Tuesday, December 16, 2014

जीवन नौका

मत बांधो जीवन नौका
किसी किनारे सागर के   
रिश्तों की ड़ोर से,
आती जाती हर लहर
टकरायेगी नौका को
बार बार किनारे से,
और लौट जायेगी
देकर एक नयी चोट  
करके तन क्षत-विक्षत.

छोड़ दो नौका लहरों के सहारे,
शायद न मिले मंज़िल
पर होगा बेहतर डूब जाना
चोट लगने से अंतस को
पल पल बंधकर मज़बूर ड़ोर से.


...कैलाश शर्मा

27 comments:

  1. पर होगा बेहतर डूब जाना
    चोट लगने से अंतस को…
    बेहद गहन भाव … आभार

    ReplyDelete
  2. शायद किनारा मिल भी जाए ...
    जो भी हो नौका को तो छोड़ना ही होगा ... गहरे भाव और जीवन दर्शन के साथ लिखी रचना ...

    ReplyDelete
  3. बहुत भावपूर्ण रचना ...बधाई

    ReplyDelete
  4. बेहद गहन भाव लिए सुंदर और सशक्‍त अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  5. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (17-12-2014) को तालिबान चच्चा करे, क्योंकि उन्हें हलाल ; चर्चा मंच 1829 पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर एवं भावपूर्ण रचना.
    नई पोस्ट : यादें

    ReplyDelete
  7. सच ,डूब जाने पर चोट लगने का तो डर तो नहीं अहेगा ...भावपूर्ण प्रस्तुति !
    नारी !

    ReplyDelete
  8. मर्मस्पर्शी रचना..

    ReplyDelete
  9. अच्छा लगा एक दूसरा नजरिया आपका. दुष्यंत कुमार की पंक्तियाँ याद आ रही हैं जिसमे वो उस बात से मुग्ध है की नाव लहरों से टकरा तो रही है-

    इस नदी की धार से ठंडी हवा आती तो है
    नाव जर्जर ही सही लहरों से टकराती तो है

    ReplyDelete
  10. Life is a strange boat. It moves forwards and backwards and that way it goes on. Lovely words.

    ReplyDelete
  11. नैया कहाँ होती है बँधी रहने के लिए !

    ReplyDelete
  12. धरातल का दुख प्रकट है इन पक्तियों में।

    ReplyDelete
  13. सही कहा है पर इस चोट के बिना दिल भी तो नहीं लगता है .

    ReplyDelete
  14. गति ही जीवन है अतः जीवन रूपी नौका को बहने देना चाहिए, भले क्षति हो या घात लगे. यही जीवन है... बहुत भावपूर्ण रचना, बधाई.

    ReplyDelete
  15. किनारे बंध कर क्या होगा लहरों के संग बहना ही जीवन है। सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  16. आदरणीय कैलाश जी,
    कविता में निहित भावों के दृष्टिकोण से स्वभाव का अनुमान भी लगता है।
    सभी जानते हैं : नदी का बहता जल और साधु दोनों किनारों की मर्यादा में रहते तो हैं परन्तु कहीं रुकते नहीं।
    यहाँ आपकी भाव रूपी 'नाव' अज्ञात किनारों वाले असीम सागर में खो जाना चाहती है या डूब जाना चाहती है।
    यह या तो कोई अध्यात्म का भाव है या फिर उन्माद का।

    ReplyDelete
  17. छोड़ दो नौका लहरों के सहारे,
    शायद न मिले मंज़िल
    पर होगा बेहतर डूब जाना
    चोट लगने से अंतस को
    पल पल बंधकर मज़बूर ड़ोर से.

    प्रभावी पंक्तियां।

    ReplyDelete
  18. मत बांधो जीवन नौका
    किसी किनारे सागर के
    रिश्तों की ड़ोर से,
    ..................

    जि़ंदगी की तुलना नौका से,
    एकदम सटीक तुलना !

    ReplyDelete
  19. गंभीर जीवन दर्शन। नौका ही तो है हमारा जीवन, कब किधर बाह जाए क्या पता।

    ReplyDelete
  20. Wishing you a very happy & Prosperous New Year.. Thanks for all the support! Keep writing! Keep lighting!… BEST PRAYERS FOR FUTURE!!

    ReplyDelete
  21. जीवन नौका...
    बड़ी सार्थक और मर्मस्पर्शी प्रस्तुति.

    अनिल साहू

    ReplyDelete
  22. " बॉधो न नाव इस ठॉव बन्धु
    पूछेगा सारा गॉव बन्धु ।
    यह घाट वही जिसमें हँसकर
    वह कभी नहाती थी धँसकर ।
    ऑखें रह जाती थीं फँसकर
    कंपते थे दोनों पॉव बन्धु ।"
    निराला

    ReplyDelete