Thursday, August 18, 2011

तड़प रहा गांधी का अंतस

तड़प रहा गांधी का अंतस,
आज देश का हाल देखकर.
क्या मेरी वह राह गलत थी,
पायी थी आजादी चलकर?

रोक लगी क्यों सत्याग्रह पर,
अनशन हुआ गैर कानूनी?
भ्रष्ट लोग गद्दी पर जब हों,
न्याय, सत्य होते बेमानी.

नहीं किया संघर्ष था मैंने,
ऐसी  आज़ादी  पाने को.
अपना स्वार्थ हुआ सर्वोपरि,
भूल गए हैं जन सेवा को.

गर्व मुझे कुछ जन अब भी,
चलते  हैं मेरे  रस्ते पर.
जो बनते हैं मेरे वारिस,
भूल गये मेरी शिक्षा पर.

अब मेरी तस्वीर हटा दो,
दफ़्तर की दीवारों से तुम.
झुक जाती हैं मेरी नज़रें,
काले कार्य देखकर हरदम.

41 comments:

  1. नहीं किया संघर्ष था मैंने,
    ऐसी आज़ादी पाने को.

    गांधीजी जिंदा होते तो शायद ऐसी दुराचार देखकर आज आत्महत्या कर लेते ...
    बहुत सुन्दर कविता ...

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर कविता है .
    नित्तंत सामयिक विषय पर सटीक पंक्तिया

    ReplyDelete
  3. अब मेरी तस्वीर हटा दो,
    दफ़्तर की दीवारों से तुम.
    झुक जाती हैं मेरी नज़रें,
    काले कार्य देखकर हरदम.
    सच कह रही है ये रचना... ये वह आज़ादी नहीं है जिसकी कल्पना गांधीजी के साथ - साथ हर एक आम इन्सान ने कि थी अपने ही देश में हम आज अपनों के ही गुलाम बन कर रह गए हैं....

    ReplyDelete
  4. सच ही आज गाँधी कि आत्मा रो रही होगी ..बहुत अच्छी और सार्थक रचना

    ReplyDelete
  5. बिल्‍कुल सच कहा ...बेहद सटीक एवं सार्थक अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  6. अंततः गाँधी कि जीत हुई है अनशन के लिए तैयार हैं अन्ना, यह भारत की जनता कि जीत है...

    ReplyDelete
  7. अब मेरी तस्वीर हटा दो,
    दफ़्तर की दीवारों से तुम.
    झुक जाती हैं मेरी नज़रें,
    काले कार्य देखकर हरदम....

    सच कह रहे हैं सर, भारत को आज लोभातिरेक की बेड़ियों में जकड़ा है...
    पूरे आवेग से सत्य का गर्जन ही इन बेड़ियों का निराकरण हो सकता है...
    बहुत सुन्दर गीत ...
    सादर...

    ReplyDelete
  8. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  9. What Gandhi said we have forgotten after independence because we have lost our sense and duty what we have to do , for sake of our country. It is needed to revive the value and word of Gandhi."DO OR DIE ". Thanks a lot.

    ReplyDelete
  10. गांधी अगर आज तुम होते.....

    ReplyDelete
  11. पर अब क्रांति बीज बोया जा चुका है .अब सुधर जरूर आएगा .सार्थक प्रस्तुति .आभार
    blog paheli no.1

    ReplyDelete
  12. आदरणीय कैलाश जी भाईसाहब
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    भ्रष्ट लोग गद्दी पर जब हों,
    न्याय, सत्य होते बेमानी

    'तड़प रहा गांधी का अंतस' के माध्यम से आपने वर्तमान परिस्थितियों पर अच्छी रचना लिखी है ।

    अब वक़्त आ गया है भ्रष्टों को गद्दी से खींच कर नीचे पटकने का !


    मैंने भी लिखा है -

    काग़जी था शेर कल , अब भेड़िया ख़ूंख़्वार है
    मेरी ग़लती का नतीज़ा ; ये मेरी सरकार है

    सह चुके हद से ज़ियादा हम तेरी मनमानियां
    फ़ैसला करने को जनता हिंद की तैयार है


    हार्दिक मंगलकामनाओं सहित
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  13. ye shadyantr kab se chal rahe hain baapu ji.

    bahut sunder prabhavshali abhivyakti.

    ReplyDelete
  14. बेहद सटीक और सार्थक अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  15. शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  16. वास्तव में गांधी का दर्द यही होता । शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  17. अब तो वास्‍तव में कांग्रेसी कार्यालयों से गांधी की तस्‍वीर हटा लेनी चाहिए।

    ReplyDelete
  18. बहुत अच्छी और सार्थक रचना ..आज गाँधी कि आत्मा रो रही होगी ....

    ReplyDelete
  19. सार्थक अभिव्यक्ति...

    मेरे ब्लॉग्स पर भी आएं-
    http://ghazalyatra.blogspot.com/
    http://varshasingh1.blogspot.com/

    ReplyDelete
  20. very nice......keep it up.

    ReplyDelete
  21. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ सार्थक रचना ! बेहतरीन प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  22. नहीं किया संघर्ष था मैंने,
    ऐसी आज़ादी पाने को.

    बहुत सुन्दर कविता ...

    ReplyDelete
  23. बेहद सटीक एवं सार्थक अभिव्‍यक्ति .......

    ReplyDelete
  24. बहुत अच्छी और सार्थक रचना .......

    ReplyDelete
  25. अब मेरी तस्वीर हटा दो,
    दफ़्तर की दीवारों से तुम।
    झुक जाती हैं मेरी नज़रें,
    काले कार्य देखकर हरदम।

    गांधी जी का क्षोभ वास्तविक है।
    भ्रष्टाचार भी गांधी जी के नाम पर होने लगे हैं।

    ReplyDelete
  26. बहुत प्र भावी ... ज्वलंत प्रशों को उठाती .. कमाल की रचना है ...

    ReplyDelete
  27. अब मेरी तस्वीर हटा दो,
    दफ़्तर की दीवारों से तुम।
    झुक जाती हैं मेरी नज़रें,
    काले कार्य देखकर हरदम।....बहुत सटीक एवं सार्थक अभिव्‍यक्ति .......

    ReplyDelete
  28. लोकपाल बिल बनने से कुछ हो या न हो लेकिन लोगों को कुछ पा लेने का अहसास तो हो ही जाएगा।
    हम तो शुरू से ही कह रहे हैं कि सच्चे रब से डरो, जैसी उसकी ढील है वैसी ही सख्त उसकी पकड़ है।
    अभी इंटेलेक्चुअल बने घूम रहे हैं लेकिन अगर भूकंप, बाढ़ और युद्धों ने घेर लिया तो कोई भी फ़िलॉस्फ़र बचा न पाएगा।
    ईमानदारी के लिए ईमान चाहिए और वह रब को माने बिना और रब की माने बिना मिलने वाला नहीं है।
    लोग उससे हटकर ही अपने मसले हल कर लेना चाहते हैं,
    यही सारी समस्या है।
    ख़ैर ,
    आज सोमवार है और ब्लॉगर्स मीट वीकली 5 में आ जाइये और वहां शेर भी हैं।

    ReplyDelete
  29. Sach kaha aapne.. Gandhiji ki aatma yahi kah rah hogi abhi..

    ReplyDelete
  30. भ्रष्ट लोग गद्दी पर जब हों,
    न्याय, सत्य होते बेमानी

    देश के वर्तमान हालातों को बयाँ करती पंक्तियाँ .....

    ReplyDelete
  31. Hi I really liked your blog.

    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. This is totally free of cost, and all the copy rights will remain with you. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner, literature and editorial section of our website and the content shared by different writers and poets. Kindly Reply if you are intersted in it.

    http://www.catchmypost.com

    and kindly reply on mypost@catchmypost.com

    ReplyDelete
  32. The way u weave politics, plight and problems in your lines are worth a read.
    Loved it :)

    ReplyDelete
  33. नहीं किया संघर्ष था मैंने,
    ऐसी आज़ादी पाने को.
    अपना स्वार्थ हुआ सर्वोपरि,
    भूल गए हैं जन सेवा को.
    बहुत सार्थक रचना /वाकई गांधीजी को सच में शर्म आती होगी की इस देश को आजाद करने के लिए उन्होंने और अनगिनत लोगों ने अपनी कुर्बानी दी थी / आजादी के बाद भी हम कहाँ आजाद हुए हैं /बहुत कुछ सोचने को मजबूर करती हुई शानदार प्रस्तुति /बधाई आपको /मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद /मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है /आभार /

    ReplyDelete
  34. सटीक सामायिक रचना....

    ReplyDelete
  35. तड़प रहा गांधी का अंतस,
    आज देश का हाल देखकर.
    क्या मेरी वह राह गलत थी,
    पायी थी आजादी चलकर?

    बापू शायद यही सोच रहे होंगे.बेमिसाल रचना जो आजादी का मायने क्या है ? सोचने के लिये बाध्य करती है.

    ReplyDelete
  36. सार्थक रचना
    यदि मीडिया और ब्लॉग जगत में अन्ना हजारे के समाचारों की एकरसता से ऊब गए हों तो मन को झकझोरने वाले मौलिक, विचारोत्तेजक विचार हेतु पढ़ें
    अन्ना हजारे के बहाने ...... आत्म मंथन http://sachin-why-bharat-ratna.blogspot.com/2011/08/blog-post_24.html

    ReplyDelete