैद्य दिखाव
    मन के घाव
    बिलकुल भी न, घटेंगे भैया ||

    ReplyDelete
  47. गीत लिखे माँ की ममता पर,
    प्यार पिता का किसने देखा,
    भाई कैलाश जी ,
    साधुवाद
    वाकयी आपने बिलकुल सही लिखा .
    पिता बस पिस्रता रहता है.
    प्यार जो पिता करता है
    ऊतना माँ भी नहीं करती .
    जिन्दगी भर ओंलाद के ही लगा रहता है .
    नाम, इज्जत ,धन दौलत ,
    सब कुछ पिता ही तो देता है
    यह तो पिता का प्यार है की
    वो माँ को सम्मान , प्यार
    दिलाने के लिए सब कुछ ऊसको
    आगे रख कर ही करता है
    पर प्यार जो वह करता है
    ऊसको कौन देखता है.
    दुबारा साधुवाद .

    ReplyDelete
  48. pita ki anchhui bhavnaon ko shabd de diye aapne ...sunder..

    ReplyDelete
  49. पूरी लयात्मकता के साथ प्रस्तुत आपका गीत सामयिक और बहुत प्यारा है.

    ReplyDelete
  50. ये तो सच ही है कि मानव सभ्यता के सरोकारों ने माँ के बनिस्बत पिता को कम आँका है, पर हमारे संस्कारों में पिता का ही वर्चस्व है|

    ReplyDelete
  51. आदरणीय कैलाश जी

    सादर नमस्कार !

    मां के आंसू सबने देखे,
    दर्द पिता का किसने देखा …

    मां की ममता परिभाषित है,
    पितृ प्रेम को शब्द नहीं है,
    कितने अश्क छुपे पलकों में,
    वहां झांक कर किसने देखा …


    बहुत भावुक कर देने वाली रचना ! बहुत संवेदनशील !!
    आभार के शब्द नहीं हैं … … …

    # समय निकाल कर निम्नांकित इस लिंक पर मेरी रचना अवश्य पढ़ें , सुनें भी … और अपनी बहुमूल्य राय भी दें …
    आए न बाबूजी

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  52. भावभीनी अभिव्यक्ति ,शानदार पोस्ट है|

    ReplyDelete
  53. Beautiful..It really express the feelings for father's love truely.

    ReplyDelete