Tuesday, June 04, 2013

सुबह ढूंढेंगे फ़िर सपने, अभी तो शाम ढलती है


इन हथेली की लकीरों से, कहाँ तक़दीर बनती है,
मुसाफ़िर ही सदा चलते, कभी मंज़िल न चलती है.

चलो अब घर चलें, सुनसान कोने राह तकते हैं,
सुबह ढूंढेंगे फ़िर सपने, अभी तो शाम ढलती है.

यकीं है आख़िरी पल तक, वो इक बार आयेंगे,
रुको कुछ देर तो यारो, अभी तो साँस चलती है.

उठे न उंगलियां तुम पर, यही कोशिश रही अपनी,
शिकायत क्या करें उससे, जो गुनहगार कहती है.

रवायत इश्क़ की तेरी, समझ पाया न ये दिल है,
नहीं अब वक़्त भी बाक़ी, घड़ी की सुई चलती है.

कि देने छांव रिश्तों को, बनाया आशियां हमने,
दीवारें हो गयीं ज़र्ज़र, कि छत भी अब टपकती है.

....कैलाश शर्मा

49 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  2. वाह बहुत सुन्दर भाव..आभार..

    ReplyDelete
  3. चलो अब घर चलें, सुनसान कोने राह तकते हैं,
    सुबह ढूंढेंगे फ़िर सपने, अभी तो शाम ढलती है.

    बहुत खूबसूरत अल्फ़ाज़ है और उतनी ही खूबसूरती से उन्हें अभिव्यक्ति दी है ! बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर .
    रवायत इश्क़ की तेरी, समझ पाया न ये दिल है,
    नहीं अब वक़्त भी बाक़ी, घड़ी की सुई चलती है.

    कि देने छांव रिश्तों को, बनाया आशियां हमने,
    दीवारें हो गयीं ज़र्ज़र, कि छत भी अब टपकती है.

    ReplyDelete
  5. कि देने छांव रिश्तों को, बनाया आशियां हमने,
    दीवारें हो गयीं ज़र्ज़र, कि छत भी अब टपकती है...gazab ...kya khoob likha ....

    ReplyDelete
  6. वाह कैलाश जी .. लाजवाब गज़ल कही है आपने .. हरेक अश'आर पे मुँह से दाद निकलती है .. आखिरी शेर तो गज़ब का बन पड़ा है
    कि देने छांव रिश्तों को, बनाया आशियां हमने,
    दीवारें हो गयीं ज़र्ज़र, कि छत भी अब टपकती है.
    क्या बात है ..
    ऐसी सुन्दर प्रस्तुति के लिए हृदय से आभार!

    ReplyDelete
  7. खूबसूरत गज़ल के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  8. Waah! bahut khoob...
    Antim panktiyan- jawab nahi...behtareen

    ReplyDelete
  9. बहुत ही बढियां रचना. ये पंक्तियाँ विशेष रूप से अच्छी लगी:
    "यकीं है आख़िरी पल तक, वो इक बार आयेंगे,
    रुको कुछ देर तो यारो, अभी तो साँस चलती है."

    -अभिजित (Reflections)

    ReplyDelete
  10. बहुत बढिया रचना!

    ReplyDelete
  11. बहुत ही बढियां रचना. उठे न उंगलियां तुम पर, यही कोशिश रही अपनी,
    शिकायत क्या करें उससे, जो गुनहगार कहती है.

    रवायत इश्क़ की तेरी, समझ पाया न ये दिल है,
    नहीं अब वक़्त भी बाक़ी, घड़ी की सुई चलती है.

    कि देने छांव रिश्तों को, बनाया आशियां हमने,
    दीवारें हो गयीं ज़र्ज़र, कि छत भी अब टपकती है.

    ReplyDelete
  12. कि देने छांव रिश्तों को, बनाया आशियां हमने,
    दीवारें हो गयीं ज़र्ज़र, कि छत भी अब टपकती है.

    वाह!!!क्या बात है,इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए दिल से बधाई,,,
    बहुत सुंदर गजल ,,,

    recent post : ऐसी गजल गाता नही,

    ReplyDelete
  13. वाह! खुबसूरत और सार्थक सन्देश ......
    समेट के बैठ जाओ ,बचे हुए सपनों को
    कि तोड़ने को आज की भीड़ लपकती है ...

    ReplyDelete
  14. आपकी यह रचना कल बुधवार (05 -06-2013) को ब्लॉग प्रसारण के "विशेष रचना कोना" पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल बुधवार (05-06-2013) के "योगदान" चर्चा मंचःअंक-1266 पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार शास्त्री जी...

      Delete

  16. चलो अब घर चलें, सुनसान कोने राह तकते हैं,
    सुबह ढूंढेंगे फ़िर सपने, अभी तो शाम ढलती है.-----

    सहजता से जीवन का गहन अहसास कराती रचना
    बहुत खूब
    सादर


    आग्रह है
    गुलमोहर------

    ReplyDelete
  17. चलो अब घर चलें, सुनसान कोने राह तकते हैं,
    सुबह ढूंढेंगे फ़िर सपने, अभी तो शाम ढलती है.

    यकीं है आख़िरी पल तक, वो इक बार आयेंगे,
    रुको कुछ देर तो यारो, अभी तो साँस चलती है.

    बहुत खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर भावनात्मक अभिव्यक्ति ..आभार . धरती माँ की चेतावनी पर्यावरण दिवस पर
    साथ ही जानिए संपत्ति के अधिकार का इतिहास संपत्ति का अधिकार -3महिलाओं के लिए अनोखी शुरुआत आज ही जुड़ेंWOMAN ABOUT MAN

    ReplyDelete
  19. सराहनीय -.सुन्दर पोस्ट हेतु आभार . . हम हिंदी चिट्ठाकार हैं.
    BHARTIY NARI .

    ReplyDelete
  20. हर शेर बहुत मन भाया.

    ReplyDelete
  21. बहुत अच्छे डाक्टर साहेब , बेहतरीन भाव समेटे हैं सारे शब्द । शेर गज़ल की तो हमें पहचान नहीं , हां दिल को छूते हैं जब शब्द तो सुकून मिलता है । शुक्रिया

    ReplyDelete
  22. उठे न उंगलियां तुम पर, यही कोशिश रही अपनी,
    शिकायत क्या करें उससे, जो गुनहगार कहती है.

    यह ग़ज़ल तो संकलन योग्य है कैलाश भाई,
    दिल को छू गयी !!

    बधाई आपको !

    ReplyDelete
  23. चलो अब घर चलें, सुनसान कोने राह तकते हैं,
    सुबह ढूंढेंगे फ़िर सपने, अभी तो शाम ढलती है.
    - शेर-गज़ल हमें भी नहीं मालूम पर कहने का ढंग और उनमें निहित भाव गहन प्रभाव डालता है !

    ReplyDelete
  24. रवायत इश्क़ की तेरी, समझ पाया न ये दिल है,
    नहीं अब वक़्त भी बाक़ी, घड़ी की सुई चलती है.

    कि देने छांव रिश्तों को, बनाया आशियां हमने,
    दीवारें हो गयीं ज़र्ज़र, कि छत भी अब टपकती है.

    वाह बहुत खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  25. वाह ! सुंदर शब्द और दिल को छूने वाले भाव..

    ReplyDelete
  26. शिकायत क्या करें उससे, जो गुनहगार कहती है........बहुत खूब।

    ReplyDelete
  27. वाह.......खुबसूरत ग़ज़ल।

    ReplyDelete
  28. उठे न उंगलियां तुम पर, यही कोशिश रही अपनी,
    शिकायत क्या करें उससे, जो गुनहगार कहती है.
    अच्छी ग़ज़ल

    ReplyDelete
  29. वाह वाह ...लाजवाब रचना अंतिम पंक्तियाँ अत्यंत प्रभावशाली लगी।

    ReplyDelete
  30. bahut sundar rachna....badhayi

    ReplyDelete
  31. रवायत इश्क़ की तेरी, समझ पाया न ये दिल है,
    नहीं अब वक़्त भी बाक़ी, घड़ी की सुई चलती है......बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  32. रवायत इश्क़ की तेरी, समझ पाया न ये दिल है,
    नहीं अब वक़्त भी बाक़ी, घड़ी की सुई चलती है.

    sundar gajal sir..

    ReplyDelete
  33. सुन्दर ग़ज़ल

    ReplyDelete
  34. बहुत सुन्दर, भावरवायत इश्क़ की तेरी, समझ पाया न ये दिल है,
    नहीं अब वक़्त भी बाक़ी, घड़ी की सुई चलती है.

    ReplyDelete
  35. सभी शेर एक से बढ़कर एक

    ReplyDelete
  36. उठे न उंगलियां तुम पर, यही कोशिश रही अपनी,
    शिकायत क्या करें उससे, जो गुनहगार कहती है.

    बहुत सुंदर रचना. अदभुत भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  37. यकीं है आख़िरी पल तक, वो इक बार आयेंगे,
    रुको कुछ देर तो यारो, अभी तो साँस चलती है.
    बहुत खूबसूरत... लाज़वाब रचना... आभार

    ReplyDelete
  38. चलो अब घर चलें, सुनसान कोने राह तकते हैं,
    सुबह ढूंढेंगे फ़िर सपने, अभी तो शाम ढलती है.
    अदभुत रचना ,सुन्दर ग़ज़ल

    ReplyDelete
  39. यकीं है आख़िरी पल तक, वो इक बार आयेंगे,
    रुको कुछ देर तो यारो, अभी तो साँस चलती है...

    प्यार पे यकीन अंतिम समय ... बहुत ही लाजवाब है ...
    पूरी गज़ल सुन्दर शेरों से सज्जित है ...

    ReplyDelete
  40. कि देने छांव रिश्तों को, बनाया आशियां हमने,
    दीवारें हो गयीं ज़र्ज़र, कि छत भी अब टपकती है.

    बेहतरीन सरजी.. !!

    ReplyDelete
  41. यकीं है आख़िरी पल तक, वो इक बार आयेंगे,
    रुको कुछ देर तो यारो, अभी तो साँस चलती है.

    वाह ! बहुत खूब :)

    ReplyDelete