Thursday, October 04, 2012

श्रीमद्भगवद्गीता-भाव पद्यानुवाद (३५वीं कड़ी)


            नौवां अध्याय 
(राजविद्याराजगुह्य-योग-९.१-१०

श्री भगवान 

अर्जुन ईर्ष्या रहित तुम्हें मैं 
विज्ञान युक्त ज्ञान बतलाता.
जान परम गुप्त रहस्य को
मुक्त शीघ्र अशुभ से हो जाता.  (९.१)

ज्ञान ये विद्याओं का राजा,
यह रहस्य अनुभव से आता.
परम पवित्र, धर्ममय है यह,
अविनाशी व सुख का दाता.  (९.२)

जिनकी नहीं इस धर्म में श्रद्धा
वह जन मुझे नहीं है पाता.
जन्म मरण में भ्रमण है करने 
बारबार  इस जग में आता.  (९.३)

मेरा ही अव्यक्त स्वरूप है
सर्व जगत व्याप्त है रहता.
सब प्राणी मुझमें स्थित हैं 
पर मैं उनमें नहीं हूँ रहता.  (९.४)

मेरे दिव्य रहस्य को देखो
ये प्राणी न स्थित मुझमें.
मैं ही जनक और पालक हूँ,
नहीं हूँ पर स्थित मैं उनमें.  (९.५)

जैसे वायु गगन में रहकर
भी महान और सर्वगामी है.
वैसे ही समझो तुम अर्जुन
मुझमें स्थित सब प्राणी हैं.  (९.६)

सब प्राणी हैं प्रलय काल में
लीन मेरी ही प्रकृति में होते.
सृष्टि आदिकाल में अर्जुन 
मेरे द्वारा ही सृजन हैं होते.  (९.७)

अपनी प्रकृति को स्थिर करके
प्रलय काल विलीन हैं जन को.
रचता बार बार भिन्न रूपों में 
कर्म आदि से परवश जन को.  (९.८)

सृष्टि आदि का कर्म मुझे है
नहीं कर्म बंधन में डालता.
इन कर्मों में अनासक्त मैं
उदासीन सा स्थित रहता.  (९.९)

मेरे निर्देशन में हे अर्जुन!
प्रकृति सृजन में रत रहता.
सर्व चराचर जगत का ऐसे
संसार चक्र घूमता रहता.  (९.१०)

              .....क्रमशः

कैलाश शर्मा 

24 comments:

  1. जैसे वायु गगन में रहकर
    भी महान और सर्वगामी है.
    वैसे ही समझो तुम अर्जुन
    मुझमें स्थित सब प्राणी हैं.
    बेहद सशक्‍त लेखन आपका ...
    आभार इस प्रस्‍तुति के लिए

    ReplyDelete
    Replies
    1. namaskaar kailash ji ............bauut sundar sarthak post , hamesha hi acchi lagi iski kadiyan

      Delete
  2. जैसे वायु गगन में रहकर
    भी महान और सर्वगामी है.
    वैसे ही समझो तुम अर्जुन
    मुझमें स्थित सब प्राणी हैं.

    बहुत सुन्दर सृजन हो रहा है

    ReplyDelete
  3. होय पेट में रेचना, चना काबुली खाय ।

    उत्तम रचना देख के, चर्चा मंच चुराय ।

    ReplyDelete
  4. सृष्टि आदि का कर्म मुझे है
    नहीं कर्म बंधन में डालता.
    इन कर्मों में अनासक्त मैं
    उदासीन सा स्थित रहता.

    बहुत सुंदर ज्ञान..आभार !

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आप सार्थक स्रजन कर रहे हैं!

    ReplyDelete
  6. Beechh kee chand kadiyan nahee padh payee hun....sehat theek hote hee padhungee.

    ReplyDelete
  7. सुन्दर अनुवाद |आभार सर

    ReplyDelete
  8. सार्थक सृजन... बहुत सुन्दर प्रस्तुति! आभार

    ReplyDelete
  9. मैं निर्लिप्त..बहुत सुन्दर भावानुवाद।

    ReplyDelete
  10. मेरा ही अव्यक्त स्वरूप है
    सर्व जगत व्याप्त है रहता.
    सब प्राणी मुझमें स्थित हैं
    पर मैं उनमें नहीं हूँ रहता. (९.४)

    क्या कहने हैं इस गीता सार तत्व लिए अनुवाद का .

    ReplyDelete
  11. सृष्टि आदि का कर्म मुझे है
    नहीं कर्म बंधन में डालता.
    इन कर्मों में अनासक्त मैं
    उदासीन सा स्थित रहता.

    सुंदर भावानुवाद...........

    ReplyDelete
  12. आनन्द दायी भावानुवाद !

    ReplyDelete
  13. ज्ञान की बात गीत में हो तो सामान्य बुद्धि के भी ह्रदय के अंतरस्थल तक पहुँचती है !
    आभार !

    ReplyDelete
  14. सुन्दर अनुवाद ..........

    सब प्राणी हैं प्रलय काल में
    लीन मेरी ही प्रकृति में होते.
    सृष्टि आदिकाल में अर्जुन
    मेरे द्वारा ही सृजन हैं होते.

    ReplyDelete
  15. बहुत अच्छा लेखन और शब्द चयन |
    आशा

    ReplyDelete
  16. सार्थक सुन्दर अनुवाद,,,,,,

    RECECNT POST: हम देख न सके,,,

    ReplyDelete
  17. उत्कृष्ट प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  18. Kailash ji..In simple magical words you have written it beautifully...Long live..GOD LOVE U

    ReplyDelete
  19. आपकी लेखनी में जादू है कैलाश जी.
    अति सरलतम शब्दों में आपने गुह्यतम ज्ञान
    की अनुपम काव्यात्मक प्रस्तुति की है.
    हार्दिक आभार जी.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईएगा.

    ReplyDelete
  20. ब्रेस्ट कैंसर के प्रति जागरूकता और चेतना जगाने के लिए.

    ReplyDelete
  21. इसे पुस्तक रूप में लाइए भाई जी !
    शुभकामनाएं आपको !

    ReplyDelete