Monday, May 21, 2012

नदी और नारी

नदी और नाला
बहता है पानी 
दोनों में.
एक में स्नान करके
समझते हैं 
मुक्त हो गये सभी पापों से
और दूसरे के पास से 
गुज़र जाते हैं
ज़ल्दी ज़ल्दी
नाक पर रूमाल रख के.


पानी तो पानी है
नदी का या नाले का,
फ़र्क पैदा करता है 
सिर्फ़ आदमी
बहाकर अपनी गन्दगी.


नदी या नारी
होती हैं दोनों अभिशप्त 
आदमी की हैवानियत से
जो बना देता है 
एक नदी को गन्दा नाला,
और एक नारी को 
बैठा देता है कोठे पर
उठा कर फ़ायदा 
उसकी मज़बूरी का
और गुज़रता है दिन में 
ओढ़ कर शराफत का लवादा,
काले चश्मे के अन्दर से
ताकते दूषित नज़रों से.

कैलाश शर्मा

42 comments:

  1. पानी तो पानी है
    नदी का या नाले का,
    फ़र्क पैदा करता है
    सिर्फ़ आदमी
    बहाकर अपनी गन्दगी

    real....super kavita

    ReplyDelete
    Replies
    1. http://blondmedia.blogspot.in/

      Delete
  2. बहतु गंभीर कविता... सुन्दर...

    ReplyDelete
  3. बहुत गहन अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  4. वाह कैलाश जी ...बहुत गंभीर बात को इंगित किया है आपने कविता के माध्यम से है

    ReplyDelete
  5. पानी तो पानी है
    नदी का या नाले का,
    फ़र्क पैदा करता है
    सिर्फ़ आदमी
    बहाकर अपनी गन्दगी
    गहन अभिव्यक्ति...आभार

    ReplyDelete
  6. नदी या नारी
    होती हैं दोनों अभिशप्त
    आदमी की हैवानियत से
    जो बना देता है
    एक नदी को गन्दा नाला,
    और एक नारी को
    बैठा देता है कोठे पर

    बहुत ही सुन्दर .....शानदार ।

    ReplyDelete
  7. गहन भाव लिए उत्‍कृष्‍ट लेखन ...आभार ।

    ReplyDelete
  8. पानी तो पानी है
    नदी का या नाले का,
    फ़र्क पैदा करता है
    सिर्फ़ आदमी
    बहाकर अपनी गन्दगी.
    Kitni sachhee baat kah dee aapne!

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुन्दर ..

    ReplyDelete
  10. बहुत सही बिम्ब से उकेरा है सचाई !

    ReplyDelete
  11. गंभीर चिंतन... सुंदर रचना...
    सादर।

    ReplyDelete
  12. http://dcgpthravikar.blogspot.in/search/label/%E0%A4%B8%E0%A4%B0%E0%A4%BF%E0%A4%A4%E0%A4%BE
    बहुत बढ़िया प्रस्तुति |
    सटीक विवरण |

    भूल गई पहचान वो, खोयी सरस स्वभाव।
    तड़पन बढती ही गई, नमक नमक हर घाव ।

    छूट जनक का घर बही, झेली क्रूर निगाह ।
    स्वाहा परहित हो गई, पूर्ण हुई न चाह ।।

    ReplyDelete
  13. बहुत सार्थक व प्रभावशाली अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन रचना, सार्थक और प्रभावशाली
    नदी ही तो है नारी ..

    ReplyDelete
  15. Sir, sunder prastuti! Par hame kisi bhi stri ko gande naale se nahi jodna chahiye. Gande woh hain jinki wajah se ek stri kshoshit hoti hai... man ki sunderta peshe se khatm nahi hoti... jis tarah ganga mein gande haath dhone se ganga apavitr nahi hoti... please forgive me for being oppositional

    ReplyDelete
    Replies
    1. मैं आपकी बात से पूरी तरह सहमत हूँ, और मेरा उद्देश्य भी गंदे नाले या किसी पेशे को अपवित्र कहने का नहीं है. मैं तो यही कहना चाहता हूँ कि दोनों ही पवित्र हैं और दोषी हैं केवल वे इंसान जो इन्हें गन्दा करते हैं और फ़िर भी शरीफ़ बनने का ढोंग करते हैं. मेरी ये पंक्तियाँ यही बात कहना चाहती हैं :

      पानी तो पानी है
      नदी का या नाले का,
      फ़र्क पैदा करता है
      सिर्फ़ आदमी
      बहाकर अपनी गन्दगी

      मैंने दोनों ही स्तिथियों में दोष आदमियों को दिया है जो दोषी हैं इस गन्दगी को फैलाने के, वह चाहे नदी में हो या नारी में. आशा है मेरा मंतव्य स्पष्ट होगया होगा, क्योंकि मैं भी वही कहना चाह रहा हूँ, जो आप कह रही हैं. आभार

      Delete
  16. उम्दा रचना बेहद खुबसूरत
    अरुन (arunsblog.in)

    ReplyDelete
  17. नदी या नारी
    होती हैं दोनों अभिशप्त
    आदमी की हैवानियत से
    जो बना देता है
    एक नदी को गन्दा नाला,
    और एक नारी को
    बैठा देता है कोठे पर
    उठा कर फ़ायदा
    उसकी मज़बूरी का
    और गुज़रता है दिन में
    ओढ़ कर शराफत का लवादा,
    काले चश्मे के अन्दर से
    ताकते दूषित नज़रों से... बहुत सही व्याख्या और उत्कृष्ट रचना

    ReplyDelete
  18. गहन चिंतन लिए हुए सार्थक रचना....
    अति सुन्दर.....

    ReplyDelete
  19. पानी तो पानी है
    नदी का या नाले का,
    फ़र्क पैदा करता है
    सिर्फ़ आदमी
    बहाकर अपनी गन्दगी.

    बहुत अच्छी सार्थक और प्रभावशाली प्रस्तुति,,,,

    RECENT POST काव्यान्जलि ...: किताबें,कुछ कहना चाहती है,....

    ReplyDelete
  20. sateek tulna ki hai aapne nari jeevan v nadi ki .aabhar

    ReplyDelete
  21. तभी तो कहता हूँ
    ये कैसी आस्था है?
    जिसका
    सिर्फ़ गन्दगी से वास्ता है।
    तन से निकालते हैं
    नदी के पानी में फेकते हैं
    मन से निकालते हैं
    स्त्री की देह में फेकते हैं।
    दोनो के हिस्से मे आती है
    हमारी वासना ...
    हमारी प्रताड़ना।
    नदी
    मर रही है
    और स्त्री
    मर-मर के जी रही है।

    ReplyDelete
  22. बहुत ही सटीक बिंब
    नदी और नारी!!
    कौशलेन्द्र जी की टिप-कविता भी ला-जवाब

    ReplyDelete
  23. prabhavshaali prateekon k prayog se rachna seedha dil pat aaghaat karti hai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. चिंतन देती हुइ ...गम्भीर ,मर्मिक अभिव्यक्ति ..!!

      Delete
  24. वाह सर एक दम सटीक बात कहती एवं यथार्थ का आईना दिखती बेहद सार्थक पोस्ट....

    ReplyDelete
  25. sach ko batlati khoobsurat rachna

    ReplyDelete
  26. नदी या नारी
    होती हैं दोनों अभिशप्त
    आदमी की हैवानियत से
    जो बना देता है
    एक नदी को गन्दा नाला,
    और एक नारी को
    बैठा देता है कोठे पर

    WAAH...BEJOD...

    NEERAJ

    ReplyDelete
  27. आदमी के वीभत्स रूप कों लिखा है आपने .. औए ये सच भी है ...
    पुरुष न जाने कब इस बात कों समझेगा ...

    ReplyDelete
  28. घर के ,नगर के
    सब द्वार खुले हैं ,
    मैं तो कैदी हूँ ,
    अपने ही विचारों का
    अपने ही आचरण का ..........हर इंसान अपनी ही सोच से नीचे गिरता हैं और अपने साथ जुड़ने वाले को भी भी नहीं छोड़ता ......अनु

    ReplyDelete
  29. घर के ,नगर के
    सब द्वार खुले हैं ,
    मैं तो कैदी हूँ ,
    अपने ही विचारों का
    अपने ही आचरण का ..........हर इंसान अपनी ही सोच से नीचे गिरता हैं और अपने साथ जुड़ने वाले को भी भी नहीं छोड़ता ......अनु

    ReplyDelete
  30. सीरत और सूरत का भेद बताती, गहन चिंतन से युक्त ...बहुत बहुत बहुत ही सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  31. बहुत बढ़िया रचना है भाई साहब आदमी की फितरत बयान नकारती है और उस पर तुर्रा यह .बहती गंगा में हाथ धौ लो ....खूब करो मैली गंगा को ,..कृपया यहाँ भी पधारें -
    भ्रूण जीवी स्वान
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/2012/05/blog-post_22.html
    ram ram bhai .कृपया यहाँ भी पधारें -
    मंगलवार, 22 मई 2012
    ये बोम्बे मेरी जान (भाग -5)
    http://veerubhai1947.blogspot.in/
    यह बोम्बे मेरी जान (चौथा भाग )http://veerubhai1947.blogspot.in/




    कृपया यहाँ भी पधारें -
    दमे में व्यायाम क्यों ?
    दमे में व्यायाम क्यों ?
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/2012/05/blog-post_5948.html

    ReplyDelete
  32. बहुत भावपूर्ण कविता !

    ReplyDelete
  33. बहुत ही गहरे और सुन्दर भावो को रचना में सजाया है आपने.....

    ReplyDelete
  34. जल और उसके प्रतीकों को यथासंभव पवित्र रखा जाये।

    ReplyDelete
  35. gahan hridysparshi abhivyakti.
    yah sochna hoga ki gandagi aati kahan se hai.
    gandgi ke srot ka hi unmulan hona jaroori hai.
    varna nadi ko bhi naalaa banne men der n lagegi.

    ReplyDelete