Wednesday, April 24, 2013

इंसानियत कराह रही अब मेरे शहर में


                                  (चित्र गूगल से साभार)

दहशतज़दा है हर चेहरा मेरे शहर में,
इंसान नज़र आते न अब मेरे शहर में.

अहसास मर गए हैं, इंसां हैं मुर्दों जैसे,
इक बू अज़ब सी आती है मेरे शहर में.

हर नज़र है कर जाती चीर हरण मेरा,
महफूज़ नहीं गलियां अब मेरे शहर में.

घर हो गए मीनारें, इंसान हुआ छोटा,
रिश्तों में न हरारत, अब मेरे शहर में.

लब भूले मुस्कराना, तन्हाई है आँखों में,
मिलते हैं अज़नबी से सब मेरे शहर में.

दौलत है छुपा देती हर ऐब है इंसां का,
इंसानियत कराह रही अब मेरे शहर में.

.....कैलाश शर्मा 

43 comments:

  1. हर नज़र है कर जाती चीर हरण मेरा,
    महफूज़ नहीं गलियां अब मेरे शहर में...

    सच कहा है ... शर्म आने लगी है अब अपने शहर को भी पहचानने में .... बहुत ही लाजवाब गज़ल है ...

    ReplyDelete
  2. वाह आदरणीय वाह वर्तमान परिस्थिति का बहुत ही सुन्दरता से वर्णन किया है आपने, बेहद सटीक कटु सत्य. ह्रदय की पीड़ा बयां कर दी आपने.

    ReplyDelete
  3. अज़नबी से सब................

    दौलत है छुपा देती हर ऐब है इंसां का,
    इंसानियत कराह रही अब मेरे शहर में...............वर्तमान कटु सत्‍य।

    ReplyDelete
  4. आज शहरों में दम तोडती संवेदनाओं का मर्मस्पर्शी चित्रण!

    ReplyDelete
  5. वर्तमान यथास्थिति का सटीक चित्रण...

    ReplyDelete
  6. आज की स्थिति का सही जायजा पेश करती सुंदर गज़ल

    ReplyDelete
  7. लब भूले मुस्कराना, तन्हाई है आँखों में,
    मिलते हैं अज़नबी से सब मेरे शहर में.
    शहरीकरण सब छीन रहा है हमसे ....और हम हैं कि छिनने दे भी रहे हैं ...
    यथार्थ कहती सुन्दर रचना ...!!

    ReplyDelete
  8. कैसे यह सब देखा जाये,
    रात अँधेरा घिरता जाये।

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया...
    लब भूले मुस्कराना, तन्हाई है आँखों में,
    मिलते हैं अज़नबी से सब मेरे शहर में.

    मन को छूती गुज़र गयी ग़ज़ल...
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  10. मन की बेकली को बहुत खूबसूरत अल्फाजों में ढाला है कैलाश जी ! बहुत बढ़िया गज़ल है ! दाद कबूल करें !

    ReplyDelete
  11. दिल में छाए असमंजस को सुन्दर शब्द देती रचना !!

    ReplyDelete
  12. आपकी यह प्रस्तुति कल के चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें

    ReplyDelete
  13. आज के भयावह और दर्दनाक हालात बयां करती आपकी हर पंक्ति ....

    ReplyDelete
  14. विकास के नाम पर सब कुछ छीन रहा है यह शहर... सटीक अभिव्यक्ति... आभार

    ReplyDelete
  15. हर नज़र है कर जाती चीर हरण मेरा,
    महफूज़ नहीं गलियां अब मेरे शहर में----

    वाकई वर्तमान का सच है,बहुत मार्मिक अंदाज में
    बयां करती रचना
    गहन अनुभूति
    बधाई

    ReplyDelete
  16. हम सभी मृतप्राय से हो गए हैं. इंसान कोई बचा नहीं, जो है सभी आत्माविहीन मानव...

    अहसास मर गए हैं, इंसां हैं मुर्दों जैसे,
    इक बू अज़ब सी आती है मेरे शहर में.

    ससामयिक चिंतन. सभी शेर बहुत उम्दा. शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  17. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 27/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  18. वर्त्तमान परिस्थिति का हुबहू चित्रण करती रचना

    latest post बे-शरम दरिंदें !
    latest post सजा कैसा हो ?

    ReplyDelete
  19. वाकई ऐसा ही भय है आजकल है ..किस गली किस नुक्कड़ पर कोई भेडिया खड़ा हो. सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  20. सोचने पर मजबूर करती हुई एक बेहतरीन ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  21. behtareen rachna.....aaj ka sach bayan karti..

    ReplyDelete
  22. सही कहा आपने , अब किस पर विश्वास कीजिये

    ReplyDelete
  23. कैलाश जी,आज के हालात कुछ ऐसी ही तस्वीर दिखा रहे हैं..लेकिन वक्त बदलेगा..

    ReplyDelete
  24. हर नज़र है कर जाती चीर हरण मेरा,
    महफूज़ नहीं गलियां अब मेरे शहर में.
    इन्सान सब कुछ भूल गया है,भावना भी,संवेदना भी.अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  25. आज के बिगड़ते हालात पर बेहतरीन प्रस्तुति,आभार.

    ReplyDelete
  26. bahut sunder .kripya mere blog par bhi padharen aapka swagat hai.

    ReplyDelete
  27. yatharth ka sundar sateek chitran...

    ReplyDelete
  28. लब भूले मुस्कराना, तन्हाई है आँखों में,
    मिलते हैं अज़नबी से सब मेरे शहर में.
    सही चित्रण आज की रुखी जिन्दगी की तस्वीर का .....
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  29. बहुत खूब


    हम सब के बीच से संवेदनाएँ खत्म हो रही हैं ...तभी आज कल बलात्कार की घटनाएँ भी ज़ोर पकड़े हुए हैं

    ReplyDelete
  30. आज की सबसे बड़ी वेदना ही यही है कि संवेदना ही समाप्त हो गयी है ....

    ReplyDelete
  31. बहुत प्रभावी ग़ज़ल

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर.. प्रभावी ग़ज़ल..आभार

    ReplyDelete
  33. बहुत खूब |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  34. बहुत अच्छी कविता...इंसानियत कराह रही है अब मेरे शहर में... आभार

    ReplyDelete
  35. अहसास मर गए हैं, इंसां हैं मुर्दों जैसे,
    इक बू अज़ब सी आती है मेरे शहर में.

    इंसानियत का बजूद बना रहे यही उम्मीद करनी चाहिये.

    ReplyDelete
  36. हर नज़र है कर जाती चीर हरण मेरा,
    महफूज़ नहीं गलियां अब मेरे शहर में.
    बहुत खूब !

    ReplyDelete
  37. सचबयानी के लिये वधाई !तभी तो समाज का दर्पण है |
    है इसकी बड़ी ग़ुरबत, आइना है मेरे हाथ में |
    इसकी तुझे ज़रूरत,आइना है मेरे हाथ में ||
    होता न यह अगर तो,सच सामने न आता-
    ले देख अपनी सूरत,आइना है मेरे हाथ में ||

    ReplyDelete
  38. घर हो गए मीनारें, इंसान हुआ छोटा

    पतन का यह सिला न जाने कहाँ थमेगा.अच्छी गज़ल.

    ReplyDelete
  39. दौलत है छुपा देती हर ऐब है इंसां का,
    इंसानियत कराह रही अब मेरे शहर में.

    बहुत खूब !

    बस कुछ बची कुची इंसानियत पर ही दुनिया टिकी है

    नई पोस्ट
    तेरे मेरे प्यार का अपना आशियाना !!


    ReplyDelete
  40. वाह बहुत ही सुन्दर लिखा है आपने।

    ReplyDelete