Friday, January 27, 2012

हाइकु - बसन्त पर

(१)
पीले हैं खेत  
प्रमुदित है मन
आया बसंत.

(२)
सर्दी है गयी
सूरज घर आया
खिले हैं फूल.

(३)
पीले हैं फूल
चेहरा भी है पीला
दूर है कन्त.

(४)
फूली सरसों
प्रियतम है दूर 
कैसा बसंत?

(५)
बदले रंग
महंगाई के संग
फीका बसंत.


कैलाश शर्मा 

47 comments:

  1. ऋतुराज पर सुन्दर हाईकु ।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही बढि़या भाव संयोजन बसंत पर ...

    ReplyDelete
  3. वसंतागम का सौंदर्य और मानव मन पर उपकी विभिन्न प्रतिक्रियाओं का सुन्दर निरूपण !

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर..बसंत का सुखद अहसास..

    ReplyDelete
  5. पीले हैं खेत
    प्रमुदित है मन
    आया बसंत
    बहुत सुन्दर,पंचमी की शुभकामनाये !

    ReplyDelete
  6. बसंत का सुखद अहसास|सुन्दर हाईकु।

    ReplyDelete
  7. वाह...
    बेहतरीन हायेकु...सुन्दर बसंत...
    सादर.

    ReplyDelete
  8. एक बसंत के कितने सारे रंग... बहुत सुन्दर... आभार आपका

    ReplyDelete
  9. बसंत के आगमन पर सुंदर हाइकु

    ReplyDelete
  10. सर्दी है गयी
    सूरज घर आया
    खिले हैं फूल.

    (३)
    पीले हैं फूल
    चेहरा भी है पीला
    दूर है कन्त.
    सुन्दर पंक्तियाँ खूबसूरत रचना |

    ReplyDelete
  11. पीले हैं फूल
    चेहरा भी है पीला
    दूर है कन्त.

    बहुत बढ़िया हाइकू

    ReplyDelete
  12. सर बहुत ही सुन्दर हाईकू |

    ReplyDelete
  13. आपके हाइकू ने बसंत को हाइ पर पहुँचा दिया है।

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन हाइकु... बसंत का स्वागत!

    ReplyDelete
  15. पीले पीले हाईकू...वसंत पंचमी की शुभकामनाये

    ReplyDelete
  16. बेहतरीन हाइकु

    ReplyDelete
  17. शानदार।
    बसंत पंचमी की शुभकामनाएं....

    ReplyDelete
  18. बसंत पंचमी की शुभकामनायें , माँ शारदे को नमन

    ReplyDelete
  19. बदले रंग
    महंगाई के संग
    फीका बसंत.
    bhaut hi sundar sharma ji.... badhai .

    ReplyDelete
  20. वह शर्मा जी
    जवाब नहीं आपका...बेहतरीन हाइकु
    बसंत पंचमी की शुभकामनाएं....!

    ReplyDelete
  21. bahut khub kailaash ji basnt ke kaee rup ek sath dikha diye aap ne...bdhaai...

    ReplyDelete
  22. गौ वंश रक्षा मंच ,सब गौ प्रेमियों को सादर आमंत्रित करता है के अपने विचार /सुझाव/लेख/ कविताये मंच पर रक्खें ,मंच के सदस्य बने ,और मंच के लेखको में अपना नाम जोड़ कर मंच को गरिमा प्रदान करें ....गौ हम सब की माँ है , माँ के लिए एक जुट होना हमारा फ़र्ज़ है.....

    ( http://gauvanshrakshamanch.blogspot.com/ गौ वंश रक्षा मंच )



    अपनी रचनाएं इस पते पर भेजे raadheji@gmail.com

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर हाइकू |

    ReplyDelete
  24. सारगर्भित हाइकू...बहुत बढिय़ा |

    ReplyDelete
  25. मन की गहराइयों को छोटी हुयी सत्य को भी प्रकट करती सामयिक हाइकू. अपने कथ्य में बेजोड़ और सन्दर्भ में गहण. बसंत पर्व की सूखी सी बधाई. बिना गुलाल कैसा बसंतोत्सव? आभार इस संवेदनशील हाइकू के लिए.

    ReplyDelete
  26. बसंत उत्सव की शुभकामनएं ...

    ReplyDelete
  27. कुछ अनुभूतियाँ इतनी गहन होती है कि उनके लिए शब्द कम ही होते हैं !
    बहुत बेहतरीन और प्रशंसनीय.......
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  28. बसंत की सूक्ष्म चित्रकारी अच्छी लगी।

    ReplyDelete
  29. बहोत अच्छे ।

    नया ब्लॉग

    http://hindidunia.wordpress.com/

    ReplyDelete
  30. क्या बात है ...वाह

    ReplyDelete
  31. बदले रंग
    महंगाई के संग
    फीका बसंत.

    वाह.........
    बसंत पंचमी की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  32. वाह...क्या बात है,...बेहतरीन प्रस्तुति,

    कैलाश जी,...आपका फालोवर बन गया हूँ आप भी बने तो मुझे हार्दिक
    खुशी होगी,...
    welcome to new post --काव्यान्जलि--हमको भी तडपाओगे....

    ReplyDelete
  33. हाईकू बहुत अच्छे लगे |
    वसंत पञ्चमीं पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आशा पर

    ReplyDelete
  34. bahut sundar haiku.
    mere blog par bhi aayen.

    ReplyDelete
  35. वसंत को अलग-अलग उप में परिभाषित किया है..
    बढ़िया हाइकु

    ReplyDelete
  36. वसंत के कई रूप और सभी एक से बढ़कर एक.. आभार!

    ReplyDelete
  37. kam shabd
    sundar bat
    gahri paith....

    ReplyDelete
  38. .


    मन बसंती रंग में रंग गया …
    लेकिन, महंगाई और प्रियतम से दूरी … रंग में भंग डाल रहे हैं :(


    समय मिले तो देख लें…

    प्यारो न्यारो ये बसंत है !

    ReplyDelete
  39. वाह! खूबसूरत हाईकू सर...
    सादर

    ReplyDelete