Tuesday, July 30, 2013

हाइकु

 (१)
अंतिम यात्रा
कितनी आँखें नम
है उपलब्धि.

 (२)
धन दौलत
क्यों इतना गरूर 
सब नश्वर.

 (३)
खाली थे हाथ
खाली ही ये जायेंगे
क्यों है घमंड.

 (४)
सुव्यवहार
प्रेम और नम्रता
हारा गरूर.

 (५)
कैसा गरूर         
किस पर गरूर
क्या है तुम्हारा ?

 (६)
यात्रा हो कोई
सत्कर्म देंगे साथ
मंजिल तक.

 (७)
आये शून्य से           
भूले अंतराल में
जाना शून्य में.

 (८)
जियो आज़ में          
मत बिगाड़ो कल
डूब कल में.

 (९)
दिखाता सत्य                 
अंतस का आईना
मानें या नहीं.

 (१०)
आस्था की नाव       
तूफ़ान गए हार
सागर पार.

.....कैलाश शर्मा 

43 comments:

  1. सभी हाइकु सार्थक और सुन्दर हैं...

    ReplyDelete
  2. सच और सटीक पोस्ट
    सादर

    ReplyDelete
  3. उम्दा पंक्तियाँ .बहुत सटीक और सामयिक ।

    ReplyDelete
  4. जीवन को पहचाना वो,
    आना जाना खाली हो।

    ReplyDelete
  5. सत्य शब्दशः अवतरित हुआ है हाइकु रचनाओं में!

    ReplyDelete
  6. बहुत ही प्रभावशाली हाइकू.

    रामराम.

    ReplyDelete
  7. सत्य का दर्पण दिखते बहुत ही बढ़िया हाइकु...

    ReplyDelete
  8. waah sabhi zindagi ke bahut kareeb bahut sundar lage sabhi

    ReplyDelete
  9. बहुत ही बढ़िया अंकल।

    सादर

    ReplyDelete
  10. वास्तविकता है सभी हाइकु में
    बहुत ही लाजवाब...
    :-)

    ReplyDelete
  11. बहोत खुब......्सभी हाइकु सुन्दर है....एक से बढकर एक.....

    ReplyDelete
  12. जीवन दर्शन से भरी सुन्दर हाईकू !
    साभार !

    ReplyDelete
  13. बहुत खूब, एक से बढ़कर एक सुंदर हाइकू अभिव्यक्ति,,,

    RECENT POST: तेरी याद आ गई ...

    ReplyDelete
  14. बहुत सार्थक हायकू ,
    वर्तमान हैं शक्तिमान ,सुंदर संदेश ,उत्तम भाव
    एक शाम संगम पर {नीति कथा -डॉ अजय }

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर हाइकू



    यहाँ भी पधारे

    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_29.html

    ReplyDelete
  16. जीवन दर्शन कराता हाइकु ....

    ReplyDelete
  17. जीवन के इस पहलू से सब परिचित हैं , मगर मानते नहीं !

    ReplyDelete
  18. सब सामने ,
    प्रत्यक्ष घटते हुए
    हाय मोह-बुद्धि!

    ReplyDelete
  19. jeevan ka sach keh diya hiku kay dwara......jante sab hain par pata nahi aisa vyvhar nahi kar pate

    ReplyDelete
  20. हाइकु में छिपा संदेश .... सटीक और सार्थक

    ReplyDelete
  21. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  22. सत्य समेटे
    गागर में सागर
    आपके हाइकू !

    ReplyDelete
  23. सुन्दर,हृय्स्पर्शी भाव लिए हायकू.....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  24. Is jeevan dhara ki sachchai .........

    ReplyDelete
  25. जीवन दर्शन ... सार्थक भाव लिए लाजवाब हाइकू हैं सभी ...

    ReplyDelete
  26. शून्‍य से शून्‍य के सफर में आस्‍था की नाव बहुत जरुरी है।.....बहुत ही विचारणीय बातें कहीं आपने।

    ReplyDelete
  27. बहुत असरदार हाइकू

    ReplyDelete
  28. हर एक शब्द जीवन की सच्चाई कह रहा है… सुन्दर सारगर्भित हायकू

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर….पहले वाला सबसे बढ़िया |

    ReplyDelete
  30. वाह बहुत बढिया हाइकु

    ReplyDelete
  31. आस्‍था की नाव ... सभी हाइकू जबरदस्‍त

    ReplyDelete
  32. आपके ब्लॉग को "ब्लॉग - चिठ्ठा" में शामिल कर लिया गया है। सादर …. आभार।।

    ReplyDelete
  33. बेहद शानदार हाइकू कैलाश जी आभार।

    ReplyDelete
  34. जीवन का यथार्थ बताते हैं ये हायकू , बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  35. beautiful..
    real meaning of life is totally different from what we know

    ReplyDelete
  36. सुन्दर हाइकु सन्देश परक। जीवन की नश्वरता की ओर इशारा करते हुए।

    ReplyDelete