Monday, June 24, 2013

ख़ुदा खैर करे

आये बड़ी उम्मीद से, ख़ुदा खैर करे,
तेरे दर मौत मिली, ख़ुदा खैर करे.

दिल दहल जाता है देख कर मंज़र,       
क्या गुज़री उन पर, ख़ुदा खैर करे.

उभर आती मुसीबत में असली सीरत,
लूटते हैं लाशों को भी, ख़ुदा खैर करे.

मुसीबतज़दा को कभी हाथ बढ़ा करते थे,  
भूखे से भी करें व्यापार, ख़ुदा खैर करे.

इंसानियत हो रही शर्मसार आज इंसां से,
दो सौ रुपये में दें पानी, ख़ुदा खैर करे.

होंगे शर्मिंदा बहुत आज तो तुम भी भगवन,
तेरे बंदे ही तुझे लूट चले, ख़ुदा खैर करे.

.....कैलाश शर्मा  

53 comments:

  1. खुदा खैर करे .... इतनी तबाही और ये मंज़र देख कर भी इंसान के मन का लालच नहीं गया

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद सुन्दर प्रस्तुति ....!
      आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल बुधवार (26-06-2013) के धरा की तड़प ..... कितना सहूँ मै .....! खुदा जाने ....!१२८८ ....! चर्चा मंच अंक-1288 पर भी होगी!
      सादर...!
      शशि पुरवार

      Delete
  2. खुदा खैर करे... :(

    ReplyDelete
  3. लालच कब जाता है

    ReplyDelete
  4. इंसानियत हो रही शर्मसार आज इंसां से,
    दो सौ रुपये में दें पानी, ख़ुदा खैर करे.
    sahi kah raeh hain aap .

    ReplyDelete
  5. इंसानियत हो रही शर्मसार आज इंसां से,
    दो सौ रुपये में दें पानी, ख़ुदा खैर करे.
    खुदा खैर करे...बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  6. उभर आती मुसीबत में असली सीरत,
    लूटते हैं लाशों को भी, ख़ुदा खैर करे
    ख़ुदा खैर करे
    ऐसों पर जरूर ख़ुदा खैर करे
    सामयिक सार्थक अभिव्यक्ति
    ख़ुदा खैर करे ..............

    ReplyDelete
  7. दुखभरी घटना, उससे भी दुखभरा सबका व्यवहार..

    ReplyDelete
  8. आपकी यह रचना कल मंगलवार (25 -06-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  9. jb khuda khuda na rha to ab kis se kahe ki khuda khair kre .....

    ReplyDelete
  10. दिल दहल जाता है देख कर मंज़र,
    क्या गुज़री उन पर, ख़ुदा खैर करे.
    ..सच जिस पर गुजरती है वही जानता है ..
    मर्मस्पर्शी प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  11. खुदा खैर करे , खुदा खैर करे

    ReplyDelete
  12. तेरे बंदे ही तुझे लूट चले, ख़ुदा खैर करे.

    बहुत बढ़िया,सुंदर प्रस्तुति,,,

    Recent post: एक हमसफर चाहिए.

    ReplyDelete
  13. या खुदा तेरी मर्जी के आगे क्या होगा !!!

    ReplyDelete
  14. होंगे शर्मिंदा बहुत आज तो तुम भी भगवन,
    तेरे बंदे ही तुझे लूट चले, ख़ुदा खैर करे.

    वाह बहुत उम्दा , हार्धिक बधाई ,

    ReplyDelete
  15. ख़ुद ख़ुदा ही लुट गया अपने राज में
    अब किस से करूँ फरयाद ..ख़ुदा खैर करे ??

    ReplyDelete
  16. वाकई हद की सीमाएं तोड़ी जा रही हैं.

    ReplyDelete
  17. उभर आती मुसीबत में असली सीरत,
    लूटते हैं लाशों को भी, ख़ुदा खैर करे.

    khuda khair kare

    ReplyDelete
  18. आपकी पोस्ट को कल के ब्लॉग बुलेटिन श्रद्धांजलि ....ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। सादर ...आभार।

    ReplyDelete
  19. नाथ ने अनाथ किया ...
    मौत से डरा दिया ....
    महल जो थे खड़े ....
    पल में गिरा दिया ....
    ......... बेहतरीन व सुन्दर रचना
    शुभ कामनायें...

    ReplyDelete
  20. सारी पोल खोल दी इस हादसे ने !

    ReplyDelete
  21. बस अब तो खुदा ही खैर करदें तो भलाई है, बहुत ही सुंदर और सटीक रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  22. ufff ye lalach....kisi ko kisi ki maut ka gum nahi...

    ReplyDelete
  23. बहुत उम्दा

    ReplyDelete
  24. दिल दहल जाता है देख कर मंज़र,
    क्या गुज़री उन पर, ख़ुदा खैर करे....

    बहुत ही दुख पूर्ण है ये हादसा ... आस्था डोलने लगती है ... पर फिर उसी का सहारा भी मिलता है ...
    सटीक और सामयिक लिखा है ...

    ReplyDelete
  25. सटीक और सामयिक,मर्मस्पर्शी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  26. वाकई में आज इंसानियत ; इन्सान के कारण ही शर्मसार हो रही है।

    ReplyDelete
  27. बहुत ही सुंदररचना.

    ReplyDelete
  28. आये बड़ी उम्मीद से, ख़ुदा खैर करे,

    ReplyDelete
  29. बहुत सामयिक एवँ प्रासंगिक रचना ! वाकई मुसीबत की घड़ी में जैसी बदसूरती और बदनीयती की मिसाल कुछ लोग दे रहे हैं वे इंसान कहलाने के भी लायक नहीं हैं ! लोगों की मानसिकता को अपनी रचना के दर्पण में बहुत खूबसूरती से प्रतिबिम्बित किया है आपने !

    ReplyDelete
  30. इंसानियत हो रही शर्मसार आज इंसां से,
    दो सौ रुपये में दें पानी, ख़ुदा खैर करे................सच कहा ऐसे लोगों पर तो सच मे ही खुदा खैर ही करें

    ReplyDelete
  31. बिलकुल सामयिक और सटीक कविता .वाकई इंसान बेशरम हो चुके हैं
    latest post जिज्ञासा ! जिज्ञासा !! जिज्ञासा !!!

    ReplyDelete
  32. आखिर ऐसा क्यूँ ?
    बस यही प्रश्न जहन में उठता है
    आखिर मानवता कहाँ चली गई ....
    मर्मस्पर्शी रचना

    ReplyDelete
  33. बहुत सशक्त तप्सरा भारत दुर्दशा का .शाश्कीय कुव्यवस्था का .

    ReplyDelete
  34. खुदा न खैर ही नहीं की ना. सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  35. Its naked truth. Govt has left people to die..A new revolution is needed to wipe out dirt from Nation.

    ReplyDelete
  36. वाकई में आज इंसानियत इन्सान के कारण ही शर्मसार हो रही है कैलाश जी सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  37. आप केदारनाथ में दो सौ रुपए में पानी की बात करते हैं यह तो मौका था जो भुना गया लुटेरों द्वारा पर सामान्‍य दिनचर्या में अपने इर्द-गिर्द घूम रहे लुटेरों को क्‍या कहेंगे आप।

    ReplyDelete
  38. वाकई खुदा खैर करे...
    मर्मस्पर्शी रचना..

    ReplyDelete
  39. ऐसों पर जरूर ख़ुदा खैर करे
    सामयिक सार्थक अभिव्यक्ति
    ख़ुदा खैर करे ..............

    ReplyDelete
  40. लूटते हैं लाशों को भी, ख़ुदा खैर करे.....एक दर्द को बखूबी दर्शाया है

    ReplyDelete
  41. दिल दहल जाता है देख कर मंज़र,
    क्या गुज़री उन पर, ख़ुदा खैर करे.
    सच कहा है बड़ी ही दुखद घटना है
    सामायिक रचना है !

    ReplyDelete

  42. शानदार प्रस्तुति मार्मिक प्रसंग उठाती बे -गैरतों को फटकारती सी ...शुक्रिया आपकी टिप्पणियों का

    ReplyDelete
  43. बेहद सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  44. बेहद सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  45. अगर यही है तेरी मर्जी तो क्या करे कोई
    कैसी मजबूरी है देखो, खुदा खैर करे ।

    ReplyDelete
  46. दुखद घटना..ख़ुदा खैर करे .......

    ReplyDelete
  47. दुखद घटना...ख़ुदा खैर करे .......

    ReplyDelete