Tuesday, August 30, 2011

आसमान की चाहत

आसमान छूने की चाहत में
कितने दूर हो जाते हैं 
हम ज़मीन से.

रिश्तों की दीवारें
ढह जाती हैं
स्वार्थों की चोट से,
चढ़ जाती है 
स्नेह पर
गुरुत्व की परत,
चलते हैं
गढा कर नज़रें
आसमां पर
और कुचलते 
स्वप्न और अरमान 
अपनों के,
पैरों तले.

लेकिन पाते हैं एक दिन 
अपने आप को अकेला
दूर क्षितिज पर,
तरसते 
एक कोमल नन्हे हाथ को
जो पोंछ दे आंसू
अकेलेपन के.

51 comments:

  1. भावमय करती अभिव्‍यक्ति |चाहत अपना रंग दिखाती ही है |बहुत सुंदर |

    ReplyDelete
  2. एक कोमल नन्हे हाथ को
    जो पोंछ दे आंसू
    अकेलेपन के.

    भावमय करते शब्‍दों के साथ बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  3. आसमान छूने की चाहत में
    कितने दूर हो जाते हैं
    हम ज़मीन से.
    बहुत ही सुन्दर ....

    ReplyDelete
  4. दृष्टि सदा ही क्षितिज पर रहती है।

    ReplyDelete
  5. सुन्दर-प्रस्तुति |
    बधाई ||

    ReplyDelete
  6. सुन्दर और बेहतरीन कविता!!

    ReplyDelete
  7. अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से 1 ब्लॉग सबका

    ReplyDelete
  8. लेकिन पाते हैं एक दिन
    अपने आप को अकेला
    दूर क्षितिज पर,
    तरसते
    एक कोमल नन्हे हाथ को
    जो पोंछ दे आंसू
    अकेलेपन के.

    आज के मानव की त्रासदी को दर्शाती सुंदर भावपूर्ण कविता... आने वाले त्योहारों की बधाई स्वीकारें!

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर कविता है..........शानदार|

    ReplyDelete
  10. भावुक करती सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  11. सब कुछ कह दिया आपने कितनी सहजता और खूबसूरती से...

    ReplyDelete
  12. तरसते
    एक कोमल नन्हे हाथ को
    जो पोंछ दे आंसू
    अकेलेपन के.
    बेमिसाल पंक्तियाँ ......... सुंदर

    ReplyDelete
  13. गढा कर नज़रें
    आसमां पर
    और कुचलते
    स्वप्न और अरमान
    अपनों के,
    पैरों तले....

    सचमुच! सर ऐसे आसमान कहाँ मिलेगी भला...
    सुन्दर कविता... सादर बधाई...

    ReplyDelete
  14. बहुत सही लिखा है।

    ReplyDelete
  15. वाह...बेजोड़ रचना...बधाई

    ReplyDelete
  16. कितनी गहरी मगर सटीक बात कही है……………शानदार्।

    ReplyDelete
  17. आसमान छूने की चाहत में
    कितने दूर हो जाते हैं
    हम ज़मीन से.
    गहरी बात ....

    ReplyDelete
  18. ना जाने हम इस बात को समय रहते क्यूँ नहीं समझ पाते ?

    ReplyDelete
  19. तरसते
    एक कोमल नन्हे हाथ को
    जो पोंछ दे आंसू
    अकेलेपन के


    बहुत सुन्दर भावयुक्त रचना !

    ReplyDelete
  20. रिश्तों की दीवारें
    ढह जाती हैं
    स्वार्थों की चोट से,
    चढ़ जाती है
    स्नेह पर
    गुरुत्व की परत,
    चलते हैं
    सौदाई रिश्ते कभी सगे नहीं होते , जब भी होते हैं ,छल ही करते हैं , थोड़े समय की शीतलता पुरे उम्र की दावानल बनती है ......../ मौलिक अहसास ,

    ReplyDelete
  21. रिश्तों की दीवारें
    ढह जाती हैं
    स्वार्थों की चोट से,
    चढ़ जाती है
    स्नेह पर
    yatharth ko bataati hui saarthak prastuti/dil ko choo gai.badhaai aapko/


    please visit my blog
    www.prernaargal.blogspot.com

    ReplyDelete
  22. इस कविता के भाव मन को छू गए।

    ReplyDelete
  23. एक कोमल नन्हे हाथ को
    जो पोंछ दे आंसू
    अकेलेपन के.

    बेहतरीन अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete
  24. यथार्थ दर्शाती रचना.....बहुत बढ़िया..

    ReplyDelete
  25. बेहतर प्रसतुति. भावनाओ का खूबसूरत संगम

    ReplyDelete
  26. यथार्थ को दर्शाती सुन्दर प्रस्तुति.....
    बधाई ||

    ReplyDelete
  27. लेकिन पाते हैं एक दिन
    अपने आप को अकेला
    दूर क्षितिज पर,

    बहुत खूब

    ReplyDelete
  28. दुर्भाग्य से सत्य ऐसा ही है। सजीव चित्रण।

    ReplyDelete
  29. बहुत सुंदर प्रस्तुति,


    एक चीज और, मुझे कुछ धर्मिक किताबें यूनीकोड में चाहिये, क्या कोई वेबसाइट आप बता पायेंगें,
    आभार- विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  30. sach mein hum are hath se waqt phisal jata hai muthi mein ret ki terh...........

    ReplyDelete
  31. आसमान छूने की चाहत में
    कितने दूर हो जाते हैं
    हम ज़मीन से.

    सही कहा है लेकिन यह नहीं भूलना चाहिए की हम चाहे कितनी भी ऊँची उड़ान भर लें आखिर आना तो धरती पर ही है न ...गहरे भाव सशक्त अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  32. जैसे ही आसमान पे देखा हिलाले-ईद.
    दुनिया ख़ुशी से झूम उठी है,मनाले ईद.
    ईद मुबारक

    ReplyDelete
  33. very very emotional and powerfully expressed..
    can only say WOW !!

    ReplyDelete
  34. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  35. मार्मिक भावों की प्रभावी अभिव्यक्ति .......

    ReplyDelete
  36. उम्दा प्रस्तुती!

    ईद मुबारक आप एवं आपके परिवार को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ.एक ब्लॉग सबका

    ईद पर विशेष अनमोल वचन

    ReplyDelete
  37. सुन्दर प्रस्तुति...ईद मुबारक़

    ReplyDelete
  38. काश ये हमें तब याद रहता जब ऊंचाई छूने का जुनून सवार होता है...सुंदर रचना ।

    ReplyDelete
  39. जीवन-पथ के चौराहे पर यह अकेलापन और नन्हें हाथों से सहयोग व स्नेह की अपेक्षा , शायद यही जीवन का सच्चा मर्म है.अद्वितीय उद्गार.

    ReplyDelete
  40. aap jo khna chah rhe the use bkhoobi kh dala hai bina kisi lag lpet ke .bhut hi srl shbdo ko madhyam bnaya hai jisse bhav khoob ubhr kr pathko ke samne prstut huye hai .
    bdhai .

    ReplyDelete
  41. prabhavshali abhivykti ......

    yaha bhi aayen..
    http://rajninayyarmalhotra.blogspot.com/2011/09/blog-post.html#links

    ReplyDelete
  42. ये आज का सच है पर बहुत कष्टदायक भी .........

    ReplyDelete
  43. आपकी पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली(७) के मंच पर प्रस्तुत की गई है/आपका मंच पर स्वागत है ,आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये /आप हिंदी की सेवा इसी तरह करते रहें ,यही कामना है / आप हिंदी ब्लोगर्स मीट वीकलीके मंच पर सादर आमंत्रित हैं /आभार/

    ReplyDelete
  44. bahut hi umda behtreen prastuti.sorry der se padhi.

    ReplyDelete
  45. सच है ऐसे क्षितिज का क्या फायदा जो दूर कर दे अपनी ज़मीन से ...

    ReplyDelete
  46. बिल्कुल सही लिखा है
    वास्तव में आसमान छूने की
    चाहत मैं हम अपनों से दूर हो जाते
    हैं।मेरे ब्लाँग पर आने के लिये आभारी हूँ।

    ReplyDelete