Wednesday, June 13, 2012

बेटियाँ

दो दो घरों की इज्ज़त औ' प्यार बेटियाँ,
कुदरत का सबसे अनुपम उपहार बेटियाँ.


लगती है आग ज़ब, घर के चिराग से,
शीतल बयार बनकर, आती हैं बेटियाँ.


जब भी हैं घेर लेतीं, तनहाइयां मुझे,
मीठी सी याद बनकर आती हैं बेटियाँ.


बंट जाती फ़र्ज़ में, दो दो घरों के बीच,
फ़िर भी पराये घर की लगती न बेटियाँ.


आँगन भले ही सूना, जाने के उसके बाद,
दिल के करीब हर दम, रहती हैं बेटियाँ.


कैलाश शर्मा 

48 comments:

  1. वाह SIR पढ़ कर मज़ा आ गया
    (अरुन = arunsblog.in)

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर....................

    एक बेटी होने के नाते मुझे आपकी कविता और भी ज्यादा भाई......
    सादर.

    ReplyDelete
  3. आँगन भले ही सूना, जाने के उसके बाद,
    दिल के करीब हर दम, रहती हैं बेटियाँ.


    वाकई बेटियाँ दिल के करीब होती हैं.

    ReplyDelete
  4. वाह !
    बेटियों के लिए इतनी अच्छी-अच्छी बातें...
    पढ़कर बहुत अच्छा लगा.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेटियाँ होती ही इतनी अच्छी हैं....

      Delete
  5. अब तो करती हैं कमाल बेटियाँ,
    बूढ़े बाप का रखतीं खयाल बेटियाँ !

    ReplyDelete
  6. सुन्दर और सार्थक पोस्ट।

    ReplyDelete
  7. सच ऐसी ही होती हैं बेटियाँ

    ReplyDelete
  8. वाह,,,, बहुत सुंदर प्रस्तुति,,,सच मुच ऐसी ही होती है बेटियाँ,,,,,,

    MY RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: विचार,,,,

    ReplyDelete
  9. जब भी हैं घेर लेतीं, तनहाइयां मुझे,
    मीठी सी याद बनकर आती हैं बेटियाँ.
    वाह ..बहुत ही बढिया।

    ReplyDelete
  10. जिम्मेदारी का वहन, करती बहन सटीक |
    मौके पर मिलती खड़ी, बेटी सबसे नीक |
    बेटी सबसे नीक, पिता की गुड़िया रानी |
    चले पकड़ के लीक, बेटियां बड़ी सयानी |
    रविकर का आशीष, बेटियाँ बढ़ें हमारी |
    मातु-पिता जा चेत, समझ निज जिम्मेदारी ||

    ReplyDelete
  11. आपकी बात से सहमत हूँ!
    अच्छी भावाभिव्यक्ति है।

    ReplyDelete
  12. बहुत प्यारी सी रचना...
    सादर

    ReplyDelete
  13. बहुत प्यारी और सुन्दर रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर रचना... " करते विदा जब डोली में,तब पराई होजाती है बेटियां
    उदास मन सूना आँगन, फिर बहुत याद आती है बेटियां.."....

    ReplyDelete
  15. ...मनभावन रचना...आपने बहुत ही बढ़िया रचना पोस्ट की है!

    ReplyDelete
  16. बेहतरीन . दिलकी आवाज़ और सच्चाई को शब्द मिले,

    ReplyDelete
  17. betiyan....jo baant de apni sari khushiya...vahi kahlati hain betiyan.

    sunder prastuti.

    ReplyDelete
  18. बहुत प्यारी और सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  19. आपकी पोस्ट कल 14/6/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा - 902 :चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  20. आपने टिप्पणी में सच कहा बेटीयों होती ही इतनी अच्छी है

    हिन्दी दुनिया ब्लॉग (नया ब्लॉग)

    ReplyDelete
  21. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 14-06-2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में .... ये धुआँ सा कहाँ से उठता है .

    ReplyDelete
  22. Betiyan aisi hi hoti hain ... Khushiyan le ke Aati hain .. Khushiyan bhar jaati hain jeevan mein ...

    ReplyDelete
  23. सुंदर रचना !!

    ReplyDelete
  24. चाहे कही भी हो दुनिया में दिल में हर पल रहती है बेटीया

    ReplyDelete
  25. बेटियाँ उन लहरों से जुडी होती हैं , जिनके थपेड़े माँ बाप सहते हुए हँसते हैं -

    ReplyDelete
  26. काश ! इस सच को लोग याद रख सकें ......

    ReplyDelete
  27. बेहतरीन, बहुत प्यारी और सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  28. मेरे लिए सबसे अच्छा शेर यही है शर्मा जी

    दो दो घरों की इज्ज़त औ' प्यार बेटियाँ,
    कुदरत का सबसे अनुपम उपहार बेटियाँ.

    बधाई !!

    ReplyDelete
  29. लगती है आग ज़ब, घर के चिराग से,
    शीतल बयार बनकर, आती हैं बेटियाँ.
    हर दम ही दिल के पास रहतीं हैं बेटियाँ ,जब बे -दिली हो घर में .....बहुत बढ़िया रचना है सच्चे एहसासों की ज़िन्दगी के अनुभूत सच की .

    ReplyDelete
  30. कल 15/06/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  31. इन्हें कैसे भुलाएं हम, हमारे साथ रहती हैं !
    हमारे घर में रौनक,सिर्फ इनके साथ होती है !

    ReplyDelete
  32. सच कहा आपने, दो घरों को महकाती हैं बेटियाँ..

    ReplyDelete
  33. बड़ी प्यारी होती हैं ये बेटियाँ ....दिल के करीब होती हैं ये बेटियाँ

    ReplyDelete
  34. लगती है आग ज़ब, घर के चिराग से,
    शीतल बयार बनकर, आती हैं बेटियाँ...

    bahut sundar...

    .

    ReplyDelete
  35. बेटियां न हो तो कुछ नहीं...

    ReplyDelete
  36. aadarniy sir
    betiyan to gharon ki shan hoto hain .
    fir bhi samaaj me bete -betiyon me antar ythavat hai.
    sach likh hai aapne betiyon se hi to ghar ka kona -kona mahkta hai.
    behtreen post
    poonam

    ReplyDelete
  37. sach me betiyan to dil ki dharkan hoti hai..

    ReplyDelete
  38. बेटियाँ.......एक जिम्मेदारी
    पत्नी........एक जिम्मेदारी
    माँ.........एक जिम्मेदारी
    आखिर...........
    कब तक रहेगी जिम्मेदार नारी
    क्यों बहलाते है बोलकर प्यारी

    ReplyDelete
  39. आँगन भले ही सूना, जाने के उसके बाद,
    दिल के करीब हर दम, रहती हैं बेटियाँ.
    दिल को छूने वाली पंक्तियाँ !

    ReplyDelete
  40. one word will suffice
    BEAUTIFUL.. :)

    ReplyDelete
  41. आपकी बात से सहमत हूँ!

    ReplyDelete
  42. कल 25/04/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  43. सुंदर मनमोहक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  44. एक माँ के लिए पूर्णता का अहसास है बेटियाँ

    ReplyDelete