Tuesday, April 17, 2012

कहाँ खो गयी संतुष्टि ?

कहाँ खो गयी संतुष्टि,
कहाँ गये वे दिन 
जब होती थी एक रोटी
बाँट लेते एक एक टुकड़ा
और नहीं सोता कोई भूखा.


लेकिन आज 
भूख रोटी की गयी है मर,
लगी है अंधी दौड़ 
दौलत के पीछे
कुचलते सब रिश्तों को
अपने पैरों तले.


ईमानदारी बन कर रह गयी बेमानी
और छुपाती मुंह शर्मिन्दगी से,
भ्रष्टाचार और काला धन 
बन कर रह गए सिर्फ़ एक मुद्दा
बहस और अनशन का.


यह तो हाल है 
जबकि पता है 
क़फ़न में ज़ेब नहीं होती
और मुट्ठी भी खाली होती
अंतिम सफ़र में.


क्या होता हाल 
इन्सान के लालच का
अगर ऊपर भी खुल जाती
कोई शाखा स्विस बैंक की
जहां भेज सकते पैसा
मरने से पहले.


कैलाश शर्मा 

61 comments:

  1. लालसा के ढेर तले कहीं दब गया है संतोष..........

    बहुत बढ़िया रचना

    सादर

    ReplyDelete
  2. सामयिक रचना, आज के हालात का बहुत सटीक चित्रण. बहुत बढ़िया व्यंग है...

    क्या होता हाल
    इन्सान के लालच का
    अगर ऊपर भी खुल जाती
    कोई शाखा स्विस बैंक की
    जहां भेज सकते पैसा
    मरने से पहले.

    आभार,

    ReplyDelete
  3. क्या होता हाल
    इन्सान के लालच का
    अगर ऊपर भी खुल जाती
    कोई शाखा स्विस बैंक की
    जहां भेज सकते पैसा
    मरने से पहले.

    कैलाश जी तब तो खुदा भी तौबा कर लेता …………लालचियों के पेट कभी कहीं नही भरते ………एक बेहद सशक्त रचना।

    ReplyDelete
  4. waah bahut khub sir

    ReplyDelete
  5. इस भाग दौड़ में बस रही एक बात सब भूल जाते हैं की जेब खाली होती है जब इंसान जाता है .. भाव पूर्ण रचना ...

    ReplyDelete
  6. क़फ़न में ज़ेब नहीं होती
    और मुट्ठी भी खाली होती
    तब इतना अफरातफरी है ,अगर जो होती .... ?
    बेहद सार्थक रचना .... !!

    ReplyDelete
  7. आज की स्थिति का सटीक चित्रण !

    ReplyDelete
  8. अब तो वह संतुष्टि अहम् के मलबे में है

    ReplyDelete
  9. क्या होता हाल
    इन्सान के लालच का
    अगर ऊपर भी खुल जाती
    कोई शाखा स्विस बैंक की
    जहां भेज सकते पैसा
    मरने से पहले.
    बहुत ही बढिया ...

    ReplyDelete
  10. चरफर चर्चा चल रही, मचता मंच धमाल |
    बढ़िया प्रस्तुति आपकी, करती यहाँ कमाल ||

    बुधवारीय चर्चा-मंच
    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  11. अगर ऊपर भी खुल जाती
    कोई शाखा स्विस बैंक की
    जहां भेज सकते पैसा....bahut bda bat kah di par ??kaun samajhta hai.....

    ReplyDelete
  12. Sach! Santushti na jana kahan kho gayi hai!

    ReplyDelete
  13. शायद वर्तमान में भोगवाद चरम पर है....सुन्दर कृति, आभार

    ReplyDelete
  14. यह तो हाल है
    जबकि पता है
    क़फ़न में ज़ेब नहीं होती
    truth of life.

    ReplyDelete
  15. "मैं" ने आत्मा को मार दिया ...

    ReplyDelete
  16. अगर ऊपर भी खुल जाती
    कोई शाखा स्विस बैंक की
    जहां भेज सकते पैसा
    मरने से पहले.
    क्या बात है!

    ReplyDelete
  17. मेरी टिप्पणी स्पाम से निकालिए सर........

    ReplyDelete
  18. दौलत के पीछे
    कुचलते सब रिश्तों को
    अपने पैरों तले.yahi sach hai.....

    ReplyDelete
  19. kya khoob likha hai .....insaan upar sath le jaa nahi sakta verna to lalach mein daulat ka dher lekar jata

    ReplyDelete
  20. देर से आने के लिए क्षमा चाहता हूँ .... सुन्दर प्रस्तुति, आपकी तो हर कविता की बात ही निराली हैं!
    जीवन के कटु सत्य को उजागर करती कविता...किसी ने सही कहा है संतोषम परम सुखं

    ReplyDelete
  21. लालच .. लालच और लालच और कुछ नहीं

    ReplyDelete
  22. कहाँ खो गयी संतुष्टी,
    कहाँ गये वे दिन
    जब होती थी एक रोटी
    बाँट लेते एक एक टुकड़ा
    और नहीं सोता कोई भूखा.
    सर बहुत ही अच्छी कविता

    ReplyDelete
  23. बहुत बढ़िया प्रस्तुति,कटु सत्य उजागर करती सुंदर अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,
    कैलाश जी,...बधाई

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

    ReplyDelete
  24. लालसा और संतुष्टी का तालमेल जरा मुश्किल है.

    सुंदर संवेदनशील प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  25. बहुत बढ़िया प्रस्तुति......

    ReplyDelete
  26. ईमानदारी बन कर रह गयी बेमानी
    और छुपाती मुंह शर्मिन्दगी से,
    भ्रष्टाचार और काला धन
    बन कर रह गए सिर्फ़ एक मुद्दा
    बहस और अनशन का
    स्विस बैंकियों पर करारा व्यंग्य .
    यह तो हाल है
    जबकि पता है
    क़फ़न में ज़ेब नहीं होती

    ReplyDelete
  27. मरने के बाद इंसान कहाँ जाता है यह पता होता तो बैंक ज़रूर खुलवा दिया जाता ... बहुत गहन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  28. विचारणीय बात..... अगर ऐसा होता तो न जाने क्या होता ..............

    ReplyDelete
  29. सोचने वाली बात है.....क्यूंकि जब आवे संतोष धन सब धन धूरि समान .

    ReplyDelete
  30. हाल बड़ा बेहाल रे साधो..

    ReplyDelete
  31. मरने के बाद की चिंता के उपदेश केवल उन के लिए है जो इस दुनिया में बदहाल रहे।
    जो उन के बल मौज करते हैं वे उपदेशकों पर मेहरबान हैं।

    ReplyDelete
  32. यह तो हाल है
    जबकि पता है
    क़फ़न में ज़ेब नहीं होती
    और मुट्ठी भी खाली होती
    अंतिम सफ़र में.
    कितना कड़वा सच...मानव के लोभ की कोई सीमा नहीं रह गयी है आज..या उसकी मूर्खता की..

    ReplyDelete
  33. आज संतुष्टि कहाँ रह गई है, और-और-और की चाह में लोग इंसानियत तक भूल चुके हैं... वर्तमान परिस्थितियों का सटीक वर्णन करती रचना... आभार

    ReplyDelete
  34. एक बेहद सशक्त और भावपूर्ण रचना .......

    ReplyDelete
  35. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  36. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  37. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  38. यथार्थ का आईना दिखती बहुत ही सार्थक एवं सटीक रचना....समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है बहुत दिनों से मेरी पोस्ट पर आपका आगमन नहीं हुआ है सर .... :)

    ReplyDelete
  39. ऊपर भी खुल जाती
    कोई शाखा स्विस बैंक की
    जहां भेज सकते पैसा
    मरने से पहले.

    सचमुच तब क्या होता...वहाँ भी ए टी एम के पास भीड़ लगी रहती...:)

    ReplyDelete
  40. कहाँ खो गयी संतुष्टी,
    कहाँ गये वे दिन
    जब होती थी एक रोटी
    बाँट लेते एक एक टुकड़ा
    और नहीं सोता कोई भूखा.

    ...........kailash ji bahut sunder prastuti saho kaha aapne kahan gaye wo din .....hardik badhai

    ReplyDelete
  41. Bahutu satik aur sundar prastuti.....

    ReplyDelete
  42. YEH SAB KUCH HO BHI JATA TO KYA, WAHAN UPPER YAHAN KI CURRENCY NAHI CHALTI,BESHAK SWISS BANK HOTA, KAFAN MEIN ZEB BHI BANWA LETE ,PAR SANTUSTI PHIR BHI NAHIN HOTI KI IS LALACH KE YUG MEIN PEECHE SE LOG ZEB MEIN CURRENCY YA DRAFT RAKHENGE BHI YA NAHIN.
    KAILASHJI BAHUT HI SUNDAR KATAKSH KE LIYE BADHAIE

    ReplyDelete
  43. लेकिन आज
    भूख रोटी की गयी है मर,
    लगी है अंधी दौड़
    दौलत के पीछे
    कुचलते सब रिश्तों को
    अपने पैरों तले.

    सच बयां करती रचना

    ReplyDelete
  44. इतनी सुन्दर कविता के लिए बधाई...

    ReplyDelete
  45. बाऊ जी,
    राम राम....
    गुड कुएस्चन!
    आशीष
    --
    द नेम इज़ शंख, ढ़पोरशंख !!!

    ReplyDelete
  46. क्या होता हाल
    इन्सान के लालच का
    अगर ऊपर भी खुल जाती
    कोई शाखा स्विस बैंक की
    जहां भेज सकते पैसा
    मरने से पहले................................
    सोचा नही जाता ।

    ReplyDelete
  47. अब कोई बिरले ही धन के अभाव में मरता है। मगर अंतिम क्षणों में हर आदमी की आंख में आंसू होते हैं। कारण,युगों-युगों से व्यक्त अनुभव को दरकिनार कर,उसने भी वही किया जो बाक़ी करते आए थे। औसत आदमी की यही नियती है।

    ReplyDelete
  48. antim panktiyon mein aapne gadar macha diya

    ReplyDelete
  49. रोटी छोड़ चंद्र को धाये
    रोटी पाये न चंदा पाये.

    ReplyDelete
  50. katu saty vaya karati sundar rachana.

    ReplyDelete
  51. SHURUAAT HI LAJABAB DHANG SE KR DI APNE....PORI KAVITA GAHAN CHINTAN KE LIYE VIVASH KARTI HUI ...BADHAI SWEEKARE KAILASH JI

    ReplyDelete
  52. यह तो हाल है
    जबकि पता है
    क़फ़न में ज़ेब नहीं होती
    और मुट्ठी भी खाली होती
    अंतिम सफ़र में.



    सच को सच्चाई से प्रस्तुत किया हे आपने।

    ReplyDelete
  53. तृष्णा का कोई हल नहीं... बढ़िया कविता...

    ReplyDelete
  54. क्या होता हाल
    इन्सान के लालच का
    अगर ऊपर भी खुल जाती
    कोई शाखा स्विस बैंक की
    जहां भेज सकते पैसा
    मरने से पहले.

    आज का कड़वा सच ....इंसान का लालच कभी खत्म नहीं होगा ...अहंकार दिनोदिन और बढ़ रहा हैं .....

    ReplyDelete
  55. दौलत के पीछे
    कुचलते सब रिश्तों को
    अपने पैरों तले......बहुत सही कहा आपने

    ReplyDelete