Thursday, August 25, 2011

मैं भी अन्ना, तुम भी अन्ना

बेहतर होगा
पहनना काले कपडे 
नेताओं को,
छुपे रहेंगे दाग
उसमें आसानी से.


                ******

भ्रष्टाचार बसा है जिनकी नस नस में,
दूर करेंगे वह इसको, यह आस व्यर्थ है.
कौन बनाता फांसी फंदा अपने हाथों से, 
बनें भेड़िया शाकाहारी,यह आस व्यर्थ है.

                ******

जन जन की आवाज़ न खाली जायेगी,
निकल चुकी शमशीर न वापिस जायेगी.
मत भूलो की तुम जनता के सेवक हो,
सत्ता गरूर को जनता धूल चटायेगी.

                ******

मैं भी अन्ना, तुम भी अन्ना,
नहीं सिर्फ़ एक नाम है अन्ना.
हर आँखों के सपने हैं अन्ना,
जन जन की आवाज़ है अन्ना.
          

40 comments:

  1. बहुत सही आह्वान्…………बिल्कुल सही कह रहे है आप

    ReplyDelete
  2. आह्वान् करती... सुन्दर और सार्थक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  3. देश को दीमक की तरह चाटता भ्रष्टाचार।

    ReplyDelete
  4. अनुनाद करती हुई प्रभावी रचनाएँ..

    ReplyDelete
  5. शुक्रवार --चर्चा मंच :

    चर्चा में खर्चा नहीं, घूमो चर्चा - मंच ||
    रचना प्यारी आपकी, परखें प्यारे पञ्च ||

    ReplyDelete
  6. प्रेरणादायी पंक्तियाँ ! काश देश के सत्ताधारियों को जनता की आवाज सुनाई दे और इस हालात से देश जल्दी उबर जाये.

    ReplyDelete
  7. वाह! कैलाश जी बहुत सुन्दर प्रस्तुति.
    आपकी सुन्दर ओजपूर्ण
    प्रस्तुति से हार्दिक आनंद हुआ है.
    आभार.

    ReplyDelete
  8. बिल्कुल सही कहा है ... फंसी का फंदा कौन बनाएगा ... सारे मुक्तक अच्छे और सटीक हैं

    ReplyDelete
  9. मैं भी अन्ना, तुम भी अन्ना,
    नहीं सिर्फ़ एक नाम है अन्ना.
    हर आँखों के सपने हैं अन्ना,
    जन जन की आवाज़ है अन्ना.
    ...laajawab!

    ReplyDelete
  10. हर आँखों के सपने हैं अन्ना,
    जन जन की आवाज़ है अन्ना....

    Very well said Kailash ji.

    .

    ReplyDelete
  11. मैं भी अन्ना, तुम भी अन्ना,
    नहीं सिर्फ़ एक नाम है अन्ना.
    हर आँखों के सपने हैं अन्ना,
    जन जन की आवाज़ है अन्ना....
    सुन्दर...ओजपूर्ण प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर ओजपूर्ण प्रस्तुति...
    आभार...

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर, जय हिन्द ।

    ReplyDelete
  14. सुन्दर अभिव्यक्ति.शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  15. आज का सच लिखा है आपने ... आज सभी अन्ना बने हुवे हैं ... देखने कब तक परीक्षा लेगी ये सरकार ....

    ReplyDelete
  16. सुन्दर ओजपूर्ण प्रस्तुति.......

    ReplyDelete
  17. बहुत ही सुन्दर रचना
    हमें अन्ना जी के साथ जरुर चलना चाहिए .....

    ReplyDelete
  18. मैं भी अन्ना, तुम भी अन्ना,
    नहीं सिर्फ़ एक नाम है अन्ना.
    हर आँखों के सपने हैं अन्ना,
    जन जन की आवाज़ है अन्ना.
    bahut sahi kaha aapne..is ojpoorn rachna ke liyae badhai.....

    ReplyDelete
  19. Hi I really liked your blog.

    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. This is totally free of cost, and all the copy rights will remain with you. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner, literature and editorial section of our website and the content shared by different writers and poets. Kindly Reply if you are intersted in it.

    http://www.catchmypost.com

    and kindly reply on mypost@catchmypost.com

    ReplyDelete
  20. मैं भी अन्ना, तुम भी अन्ना,
    नहीं सिर्फ़ एक नाम है अन्ना.
    हर आँखों के सपने हैं अन्ना,
    जन जन की आवाज़ है अन्ना.

    अन्ना ने अनशन समाप्त कर दिया....लेकिन ....

    जन जन की आवाज़ न खाली जायेगी,
    निकल चुकी शमशीर न वापिस जायेगी.
    मत भूलो की तुम जनता के सेवक हो,
    सत्ता गरूर को जनता धूल चटायेगी.

    ReplyDelete
  21. जन जन की आवाज़ न खाली जायेगी,
    निकल चुकी शमशीर न वापिस जायेगी.
    मत भूलो की तुम जनता के सेवक हो,
    सत्ता गरूर को जनता धूल चटायेगी.
    Bahut badhiya!

    ReplyDelete
  22. आह्वान् करती... सुन्दर और सार्थक अभिव्यक्ति.
    जिन्दाबाद..

    ReplyDelete
  23. Anna hi Anna :)
    Well crafted... very witty

    ReplyDelete
  24. यह सिर्फ़ एक नाम नहीं है। यह सिर्फ़ एक नारा नहीं है।
    एक क्रांति है। एक विश्वास है। एक आस्था है। लोगों की आकांक्षा है।

    ReplyDelete
  25. भ्रष्टाचार बसा है जिनकी नस नस में,
    दूर करेंगे वह इसको, यह आस व्यर्थ है.
    कौन बनाता फांसी फंदा अपने हाथों से,
    बनें भेड़िया शाकाहारी,यह आस व्यर्थ है.

    बिलकुल खरी खरी सच्ची बात कह दी है आपने ! महीनों से लोकपाल बिल पर जो इतना बेनतीजा विमर्श हो रहा है उसके पीछे सिर्फ और सिर्फ यही मानसिकता काम कर रही है ! बहुत ही बेहतरीन रचनाएं हैं सारी ! बधाई एवं आभार !

    ReplyDelete
  26. भ्रष्टाचार बसा है जिनकी नस नस में,
    दूर करेंगे वह इसको, यह आस व्यर्थ है.
    कौन बनाता फांसी फंदा अपने हाथों से,
    बनें भेड़िया शाकाहारी,यह आस व्यर्थ है.
    बड़े मार्मिक शब्दों ,से सजी यथार्थ परक उद्वेलित करती रचना को सम्मान ........ बधाईयाँ जी /

    ReplyDelete
  27. श्रेष्ठ रचनाओं में से एक ||
    बधाई ||

    ReplyDelete
  28. सुन्दर ओजपूर्ण प्रस्तुति.......

    ReplyDelete
  29. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  30. जन जन की आवाज़ न खाली जायेगी,
    निकल चुकी शमशीर न वापिस जायेगी.
    मत भूलो की तुम जनता के सेवक हो,
    सत्ता गरूर को जनता धूल चटायेगी.
    ...वाह!

    ReplyDelete
  31. वाह,एकदम अन्नामय हो गया वातावरण.

    ReplyDelete
  32. जन जन की आवाज़ न खाली जायेगी,
    निकल चुकी शमशीर न वापिस जायेगी....

    बहुत सुन्दर... सर
    सादर...

    ReplyDelete
  33. सुन्दर और सार्थक आह्वान्.........

    ReplyDelete
  34. "बेहतर होगा
    पहनना काले कपडे
    नेताओं को,
    छुपे रहेंगे दाग
    उसमें आसानी से."

    क्या बात है !

    ReplyDelete
  35. Sabhee muktak achche. par ye wala Janjan kee awaj hai Anna ekdam samayik hai.

    ReplyDelete
  36. जहां देखो वहीं है अन्ना
    जनता काफी जागरूक हो गई है इस बार तो

    ReplyDelete
  37. अन्ना जन-जन की आवाज हैं।
    उन्होने आधा युद्ध जीत लिया है।
    शुभकामनाएं।

    ReplyDelete