Sunday, August 14, 2011

ढूँढ रहा हूँ आज़ादी को

ढूँढ रहा हूँ आजादी को, नज़र उठा कर चारों ओर,
कहते सब आज़ाद देश है, ढूँढ रहा मैं उसका छोर.

भूखा मरने की आज़ादी, रोक मगर हक़ को अनशन पर,
जीवन भर था रहा नग्न, अब कफ़न चुराने बैठे चोर.

मेहनतकश इंसान लटकता, हर पल फांसी के फंदे पर,
इंतज़ार में भ्रष्टाचारी, कब खींचूँ में इसकी डोर.

रोटी, घर, शिक्षा के सपने, क़ैद दफ्तरों की फ़ाइल में,
कितनी बार आयेगा गांधी, खोल सके जो उसकी डोर.

सहने की भी एक सीमा है , मत मज़बूर करो जनता को,
जब आवाज़ उठेगी उसकी, सह न पाओगे वह शोर.

स्विस बैंकों में क़ैद करो मत, तुम भारत माता की अस्मत,
उठ जायेगा एक सुनामी, भीगा गर माँ आँखों का कोर.


स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !

45 comments:

  1. स्विस बैंकों में क़ैद करो मत, तुम भारत माता की अस्मत,
    उठ जायेगा एक सुनामी, भीगा गर माँ आँखों का कोर.

    प्रासंगिक आवाह्न सुंदर कविता के माध्यम से.

    स्वतंत्रता दिवस की बहुत शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  2. sateek bat kahi है आपने पर जब tak हम आम आदमी हैं हम सत्तासीन को भ्रष्ट कहते रहते हैं पर जैसे ही हमारे हाथ में सत्ता आती है हम भी वही सब करते हैं .सबसे पहले जनता को स्वयं इमानदार होना होगा .आभार
    devi chaudhrani

    ReplyDelete
  3. सिर्फ छद्म आज़ादी मे हम आज जी रहे हैं।
    स्वतन्त्रता दिवस की शुभ कामनाएँ सर।

    सादर

    ReplyDelete
  4. आपने देश का पूरा नक्शा ही खींच दिया है.
    हालात तो चिंताजनक हैं ही,फिर भी:-
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  5. कल 15/08/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. आज देश का हर शख्स बारुद के ढेर पर बैठा है चिंगारी कब शोलो मे तब्दील हो जायेगी पता भी ना चलेगा……………शायद ये बात आज के कर्णधार भूल गये हैं……………बेहद संवेदनशील और प्रभावशाली रचना।

    ReplyDelete
  7. मेहनतकश इंसान लटकता, हर पल फांसी के फंदे पर,
    इंतज़ार में भ्रष्टाचारी, कब खींचूँ में इसकी डोर.

    एक जीवंत सच्चाई को उजागर करती आपकी यह रचना मन को उद्वेलित करती है ......!

    ReplyDelete
  8. मन को छु लेने वाली कविता ....

    ReplyDelete
  9. ढूँढ रहा हूँ आजादी को, नज़र उठा कर चारों ओर,
    कहते सब आज़ाद देश है, ढूँढ रहा मैं उसका छोर.
    मन को छू लेने वाली बहुत सुन्दर कविता ....

    ReplyDelete
  10. भूखा मरने की आज़ादी, रोक मगर हक़ को अनशन पर,
    जीवन भर था रहा नग्न, अब कफ़न चुराने बैठे चोर.

    bahut khoob ! padhkar achha laga !!

    ReplyDelete
  11. खूबसूरत काव्य, सटीक भी . स्वतंत्रता दिवस की बधाई. शहीदों की कुर्बानी याद रखें और स्वतंत्रता दिवस मनाएं

    ReplyDelete
  12. देश आज जिस हालात से गुजर रहा है उसका सटीक वर्णन अपने किया है, स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  13. गंभीर ... देश के हालात का सही जायजा लिया है आपने ... स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर रचना , सार्थक प्रस्तुति
    स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  15. भूखा मरने की आज़ादी, रोक मगर हक़ को अनशन पर,
    जीवन भर था रहा नग्न, अब कफ़न चुराने बैठे चोर.
    Swatantrata diwas kee anek shubh kamnayen!

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर रचना,बहुत ही उम्दा प्रस्तुती
    स्वतंत्रता दिवस की बहुत शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  17. यह दुर्दशा देख हर साल दो बार आँखें नम हो जाती हैं।

    ReplyDelete
  18. बहुत सशक्‍त रचना। भूखे नंगे देशावासियों की चिन्‍ता नहीं और अनशन की चिन्‍ता सता रही है।

    ReplyDelete
  19. सहने की भी एक सीमा है , मत मज़बूर करो जनता को,
    जब आवाज़ उठेगी उसकी, सह न पाओगे वह शोर.
    intzaar hai us shor ka ... varna hum khud ko dhoondhte rah jayenge

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर सशक्त सामयिक रचना सर,
    सादर...

    ReplyDelete
  21. बेहतरीन ...प्रभावित करती रचना ......

    ReplyDelete
  22. स्वतंत्रता पर सवाल उठाती कविता....बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  23. सच को प्रतिबिम्बित करती बेहतरीन रचना...

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  24. आज की व्यवस्था पर प्रहार करती सार्थक रचना ..

    स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें और बधाई

    ReplyDelete
  25. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 15-08-2011 को चर्चा मंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  26. "भूखा मरने की आज़ादी, रोक मगर हक़ को अनशन पर,
    जीवन भर था रहा नग्न, अब कफ़न चुराने बैठे चोर".
    फिर भी.......
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    स्वतन्त्रता की 65वीं वर्षगाँठ पर बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  28. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  29. Gandhi ko baar baar ana hi padega kyunki abhi ham aajad nahi hain...
    Jai hind jai bharatGandhi ko baar baar ana hi padega kyunki abhi ham aajad nahi hain...
    Jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  30. "भूखा मरने की आज़ादी, रोक मगर हक़ को अनशन पर,
    जीवन भर था रहा नग्न, अब कफ़न चुराने बैठे चोर."
    .............आजादी के बाद भी समाज में फैली विडंबना का अति सुंदर चित्रण.......

    ReplyDelete
  31. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं और ढेर सारी बधाईयां

    ReplyDelete
  32. bahut sarthak, prabhavshali rachna. aaj ke halaat par chot karti prastuti.

    ReplyDelete
  33. सुन्दर अभिव्यक्ति के साथ भावपूर्ण कविता लिखा है आपने!
    आपको एवं आपके परिवार को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  34. सार्थक और सशक्त प्रस्तुति. आभार. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें...
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  35. रोटी, घर, शिक्षा के सपने, क़ैद दफ्तरों की फ़ाइल में,
    कितनी बार आयेगा गांधी, खोल सके जो उसकी डोर.

    अरे वह आपने तो भारत माता के उपर देशप्रेम से ओतप्रोत बहुत अच्छे भाव लिए सुंदर गीत लिख डाला यथार्थ को बताती हुई सार्थक रचना /बधाई आपको /
    ब्लोगर्स मीट वीकली (४)के मंच पर आपका स्वागत है आइये और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये/आभार/ इसका लिंक हैhttp://hbfint.blogspot.com/2011/08/4-happy-independence-day-india.htmlधन्यवाद /

    ReplyDelete
  36. ढूँढ रहा हूँ आजादी को, नज़र उठा कर चारों ओर,
    कहते सब आज़ाद देश है, ढूँढ रहा मैं उसका छोर.

    बेहद सार्थक एवं सटीक अभिव्‍यक्ति ...आभार ।

    ReplyDelete
  37. Brilliantly expressed the grave problems prevailing in our country which we are tend to feel more on National Holidays !!

    ReplyDelete
  38. सच्चाई को उजागर करती रचना
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं….!

    जय हिंद जय भारत
    ***********************

    ReplyDelete
  39. प्रासंगिक आवाह्न सुंदर कविता के माध्यम से............

    ReplyDelete
  40. भूखा मरने की आज़ादी, रोक मगर हक़ को अनशन पर,
    जीवन भर था रहा नग्न, अब कफ़न चुराने बैठे चोर.

    सारगर्भित पंक्तियों ने मन को झकझोर दिया.

    ReplyDelete
  41. बहुत ही सटीक सार्थक चित्रण

    ReplyDelete
  42. आप ने लिखा... हमने पढ़ा... और भी पढ़ें... इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना शुकरवार यानी 16-08-2013 की http://www.nayi-purani-halchal.blogspot.com पर लिंक की जा रही है... आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस हलचल में शामिल रचनाओं पर भी अपनी टिप्पणी दें...
    और आप के अनुमोल सुझावों का स्वागत है...




    कुलदीप ठाकुर [मन का मंथन]

    ReplyDelete