Saturday, January 05, 2013

भूख


कोहरे से घिरी
कंपकंपाती सुबह,
कंधे पर बड़ा थैला
कूड़े के ढेर में ढूँढ़ती
प्लास्टिक की थैलियाँ,
शरीर पर पतला स्वेटर
अनजान ठंड से
अविश्वसनीय भारत की बेटी.

शायद पेट की भूख
भुला देती ठंड का अहसास
रोटी की जुगाड़ में,
भूखे पेट की ठंड
होती है असहनीय
मौसम की ठंड से.

चढ़ाये गरम कपड़ों की परत  
गुज़र गए लोग पास से
पर नहीं हुई सिहरन
मन या तन में,
शायद इंसानियत और अहसास
ज़म जाते इस मौसम में.

कैलाश शर्मा  

43 comments:

  1. भूख .... यही तो सच है , बहुत गहरा , बहुत कड़वा , बहुत बहुत शक्तिशाली .......... जो देता है हौसला, विकृति,... और न जाने क्या क्या !!!

    ReplyDelete
  2. शायद पेट की भूख
    भुला देती ठंड का अहसास
    रोटी की जुगाड़ में,
    भूखे पेट की ठंड
    होती है असहनीय
    मौसम की ठंड से.
    बहुत ही यथार्थवादी कविता |सुन्दर

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (06-01-2013) के चर्चा मंच-1116 (जनवरी की ठण्ड) पर भी होगी!
    --
    कभी-कभी मैं सोचता हूँ कि चर्चा में स्थान पाने वाले ब्लॉगर्स को मैं सूचना क्यों भेजता हूँ कि उनकी प्रविष्टि की चर्चा चर्चा मंच पर है। लेकिन तभी अन्तर्मन से आवाज आती है कि मैं जो कुछ कर रहा हूँ वह सही कर रहा हूँ। क्योंकि इसका एक कारण तो यह है कि इससे लिंक सत्यापित हो जाते हैं और दूसरा कारण यह है कि किसी पत्रिका या साइट पर यदि किसी का लिंक लिया जाता है उसको सूचित करना व्यवस्थापक का कर्तव्य होता है।
    सादर...!
    नववर्ष की मंगलकामनाओं के साथ-
    सूचनार्थ!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप बिलकुल सही करते हैं..

      Delete
  4. सुन्दर-प्रस्तुती ||
    आभार सर |

    ReplyDelete
  5. वातावरण भी समाज की तरह ठंडा हो गया।

    ReplyDelete
  6. बर्फ हुयी संवेदनाओं की मार्मिक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. मार्मिक प्रस्तुती

    ReplyDelete
  8. बहुत प्रभावशाली रचना

    ReplyDelete
  9. भूख की आग इतनी इन्हें इतनी गर्मी देती है की ठण्ड का अहसास भी नहीं होता... मार्मिक रचना... आभार

    ReplyDelete
  10. प्रभावशाली रचना सुन्दर-प्रस्तुती शायद पेट की भूख
    भुला देती ठंड का अहसास
    रोटी की जुगाड़ में,
    भूखे पेट की ठंड
    होती है असहनीय
    मौसम की ठंड से.

    चढ़ाये गरम कपड़ों की परत
    गुज़र गए लोग पास से
    पर नहीं हुई सिहरन
    मन या तन में,
    शायद इंसानियत और अहसास
    ज़म जाते इस मौसम में.

    ReplyDelete
  11. प्रभावी रचना जो सोचने को मजबूर करती है

    ReplyDelete
  12. पेट की भूख भुला देती ठंड का अहसास,,प्रभावशाली रचना,,,बहुत खूब कैलाश जी,,

    recent post: वह सुनयना थी,

    ReplyDelete
  13. बेहद मार्मिक प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  14. बहुत ही मार्मिक रचना है .... गरीबों की बिडंवना को दर्शाती !

    ReplyDelete
  15. गहन भाव लिए हुए है ये रचना ..
    मेरा एक शेर बाँटना चाहता हूँ
    "मंजरे-कातिल-तमाशबीन बनकर कुछ लोग ठहर गये
    देखूं तो इंसानियत के मायने बदल गऐ।"

    recent poem : मायने बदल गऐ

    ReplyDelete
  16. सर, अपने देश में तो ये आम नज़ारा है.... बेचारे नन्हे-नन्हे बच्चे भी ऐसी ठिठुरती सर्दी में काँपते रहते हैं...~ बहुत दुखद !:(
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  17. वाह बहुत खूब ...रचना ने दिल को छू लिया ...

    ReplyDelete
  18. चढ़ाये गरम कपड़ों की परत
    गुज़र गए लोग पास से
    पर नहीं हुई सिहरन
    मन या तन में,
    शायद इंसानियत और अहसास
    ज़म जाते इस मौसम में.

    ह्रदय छू गए ये शब्द. सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  19. भूखे पेट की ठंड
    होती है असहनीय
    मौसम की ठंड से.

    चढ़ाये गरम कपड़ों की परत
    गुज़र गए लोग पास से
    पर नहीं हुई सिहरन
    मन या तन में,


    मर्मस्पर्शी

    ReplyDelete
  20. यही सच है और इनकी मदद करना किसी बड़े पंडित के आशीर्वाद से भी ज्यादा महत्वपूर्ण है. आभार

    ReplyDelete
  21. बहुत खूब "शायद इंसानियत और अहसास
    ज़म जाते इस मौसम में".....आभार

    ReplyDelete
  22. आज के इंसानियत का यही हाल है ..

    ReplyDelete
  23. समाज में सभी लोगो का एक स्तर तो तय करना पड़ेगा जिस पर उसका हक हो.

    ReplyDelete
  24. चढ़ाये गरम कपड़ों की परत
    गुज़र गए लोग पास से
    पर नहीं हुई सिहरन
    मन या तन में,
    शायद इंसानियत और अहसास
    ज़म जाते इस मौसम में.मर्मस्पर्शी

    ReplyDelete
  25. कडक ठण्ड का असर ...
    इंसानियत भी जम गयी लगता है ... नया सूरज निकालना जरूरी है अब ...

    ReplyDelete
  26. भूख ही तो है जो कराती है सब कुछ ! गौरव के पात्र भी ...... और निर्लज्ज भी ...बहुत सुन्दर भाव
    नई पोस्ट :" अहंकार " http://kpk-vichar.blogspot.in

    ReplyDelete
  27. भूखा पेट बहुत कुछ करवाता है.कैलाश जी ..बहुत ही मार्मिक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  28. भूख की आग बड़ी भयानक होती है,क्या सर्दी क्या कोहरा।दिल को छू देने वाली बहुत ही मार्मिक प्रस्तुती।
    भूली -बिसरी यादें

    ReplyDelete
  29. बहुत मार्मिक रचना..गरीबी से बढ़कर कोई रोग नहीं..और भूख से बढ़कर कोई जरूरत नहीं..

    ReplyDelete
  30. मार्मिक भावाभिवय्क्ति.....

    ReplyDelete

  31. दिनांक 07/01/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  32. वेदना बहुत सशक्तता से अभिव्यक्त की गई है, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  33. शायद पेट की भूख
    भुला देती ठंड का अहसास
    रोटी की जुगाड़ में,
    भूखे पेट की ठंड
    होती है असहनीय
    मौसम की ठंड से.
    ...सच कहा आपने ....दुखद लेकिन यतार्थ जिसके आगे हम सब बेबस हैं ......

    ReplyDelete
  34. शायद इंसानियत और अहसास
    ज़म जाते इस मौसम में.....theek hi kah rahe hain.....

    ReplyDelete
  35. bahut hi prabhavshali rachana bilkul andar tk bhigo gyee ...abhar Shrma ji

    ReplyDelete
  36. आज इंसानियत और अहसास तो बे-मौसम ही जमे रहते है।

    ReplyDelete
  37. शायद शब्द में बहुत कुछ छुपा है

    ReplyDelete
  38. शायद पेट की भूख
    भुला देती ठंड का अहसास
    रोटी की जुगाड़ में,
    भूखे पेट की ठंड
    होती है असहनीय
    मौसम की ठंड से.
    बिल्‍कुल सच कहा आपने ...
    सादर

    ReplyDelete
  39. dil chu lia...
    rishabhprakash.blogspot.in

    ReplyDelete
  40. ठंड की मार झेलती हो या गर्मी की लू भूख तो मिटानी ही है . और हमारी संवेदना कभी जमी होती है तो कभी भीप बन कर उड गई होती है

    ReplyDelete