Saturday, February 18, 2012

टूटी अलगनी

घर की अलगनी के दो छोर 
जोड़े रहे दो दीवारों की दूरी,
दूर हो कर भी बने रहे
एक ही सूत्र के दो छोर.


जिसने जो चाहा टांग दिया,
ढ़ोते रहे सारे घर का बोझ
दो छोरों के बीच
और नहीं की शिकायत 
कभी किसी से.


जीवन के आख़िरी पहर में
बंट गयीं दीवारें 
अपनों के बीच,
टूटी अलगनी के दो छोर 
ताकते हैं एक दूसरे को
नम आँखों से.


क्या दीवारें समझ पाती हैं 
टूटी अलगनी के 
दो छोरों का दर्द ?


कैलाश शर्मा 

46 comments:

  1. बहुत ही अच्छे प्रतीक का प्रयोग किया सार्थक रचना

    ReplyDelete
  2. संबंधों की प्रखर व्याख्या

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर.....कुछ अलग सा ।

    ReplyDelete
  4. अद्भुत बिम्ब.बहुत सुन्दर ख्याल.

    ReplyDelete
  5. jeevan kaa dard ,
    bahut badhiyaa tareeke se vyakt kiyaa hai aapne
    alagnee kaa kaam sirf khaamoshee se bojh dhonaa bhar hai

    ReplyDelete
  6. क्या दीवारें समझ पाती हैं
    टूटी अलगनी के
    दो छोरों का दर्द ?
    बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  7. जिसने जो चाहा टांग दिया,
    ढ़ोते रहे सारे घर का बोझ
    दो छोरों के बीच
    और नहीं की शिकायत
    कभी किसी से

    गूढ़ बात कही !

    ReplyDelete
  8. प्रभावित करती रचना ...

    ReplyDelete
  9. ज़िन्दगी की कहानी कहती रचना...सुंदर प्रस्तुति|

    ReplyDelete
  10. गहन रचना...कौन जाने समझ पाती हैं कि नहीं वो दीवारें..

    ReplyDelete
  11. zindgi ka satya batati rachna........

    ReplyDelete
  12. बिम्ब का अद्भुत प्रयोग। इस दर्द के दर्द को सही ढंग से अभिव्यक्त करता है।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    कल शाम से नेट की समस्या से जूझ रहा था। इसलिए कहीं कमेंट करने भी नहीं जा सका। अब नेट चला है तो आपके ब्लॉग पर पहुँचा हूँ!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  14. कारुणिक!
    कटु यथार्थ का चित्रण और एक व्यथित करने वाले प्रश्न पर समाप्त होती कविता जहां से अपने ही भीतर झाँकने का दौर शुरू होता है....

    ReplyDelete
  15. a post with intense feel...
    beautiful sir..

    ReplyDelete
  16. वाह!!!!!कैलाश जी कटु यथार्थ की भावपूर्ण बहुत अच्छी अभिव्यक्ति,सुंदर रचना

    MY NEW POST ...सम्बोधन...

    ReplyDelete
  17. क्या दीवारें समझ पाती हैं
    टूटी अलगनी के
    दो छोरों का दर्द ?... दीवारें ही समझती हैं , अलग अलग छोर पर खड़े लोग नहीं

    ReplyDelete
  18. पता नहीं दर्द दीवारों को है कि अलगनी के टूटे हुए छोरों को ........ गहन अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  19. अलगनी के माध्यम से बहुत कुछ कह दिया है आपने |बढ़िया प्रस्तुति |
    आशा

    ReplyDelete
  20. क्या दीवारें समझ पाती हैं
    टूटी अलगनी के
    दो छोरों का दर्द ?

    Gahari Abhivykti....

    ReplyDelete
  21. जीवन के आख़िरी पहर में
    बंट गयीं दीवारें
    अपनों के बीच,
    टूटी अलगनी के दो छोर
    ताकते हैं एक दूसरे को
    नम आँखों से.

    कैलाश जी सही भाव इस कविता में हैं और यह बहुत आश्चर्यजनक भी है कि इतने साल साथ चलते हुए भी मजबूर हो जाते है अलग होने के लिये.

    सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर..
    बटवारे का दर्द असहनीय होता है...
    गहन प्रस्तुति...

    सादर.

    ReplyDelete
  23. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  24. कितनी सहजता से सत्य को कह देते हैं आप.. आपकी संवेदनशीलता को नमन..

    ReplyDelete
  25. संवेदनशील रचना
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  26. अद्भुत बिम्बों के सहारे अंतर्स्पर्शी रचना...
    सादर बधाई सर.

    ReplyDelete
  27. क्या दीवारें समझ पाती हैं
    टूटी अलगनी के
    दो छोरों का दर्द ?

    bhai wah kya khoob likha hai apne ...sadar badhai .

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर भाव लिए प्रतिबिम्बों से सजी रचना

    ReplyDelete
  29. जटिल प्रतीकों के प्रयोग के बावजूद कविता का कथ्य स्पष्ट रूप से दृश्यमान है।

    ReplyDelete
  30. आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (३१) में शामिल की गई है/आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आप इसी तरह लगन और मेहनत से हिंदी भाषा की सेवा करते रहें यही कामना है /आभार /

    ReplyDelete
  31. दीवारों को जोड़ने का काम करती अलगनी .... सुंदर बिम्ब और मन के दर्द को उभारती सुंदर रचना

    ReplyDelete
  32. गहन और गूढ़ अनुभूति लिए सुन्दर प्रस्तुति.. आप को शिव रात्रि पर हार्दिक बधाई..

    ReplyDelete
  33. अच्‍छी रचना।

    ReplyDelete
  34. क्या दीवारें समझ पाती हैं
    टूटी अलगनी के
    दो छोरों का दर्द ?
    बहुत मार्मिक रचना...!

    ReplyDelete
  35. क्या दीवारें समझ पाती हैं
    टूटी अलगनी के
    दो छोरों का दर्द ?...

    ऊंची दीवारों से दर्द कहाँ नज़र आता है ... मार्मिक लिखा है बहुत ही ...

    ReplyDelete
  36. महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  37. बहुत बढ़िया विषय और सुन्दर प्रतीकों के माध्यम से दर्द को व्यक्त किया आभार

    ReplyDelete
  38. गहन अभिव्यक्ति....आभार

    ReplyDelete
  39. बहुत गहरे भाव .. बेहद संजीदा लेखन

    ReplyDelete
  40. बहुत सुन्दर सृजन , बधाई.

    ReplyDelete
  41. दीवारें तो फिर भी समझ जाएँगी,लेकिन जो मानव-निर्मित दिवार है वह कब की गिर गई...कोई गुंजाईश ही नहीं बची,छोरों के मिलने की !

    ReplyDelete
  42. ek bahut hi samvedan sheel marm ko kitne achche saral shabdon me algani ke maadhyam se aapne apni rachna me kah diya....vaah laajabab

    ReplyDelete
  43. क्या बात है कैलाश जी.
    अलगनी को फिर तो मिलगनी
    कहना चाहिए,जिसपर नाजायज बोझ
    डालकर हम तोड़ देते हैं.दीवारों का भी क्या
    कसूर है.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार जी.

    ReplyDelete